मनुष्य के बारे में प्रश्न


मनुष्य के बारे में प्रश्न

इसका क्या अर्थ है कि मनुष्य परमेश्वर के स्वरूप और समानता में सृजा गया है (उत्पत्ति 1:26-27)?

क्या हमारे पास दो या तीन भाग हैं? क्या हम शरीर, प्राण और आत्मा हैं - या – आत्मा, प्राण-आत्मा हैं?

प्राण और मनुष्य की आत्मा के बीच में क्या अंतर है?

उत्पत्ति में लोगों ने लंबे समय तक जीवन यापन क्यों किया?

विभिन्न जातियों का उदगम क्या है?

बाइबल नस्लवाद, पूर्वाग्रह और पक्षपात के बारे में क्या कहती है?

क्या जीवन जीने के लिए कोई आयु सीमा निर्धारित है?

क्या हम सभी, या केवल मसीही विश्‍वासी ही परमेश्‍वर की सन्तान हैं?

मानवीय क्लोनिंग अर्थात् प्रतिरूपण के प्रति मसीही दृष्टिकोण क्या है?

दाह संस्कार के बारे में बाइबल क्या कहती है? क्या मसीही विश्‍वासियों को शव जलाना चाहिए?

बाइबल इच्छामृत्यु/सहायता प्राप्त आत्महत्या के बारे में क्या कहती है?

भयानक और अद्भुत रीति से रचा गया हूँ का क्या अर्थ है (भजन संहिता 139:14)?

क्या मनुष्य के पास सच में स्वतंत्र इच्छा है?

क्या प्रत्येक व्यक्ति में एक 'परमेश्‍वर-के-आकार का रिक्त' स्थान है?

क्या मनुष्य परमेश्‍वर के बिना रह सकता है?

मनुष्य के प्राण कैसे रचे गए?

क्या मानवीय प्राण नश्‍वर या अमर है?

परमेश्‍वर ने हमें क्यों बनाया?



हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए



मनुष्य के बारे में प्रश्न