लम्बे जीवन को जीने के बारे में बाइबल क्या कहती है?


प्रश्न: लम्बे जीवन को जीने के बारे में बाइबल क्या कहती है?

उत्तर:
"अपने माता और पिता का आदर कर — यह पहली आज्ञा है जिसके साथ प्रतिज्ञा भी है — कि तेरा भला हो, और तू धरती पर बहुत दिन जीवित रहे" (इफिसियों 6:3-4)। इस सन्दर्भ में, प्रेरित पौलुस दस आज्ञाओं में से विशेष रूप से, निर्गमन 20:12 को उद्धृत कर रहा है: "तू अपने पिता और अपनी माता का आदर करना, जिससे जो देश तेरा परमेश्‍वर यहोवा तुझे देता है उसमें तू बहुत दिन तक रहने पाए।" यह हमारे जीवन के प्रति एक प्रतिफल के रूप में लम्बे जीवन को जोड़ने वाले परमेश्‍वर के एकमात्र उदाहरण का प्रतिनिधित्व करता है। क्या आपने माता-पिता का आदर करने के लिए लम्बे जीवन की यह प्रतिज्ञा सच है? और, यदि हाँ, तो अपने माता-पिता को इतना सम्मान क्यों दिया जाता है कि वह परमेश्‍वर की दृष्टि में इतनी अधिक मूल्यवान है कि वह इसे लम्बे जीवन की आशीष के साथ प्रतिफल स्वरूप प्रदान करता है?

सबसे पहले, हाँ, यह प्रतिज्ञा सच है, परन्तु अपने सार्वभौमिक अर्थ में नहीं। ऐसे लोग भी पाए जाते हैं, जिन्होंने अपने माता-पिता को सम्मानित किया था, परन्तु उनकी मृत्यु युवा अवस्था में ही हो जाती है। और ऐसे लोग भी हैं जिन्होंने अपने माता-पिता का सम्मान नहीं किया परन्तु वे लम्बे जीवन को यापन करते हैं। इसलिए, यह एक सिद्धान्त है, जो सामान्य रूप से सच है। यदि आप अपने माता-पिता का सम्मान करते हैं, तो परमेश्‍वर सामान्य रूप से आपको लम्बे जीवन की आशीष के साथ प्रतिफल देगा। यद्यपि, यह प्रतिज्ञा अन्य निर्णयों को निरस्त नहीं करती है, जो इस बात को प्रभावित करती है कि हम कब तक जीवित रहते हैं। उदाहरण के लिए, यदि कोई व्यक्ति अपने माता-पिता का सम्मान करता है, परन्तु तत्पश्‍चात् आत्महत्या करने का निर्णय लेता है, तो आत्महत्या का कार्य लम्बे जीवन के प्रतिफल को "नकार" देता है। उन लोगों के बारे में भी ऐसा ही कहा जा सकता है, जो लापरवाह और खतरनाक गतिविधियों में संलग्न हैं। माता-पिता को आदर करने के लिए लम्बे जीवन का परमेश्‍वर का प्रतिफल आश्‍चर्यजनक रूप से आपको गम्भीर ठेस पहुँचने या मृत्यु से प्रतिरक्षा प्रदान नहीं करता है।

एक बार फिर से, अपने माता-पिता का आदर करने के लिए लम्बे जीवन की आशीष एक प्रतिफल के रूप में दिया जाना एक सामान्य सिद्धान्त है, सार्वभौमिक सत्य नहीं है। परमेश्‍वर इस बात पर विचार करता है कि एक बच्चा अपने माता-पिता को बहुत अधिक मूल्य देते हुए उनके साथ अच्छा व्यवहार करे। वह सामान्य रूप से उन लोगों को पुरस्कृत करता है, जो लम्बे समय से अपने माता-पिता का आदर करते रहे हैं। सुलैमान ने बच्चों से अपने माता-पिता का आदर करने का आग्रह किया (नीतिवचन 1:8; 13:1; 30:17)। यिर्मयाह 35:18-19 बताता है कि कैसे परमेश्‍वर ने अपने पिता की आज्ञा पालन करने के कारण रेकाबियों को आशीष दी थी। माता-पिता की आज्ञा के प्रति अवहेलना उन लोगों की एक विशेषता है, जो परमेश्‍वर के विरूद्ध विद्रोह करते हैं (रोमियों 1:30; 2 तीमुथियुस 3:2)। यह हमें दूसरे बिन्दु की ओर ले जाता है। अपने माता-पिता को इतना सम्मान क्यों दिया जाता है कि वह परमेश्‍वर की दृष्टि में अत्यन्त मूल्यवान है, जिसके कारण वह हमें लम्बे जीवन का प्रतिफल प्रदान करता है?

परमेश्‍वर की ओर से आपके माता-पिता का आदर करने के लिए महत्व दिए जाने के लिए दो कारण हैं। सबसे पहले, परमेश्‍वर माता-पिता को उनके बच्चों को ईश्‍वरीय तरीके से पालन-पोषण करने के उत्तरदायित्व को सौंपता है। पालन-पोषण का काम इतना आसान नहीं है। यह पीड़ादायी, तनावपूर्ण, महंगा, और अक्सर सराहना न पाने वाला है। क्योंकि एक बच्चे की ओर से न पहचानने और आभारी न होने के लिए, माता-पिता उसकी ओर से बलिदान करते हैं, वह अधिकार और उस अवस्था की स्थिति से असहज है, जिसे परमेश्‍वर ने माता-पिता को दिया है। यह इसी तरह है कि हम सरकार को कैसे प्रतिक्रिया दे रहे हैं (रोमियों 13: 1-7)। यदि परमेश्‍वर ने हमें अधिकार के अधीन रखा है, तो उस अधिकार के विरूद्ध विद्रोह करना स्वयं परमेश्‍वर के विरूद्ध विद्रोह करना है।

दूसरा कारण है कि परमेश्‍वर क्यों हम से अपने माता-पिता का सम्मान करने की इच्छा रखता है, क्योंकि हमारे सांसारिक माता-पिता के साथ हमारा सम्बन्ध हमारे स्वर्गीय पिता के साथ हमारे सम्बन्ध का एक उदाहरण है। उदाहरण के लिए, इब्रानियों 12:5-11 का सन्दर्भ परमेश्‍वर की ओर से मसीह में विश्‍वासियों को प्राप्त होने वाले अनुशासन की तुलना बच्चों को प्राप्त होने वाले अनुशासन से करता है। जैसे हमारे माता-पिता हमारे जैविक प्रजननकर्ता हैं, परमेश्‍वर हमारा सृष्टिकर्ता है। हम परमेश्‍वर और हमारे माता-पिता की सन्तान हैं। हमारे माता-पिता का अपमान करना हमारे स्वर्गीय पिता के साथ हमारा कैसा सम्बन्ध है, के चित्र को विकृत करना है।

क्या आप एक लम्बा जीवन जीना चाहते हैं? अपने माता-पिता का सम्मान करें। क्यों करें? क्योंकि परमेश्‍वर ने आपको उनके अधिकार और मार्गदर्शन के अधीन रखा है और क्योंकि आपके माता-पिता के प्रति आपका यह दृष्टिकोण परमेश्‍वर के प्रति आपके दृष्टिकोण का चित्रण है। यद्यपि यह प्रतिफल सार्वभौमिक नहीं है — और यह आपके द्वारा लिए गए प्रत्येक दूसरे निर्णय को निरस्त नहीं करता है – तथापि यह अभी भी सामान्य है। यदि आप लम्बे जीवन को जीना चाहते हैं, तो उन लोगों का सम्मान करें जिन्होंने आपको सबसे पहले जीवन दिया था।

English


हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
लम्बे जीवन को जीने के बारे में बाइबल क्या कहती है?