मुक्ति क योजना / मुक्ति राह काय हई?



प्रश्न: मुक्ति क योजना / मुक्ति राह काय हई?

उत्तर:
क आप भुख है? शरीरिक रूप स भुख नहि बरन क आप जीवन मा कि अउर चीज क भुख है।आप क मन क गहरई मा इसन कउनो चीज जे कबहु संतुष्ट होत पार्तित नही होत? यई इसन है त, यीशु ऐक राह है। यीशु कहिन जीवन क रोटी मा हई: ज हमर पास आई है उ कबहु भूखा न होय और जउन हमार पे विसवास करी हई उ कबहु पियासा न होई (यूहन्ना 6:35) |

क आप उलझन् मा पड़ हई? क आप क जीवन क खतिर कऊनो राह य उद्देश्यश नहि जान पड़त क इसन प्रतित् होत हई केहु बात्ती बुझई देहित है। अउर आप इ जलाने क खातीर बटन नहि ढूढ पा रहे हई? येदी इसन है त यीशु ही ऐक राह हई। यीशु घोषणा किहिन क़ी जगत कि जोति हमहिन् जउन हमारई पीछे होई ले उ अन्धकार म नई चलीह है पर जीवन कर जोति पाई ।(यहुन्ना 8:12) |

क आप कबहु इसन माँहसुस करें है की अपन क जीवन क दरवाजा बन्द है। क आप बहुत स दरवाजे पे केवल इ जाने क खतिर खट खटाया है ।कि उनकै पिछे ऐक खालिपन मतलब हिन् है। क आप भरपुरी क ऐक जीवन मा परवेस करें खातीर प्रवेस दरवाजे क ख़ोज मा हई? येदी इसन हई त यीशु ही ऐक राह हई। यीशु न घोषणा किहिन दरवाजा हमहिं हई। अगर कउनो हमरि जरिय भहितर परवेस करि,त मुकति पाई अउर भतीर बाहर आवा जावा करी अउर चाउर पाई (यूहन्ना 10:19)।

क अन्या लोग हमेसा आपन क निचा देखवत है।क आपन क सम्बंध ससतही अउर खालि हई। क आप क इसन परतीत होत हई क हर ऐक मनाई अपन क लाभ उता क प्रयास करें हई? "यहि इसन है त यीशु ही इक राह ही” । यीशु कहिन रहा, नीक चारवाहा हमिन्न हई, नीक चरवाहा भइड क खातीर आपन परन देति हई, मा अपन भेड क जनत हई और मोरी भेड मोहि जानती हई (यूहन्ना 10:11,14) |

क अपन अतभुत कमान करें है क़ि इ जीवन क बाद क होय है क आप अपन जीवन क उ चीज क खतिर बितने करें रहा थ हई ज केवल् सडत अउर जंग खा जा राह जाती क आप अपन मौत क बाद जिना चात् हे यहि ईसे है। त यीशु इक। राह हई। यीशु इ घोषणा किहिन कि पुनुरूथन अउर जीवन हमिहन जउन कउनउ मोहिप्इ विसवास कारी हई उ यदि मरिउ जाय तबहुँ जी जाय । ज कउनु जी हई अउर हमींन पे विसवास करी, उ अनगिनित काल तक न मरि (यूहन्ना 11:25) |

राह क हई? जीवन क हई?सचाई क हई यीशु जबाब देहि राह अउर सच्चई अउर जीवन हमहि हन बिन हमर जरिये कउनु बापु करें पास नहि पहुचहि सकत (यूहन्ना 14:6)

जउ भूख क आपन माँहसुस करें हई उ इक आत्मिक भुख हई अउर उ एक जरिये हई पूरा केर जा सकत हई। ऐक उ यीशु हि है जे आधियर क खत्म करी सकत हई।यीशु ऐक सन्तुस्ट जीवन क जरिया है| यीशु एक दोस्त अउर चरवाहा है जेक़ि आपन ख़ोज कIरें हई रहा |यीशु इ अउर आवे वालऐ जगत क ख़तीर जीवन हई। यीशु हि मुक्ति हई।

उ करन जउन आपन भुख क महसूस करें उ करन जउन आप अंधिरे म खो जवे लगता है| इ है कि आप परमेसुर से अलग हई गवा हई (सभोउपदेक 7:20, रोमियो 3:23।जउन खालीपन क आप अपन मन मा महसूस करी उहै उ आप क जीवन मा परमेसुर क न होव हई।हमार रचना परमेसुर क साथ सम्बन्ध बनि रखिए क ख़तीर की गवा रहा |पर हमरा अपन पापु क करन हमहिन् उ सम्बंध स अलग होई गवा।इ बुरा इ है कि हमार पापु हमहि ई अउर आगे जीवन मा ई पूरे अनगिनित कल क खातीर परमेसुर से अलग होव क करन बनि(रोमियो 6:23, यूहन्ना 3:36) |

इ समस्या क हल क हो सकत हई।यीशु ही इक राह है। यीशु न हमार पापु क अपन ऊपर उठाई लीया (2 कुरिन्थियों 5:21)। यीशु हमरा जगह पे (रोमियो 5:8) उ दण्ड क लेलीहन मरि गवा जे क हक़दार हम रही । तीन दिन क बाद {1][2} ,{3][4} यीशु मुरदों मा स पाप अउर मौत क ऊपर अपन जय क साबित करें है जी उठ (रोमियो 6:4-5)। उ इसन क किहिन यीशु खुद इ सवाल क जबाब देहि है।"इ उ बड़ा पियार कईसे क नई कउनो अपन दोस्त क ख़ातिर अपन जान देहि (यूहन्ना 15:13) यीशु मरा कि हम जी सकत । यदि हमहिन् यीशु मा अपन विसवास, उ मौत क हमरा पाप क ख़तीर चुकावा हई दाम मानकर करें - त हमरा सागरी पाप माफी क किहीन अउर धो देहि गवा है ल तब हमहिन् अपन आत्मामिक भूख क सन्तुस्ट क पे सकत । फेर स बत्ती जल उठअ हई। हमर पहुच इक भरपुरी क जीवन तक हो गवा । हमहिं हमार सच्च ई उत्तम दोस्त उ अच्छा चरवाहा क जनि। हमहि यहि जान गवा की मरि क बाद उ हमर पास जीवन होय यीशु क साथ अनगिनित कल क स्वरग मा जी उटी हई जीवन|

"काहे त परमेसुर जगत त ऐसन प्रेम रखइस कि अपनु एकलुता बेटवा देहि दिहिस ताकि जउन कउनउ उ पे विसवास करई उ नास न होइ पर अनगिनित जीवन पाइवि” (यूहन्ना 3:16) |

जे कुछ अपन यहि पडी है कयो उ करन अपन मसहि क पीछे चले क निर्याय लिहल है? यहि इसन है त किरपा नी चे देहि हुआ “म आज क स्वविकर कर लेलाह” है। बटन क दा बीये ।



अवधी क मुख्य पेज पर वापस जाइए



मुक्ति क योजना / मुक्ति राह काय हई?