मसीही विरोधी कौन है?



प्रश्न: मसीही विरोधी कौन है?

उत्तर:
मसीह विरोधी की पहचान के बारे में बहुत सी अटकलें लगाई जा रही हैं। इन अटकलों के कुछ प्रचलित लक्ष्य व्लादिमीर पुतिन, महमूद अहमदीनेजाद और पोप बेनेडिक्ट -16 के बारे में हैं। संयुक्त राज्य अमेरिका में, पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिंटन और जॉर्ज डब्ल्यू बुश और निवर्तमान राष्ट्रपति बराक ओबामा, इसके निरन्तर उम्मीदवार रहे हैं। इस तरह से, मसीह विरोधी कौन है और हम उसे कैसे पहचान सकते हैं?

बाइबल वास्तव में ऐसा कुछ भी विशेष रूप से मसीह विरोधी के लिए नहीं कहती है कि वह कहाँ से आएगा। कई बाइबल के विद्वान यह सोचते हैं कि वह दस राष्ट्रों और/या एक पुनर्जन्में रोमन साम्राज्य के एक महासंघ से आएगा (दानिय्येल 7:24-25; प्रकाशितवाक्य 17:7)। अन्य लोग उसे एक यहूदी के रूप में देखते हैं जो यह स्वयं के मसीह होने का दावा करेगा। यह सभी के सभी मात्र अनुमान हैं क्योंकि बाइबल ऐसा कुछ भी विशेष रूप से नहीं कहती है कि मसीह विरोधी कहाँ से आएगा और किस जाति का होगा। एक दिन, मसीह विरोधी प्रगट हो जाएगा। दूसरा थिस्सलुनीकियों 2:3-4 हमें बताता है कि हम कैसे मसीह विरोधी कर पहचान कर सकते हैं: "किसी रीति से किसी के धोखे में न आना, क्योंकि वह दिन न आएगा जब तक धर्म का त्याग न हो ले, और वह पाप का पुरूष अर्थात् विनाश का पुत्र प्रगट न हो। जो विरोध करता है, और हर एक से जो ईश्‍वर या पूज्य कहलाता है, अपने आप को बड़ा ठहराता है, यहाँ तक कि वह परमेश्‍वर के मन्दिर में बैठकर अपने आप को ईश्‍वर ठहराता है?"

ऐसी सम्भावना अधिक है कि अधिकांश जीवित लोग जब मसीह विरोधी प्रगट होगा तो उसकी पहचान के कारण बहुत अधिक आश्चर्य में पड़ जाएँगे। मसीह विरोधी आज भी जीवित हो सकती है और नहीं भी हो सकता है। मार्टिन लूथर सुनिश्चित था कि उसके समय का पोप मसीह विरोधी था। 1940 ईस्वी सदी के मध्य में, अधिकांश लोगों ने विश्‍वास किया कि अडोल्फ हिटलर मसीह विरोधी था। अन्य लोग जो अतीत के कुछ सैकड़ों वर्षों में रहे हैं उतने ही अधिक मसीह विरोधी की पहचान को लेकर सुनिश्चित रहे थे। अभी तक, वे सभी सही नहीं ठहरे। हमें इन सभी अटकलों को एक किनारे रख देना चाहिए और जो कुछ बाइबल वास्तव में मसीह विरोधी के बारे में कहती है, उसके ऊपर ध्यान केन्द्रित करना चाहिए। प्रकाशितवाक्य 13:5-8 घोषणा करता है, "बड़े बोल बोलने और निन्दा करने के लिये उसे एक मुँह दिया गया, और उसे बयालीस महीने तक काम करने का अधिकार दिया गया। और उसने परमेश्‍वर की निन्दा करने के लिये मुँह खोला, कि उसके नाम और उसके तम्बू अर्थात् स्वर्ग के रहनेवालों की निन्दा करे। और उसे यह अधिकार दिया गया, कि पवित्र लोगों से लड़े, और उन पर जय पाए, और उसे हर एक कुल, और लोग, और भाषा, और जाति पर अधिकार दिया गया - और पृथ्वी के वे सब रहनेवाले जिन के नाम उस मेम्ने की जीवन की पुस्तक में लिखे नहीं गए, जो जंगल की उत्पत्ति के समय से घात हुआ है, उस पशु की पूजा करेंगे।"



हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए



मसीही विरोधी कौन है?