परमेश्‍वर ने स्वर्गदूतों को कब रचा?


प्रश्न: परमेश्‍वर ने स्वर्गदूतों को कब रचा?

उत्तर:
इस निर्धारण का प्रयास करना कि परमेश्‍वर ने स्वर्गदूतों को कब रचा, कुछ सीमा तक पेचीदा है, क्योंकि परमेश्‍वर के द्वारा कुछ भी "संसार की नींव को रखने से पहले" रचा जाना स्वयं समय की सीमा से परे रचे जाना है। समय और स्थान परमेश्‍वर नहीं, अपितु हमारे संसार की विशेषताएँ हैं। वह घण्टों, दिनों और वर्षों तक सीमित नहीं है, जैसा कि हम हैं। वास्तव में, बाइबल हमें बताती है कि "प्रभु के यहाँ एक दिन हज़ार वर्ष के बराबर है, और हज़ार वर्ष एक दिन के बराबर है" (2 पतरस 3:8)।

हम जानते हैं कि परमेश्‍वर ने भौतिक ब्रह्माण्ड को रचने से पहले स्वर्गदूतों को रचा था। अय्यूब की पुस्तक में परमेश्‍वर की आराधना करने वाले स्वर्गदूतों का वर्णन किया गया है, क्योंकि जब वह संसार की रचना कर रहा था तब: "जब मैं ने पृथ्वी की नींव डाली, तब तू कहाँ था? यदि तू समझदार हो तो उत्तर दे। उसकी नाप किसने ठहराई, क्या तू जानता है! उस पर किसने सूत खींचा? उसकी नींव कौन सी वस्तु पर रखी गई, या किसने उसके कोने का पत्थर बिठाया, जब कि भोर के तारे एक संग आनन्द से गाते थे और परमेश्‍वर के सब पुत्र जयजयकार करते थे?" (अय्यूब 38:4-7)।

यदि हम स्वर्गदूतों के कामों पर विचार करते हैं, तो हम निष्कर्ष निकाल सकते हैं कि परमेश्‍वर ने मानव जाति के निर्माण से पहले स्वर्गदूतों को बनाया क्योंकि उनके कर्तव्यों में से एक "उद्धार पानेवालों के लिए सेवा करने के लिए भेजी जाने वाली आत्माएँ" हैं (इब्रानियों 1:14)। हम यह भी जानते हैं कि वे अदन की वाटिका से पहले वे अस्तित्व में थे, क्योंकि शैतान, जो पूर्व में स्वर्गदूत लूसिफर था, अपनी पाप में पतित अवस्था में वाटिका में पहले से ही विद्यमान था। तौभी, क्योंकि स्वर्गदूतों का एक और कार्य परमेश्‍वर के सिंहासन के चारों ओर उसकी की आराधना करने का है (प्रकाशितवाक्य 5:11-14), इसलिए हो सकता है कि वे लाखों वर्षों से अस्तित्व में रहे हों — जैसा कि हम समय का अनुमान लगाते हैं — कि परमेश्‍वर के द्वारा संसार की रचना से पहले, वे उसकी आराधना और उसकी सेवा कर रहे थे।

इसलिए, यद्यपि बाइबल विशेष रूप से नहीं कहती है, परमेश्‍वर ने स्वर्गदूतों को कब रचा, तौभी उनका रचा जाना संसार के निर्माण से कुछ समय पहले घटित हुआ था। चाहे यह एक दिन पहले था, या अरबों वर्षों पहले — एक बार फिर जैसा कि हम समय के विषय में अनुमान लगाते हैं — हम इसके लिए निश्‍चित नहीं हो सकते हैं।

English


हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
परमेश्‍वर ने स्वर्गदूतों को कब रचा?