अखमीरी रोटी का क्या महत्व है?


प्रश्न: अखमीरी रोटी का क्या महत्व है?

उत्तर:
बाइबल बताती है कि इस्राएलियों को मिस्र की गुलामी से पलायन के स्मरणोत्सव के रूप में फसह के समय प्रतिवर्ष केवल अखमीरी रोटी ही खाना था। क्योंकि इस्राएल की सन्तान ने मिस्र को शीघ्रता के साथ छोड़ा था, इसलिए उनके पास रोटी बनाने का समय नहीं था, इसलिए इसे बिना खमीर के सबसे पहले फसह के ऊपर बनाया गया, जिसे खमीर भी कहा जाता है। इस रोटी का वर्णन करते हुए और इसे क्यों खाया जाना चाहिए था, बाइबल हमें निम्नलिखित बातों के बारे में सूचित करती है: "उसके संग कोई ख़मीरी वस्तु न खाना; सात दिन तक अख़मीरी रोटी जो दु:ख की रोटी है, खाया करना; क्योंकि तू मिस्र देश से उतावली करके निकला था - इस रीति से तुझ को मिस्र देश से निकलने का दिन जीवन भर स्मरण रहेगा” (व्यवस्थाविवरण 16:3)। रोटी खाने के बारे में अतिरिक्त आज्ञाएँ निर्गमन 12:8; 29:2; और गिनती 9:11 में मिलती है। आज के दिन तक, यहूदी घरों में, फसह के उत्सव में अखमीरी रोटी ही सम्मिलित होती है।

इब्रानी शब्द-संग्रह के अनुसार, "अखमीरी रोटी" शब्द मात्ज़ोह से लिया गया है, जिसका अर्थ "बिना खमीर के रोटी या केक" का होना से है। शब्द-संग्रह यह भी बताता है कि मात्ज़ोह भी बदले में एक शब्द से निकला है, जिसका अर्थ "बाहर निकालना या चूसना" से है। इस दूसरे इब्रानी शब्द का उल्लेख करते हुए, शब्द-संग्रह कहता है कि, इसका अर्थ "मिठास के लिए लालच का होना" है। इसलिए यह बहुत अधिक सम्भव है कि अखमीरी रोटी, जबकि यह भारी और सपाट रही होगी, स्वाद में मीठी भी रही होगी।

बाइबल में, खमीर सदैव लगभग पाप का प्रतीक रहा है। खमीर की तरह जो पूरे गूँधे हुए आटे को अपने अधीन कर लेता है, पाप एक व्यक्ति, एक कलीसिया या एक जाति में फैल जाता है, अन्ततः इसके भागियों को अभिभूत करते हुए और अपने बन्धन में ले आता है और अन्ततः मृत्यु को उन पर ले आता है (गलातियों 5:9)। रोमियों 6:23 हमें बताता है कि "पाप की मजदूरी मृत्यु है," जो कि पाप के लिए परमेश्‍वर का न्याय है, और यही कारण है कि मसीह मर गया - पाप के लिए इस न्याय से बाहर निकलने के लिए एक मार्ग प्रदान करने के लिए, यदि मनुष्य अपने पापों के लिए पश्‍चाताप करता है, मसीह को अपने फसह के बलिदान के रूप में स्वीकार करता है, और यदि उसका मन परिवर्तित हो जाता है, जिससे कि वह अपने जीवन को परमेश्‍वर के आदेशों के अनुरूप ढाल सके।

English
हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
अखमीरी रोटी का क्या महत्व है?