अंधविश्‍वासों के बारे में बाइबल क्या कहती है?


प्रश्न: अंधविश्‍वासों के बारे में बाइबल क्या कहती है?

उत्तर:
अंधविश्‍वास जादुई शक्तियों वाली किसी एक वस्तु के ऊपर अज्ञानता से भरे हुए विश्‍वास पर आधारित है। अंधविश्‍वास के लिए एक और शब्द "मूर्तिपूजा" है। बाइबल संयोग से घटित होने वाली बातों के विचार का समर्थन नहीं करता है, अपितु यह समर्थन करती है कि परमेश्‍वर के प्रभुत्व नियन्त्रण के बाहर कुछ भी नहीं किया जा सकता है। वह अपनी ईश्‍वरीय योजना को ध्यान में रखते हुए या तो इन्हें होने देता है या इनके होने की अनुमति देता है (प्रेरितों के काम 4:28; इफिसियों 1:10)।

संसार में कई प्रकार के अंधविश्‍वास पाए जाते हैं, जो अच्छे से लेकर — जैसे कि एक सीढ़ी के नीचे नहीं चलना — ज्योतिष विज्ञान, जादू-टोना, भावी कहना, वुडू और तन्त्र-मन्त्र इत्यादि से सम्बन्धित प्रथाओं तक पाए जाते हैं। पवित्रशास्त्र उनकी निन्दा करता है, जो ज्योतिष विज्ञान का अभ्यास करते हैं, अर्थात् जादू-टोना करना, भावी कहना (व्यवस्थाविवरण 4:19) और तन्त्र-मन्त्र करना (2 राजा 21:6, यशायाह 2:6)। मूर्तिपूजा की भी मनाही की गई है, और जो कोई भी इस प्रथा का पालन करता है, वह परमेश्‍वर के राज्य में प्रवेश नहीं करेगा (प्रकाशितवाक्य 21:27)। इस तरह की प्रथाएँ बहुत ही अधिक खतरनाक हैं, क्योंकि वे अभ्यासकर्ताओं के मनों को शैतान के प्रभाव में आने के लिए खोल देती हैं। पहला पतरस 5:8 हमें चेतावनी देता है कि हमें "सचेत और जागते रहो, क्योंकि तुम्हारा विरोधी शैतान गर्जनेवाले सिंह के समान इस खोज में रहता है कि किस को फाड़ खाए।"

हमें मनुष्यों द्वारा निर्मित वस्तुओं या अनुष्ठानों से अपने विश्‍वास को प्राप्त नहीं करना चाहिए, अपितु यह एक सच्चे परमेश्‍वर की ओर से होना चाहिए जो हमें अनन्त जीवन देता है। "चौकस रहो कि कोई तुम्हें उस तत्व-ज्ञान और व्यर्थ धोखे के द्वारा अहेर न करे ले, जो मनुष्यों की परम्पराओं और संसार की आदि शिक्षा के अनुसार है, पर मसीह के अनुसार नहीं। क्योंकि उस में ईश्‍वरत्व की सारी परिपूर्णता सदेह वास करती है और तुम उसी में भरपूर हो गए हो जो सारी प्रधानता और अधिकार का शिरोमणि है" (कुलुस्सियों 2:8-10)।

English
हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
अंधविश्‍वासों के बारे में बाइबल क्या कहती है?