दाऊद का तारा क्या है और क्या यह बाइबल आधारित है?


प्रश्न: दाऊद का तारा क्या है और क्या यह बाइबल आधारित है?

उत्तर:
बाइबल में दाऊद के तारे (या ढाल) का कोई सन्दर्भ नहीं पाया जाता है। दाऊद के तारे की उत्पत्ति के रूप में रब्बियों के द्वारा कई कहानियाँ बताई गईं हैं। ये तारे राजा दाऊद की ढाल के आकार के होते हैं, राजा सुलैमान के मुद्रिका (मोहर) की अंगूठी पर प्रतीक होने के नाते, यह यहूदी अगुवे बार कोख़बा के द्वारा आविष्कृत की गई थी, जिसे 132 ईस्वी सन् में रोमी साम्राज्य के विरूद्ध बार कोख़बा के विद्रोह में अगुवाई देने के लिए जाना जाता है। मेक्बाबलिम (कबाला के अनुयायियों) का दावा है कि प्रतीक में जादुई शक्तियाँ हैं। उन दावों में से किसी के लिए कोई स्पष्ट ऐतिहासिक या पुरातात्विक समर्थन नहीं पाया जाता है।

तारे में दो अन्तर्निर्मित त्रिकोण पाए जाते हैं: एक परमेश्‍वर की ओर संकेत करता है और दूसरा मनुष्य की ओर संकेत करता है, जो दोनों के मध्य पाए जाने के सम्बन्धों का प्रतीक है - अर्थात् "दो लोकों के मध्य के सम्बन्ध" को (स्रोत: फ्रांज रोसेन्जविग, छुटकारे का तारा, 1912)। रोसेन्जविग के द्वारा कहे गए छह बिन्दु दो तरह की त्रिमूर्तियों का प्रतिनिधित्व करते हैं: परमेश्‍वर, इस्राएल और अन्यजातियों के संसार की सृष्टि के साथ सृष्टि, प्रकाशन और छुटकारा। यशायाह 11:2 के अनुसार लेखक ईडर के द्वारा वैकल्पिक रूप से अलौकिक आत्मा के छ: पहलुओं का प्रतिनिधित्व किया जाता है (ईडर, दाऊद का तारा, पृष्ठ. 73)। कबाला शिक्षा देता है कि छ: बिन्दु परमेश्‍वर की प्रभुता (उत्तर, दक्षिण, पूर्व, पश्‍चिम, ऊपर और नीचे) की सीमा को इंगित करते हैं। तारे की परिधि के बारे में बारह पंक्तियाँ पाई जाती हैं, जो सम्भवतः इस्राएल के बारह गोत्रों का प्रतिनिधित्व करती हैं।

सबसे प्राचीन पुरातात्विक चिन्ह, जो इस बात का संकेत देते हैं कि इटली के टारेंटम में एक यहूदी की कब्र है, जो 3री शताब्दी की बनी हुई है और इसके ऊपर प्राचीन इस्राएल की सीमाओं के भीतर पाई जाने वाली 6वीं शताब्दी के सभास्थल की दीवार स्थित है। 17वीं शताब्दी में यहूदियों के द्वारा और बाद में 1897 में ज़ायोनी आंदोलन के द्वारा आधिकारिक रूप से प्राग नामक नगर को अपनाने तक इसका बहुत अधिक उपयोग किया गया था। नाजी जर्मनी ने अपनी सीमाओं के भीतर यहूदियों को चिह्नित करने के लिए इसी प्रतीक का उपयोग किया था, और बहुत अधिक विवाद के पश्‍चात्, इसका उपयोग 1948 में पुनर्गठित इस्राएल के राष्ट्रीय ध्वज के रूप में किया जाने लगा। परिणामस्वरूप, दाऊद के तारे को अब यहूदी, इस्राएल और ज़ायनिज़्म अर्थात् सिय्योनवादियों के प्रतिनिधित्व के रूप में सार्वभौमिक रूप से मान्यता प्राप्त है।

English


हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
दाऊद का तारा क्या है और क्या यह बाइबल आधारित है?