खरे उपदेश इतने अधिक महत्वपूर्ण क्यों हैं?


प्रश्न: खरे उपदेश इतने अधिक महत्वपूर्ण क्यों हैं?

उत्तर:
पौलुस तीतुस को उत्साहित करता है कि, "पर तू ऐसी बातें कहा कर जो खरे उपदेश के योग्य हैं" (तीतुस 2:1)। इस तरह एक आदेश यह स्पष्ट करता है कि खरे उपदेश या शुद्ध धर्मसिद्धान्त अत्यन्त महत्वपूर्ण है। परन्तु यह क्यों महत्वपूर्ण है? क्या यह वास्तव में जिन बातों पर हम विश्‍वास करते हैं उनमें भिन्नता को लाते हैं?

खरा उपदेश महत्वपूर्ण है, क्योंकि हमारा विश्‍वास एक विशेष सन्देश के ऊपर आधारित है। कलीसिया की पूरी शिक्षा में कई तत्व पाए जाते हैं, परन्तु प्राथमिक सन्देश को स्पष्ट रूप से परिभाषित किया गया है: "पवित्रशास्त्र के वचन के अनुसार यीशु मसीह हमारे पापों के लिये मर गया, और गाड़ा गया, [और] पवित्रशास्त्र के अनुसार तीसरे दिन जी भी उठा" (1 कुरिन्थियों 15:3-4)। यही स्पष्ट सुसमाचार है, और यही "सबसे अधिक महत्व का है।" इस सन्देश में परिवर्तन करें, और आप पाएंगे कि विश्‍वास का आधार मसीह के स्थान पर किसी और बात में हो जाता है। हमारा शाश्‍वतकालीन गंतव्य "सत्य का वचन सुनो जो तुम्हारे उद्धार का सुसमाचार है" के सुनने के ऊपर निर्भर करता है (इफिसियों 1:13; और 2 थिस्सलुनीकियों 2:13-14 को भी देखें)।

खरा उपदेश महत्वपूर्ण है, क्योंकि सुसमाचार एक पवित्र विश्‍वास है, और हम संसार के साथ परमेश्‍वर के होने वाले वार्तालाव के साथ छेड़छाड़ करने की हिम्मत नहीं कर सकते हैं। हमारा कर्तव्य सन्देश को वितरित करना है, इसे परिवर्तित करने का नहीं। यहूदा विश्‍वास की रक्षा अनिवार्य रूप से करने के लिए कहता है: "जब मैं तुम्हें उस उद्धार के विषय में लिखने में अत्यन्त परिश्रम से प्रयत्न कर रहा था जिसमें हम सब सहभागी हैं, तो मैं ने तुम्हें यह समझाना आवश्यक जाना कि उस विश्‍वास के लिये पूरा यत्न करो जो पवित्र लोगों को एक ही बार सौंपा गया था" (यहूदा 1:3; और फिलिप्पियों 1:27 को भी देखें)। "यत्न" करना कुछ भी करने के लिए दृढ़ता से लड़ने के विचार के अर्थ को देता है, अपनी पूरी सामर्थ्य को उसके लिए लगा देना जो आपको मिल गया है। बाइबल में चेतावनी सम्मिलित है कि न तो परमेश्‍वर के वचन से कुछ जोड़ा जाए और न ही कुछ घटाया जाए (प्रकाशितवाक्य 22:18-19)। प्रेरितों के धर्मसिद्धान्त को परिवर्तन करने की अपेक्षा, हम वह प्राप्त करते हैं, जिसे हमें दिया गया है और "खरी बातों को जो तू ने मुझ से सुनी हैं उनको उस विश्‍वास और प्रेम के साथ, जो मसीह यीशु में है, अपना आदर्श बनाकर रख" (2 तीमुथियुस 1:13)।

खरा उपदेश महत्वपूर्ण है, क्योंकि हम जो विश्‍वास करते हैं, वह हम जो कुछ करते हैं, उसे प्रभावित करता है। व्यवहार धर्मविज्ञान का एक विस्तार है, और हम जो सोचते हैं और हम जैसे कार्य करते हैं, उसके मध्य इसका सीधा सम्बन्ध है। उदाहरण के लिए, दो लोग पुल के शीर्ष पर खड़े हैं; एक का मानना है कि वह उड़ सकता है, और दूसरा मानता है कि वह उड़ नहीं सकता है। उनकी अगली गतिविधियाँ बहुत ही अधिक भिन्न होंगी। इसी तरह, एक व्यक्ति जो यह मानता है कि सही और गलत जैसी कोई बात स्वाभाविक रूप से ऐसे व्यक्ति से भिन्न व्यवहार नहीं करती है, जो अच्छी तरह से परिभाषित नैतिक मापदण्डों में विश्‍वास रखता है। पापों के लिए बाइबल की सूची में से एक में, विद्रोह, हत्या, झूठ बोलने और दास व्यापार इत्यादि जैसी बातों का उल्लेख किया गया है। सूची "इसके अतिरिक्त खरे उपदेश के सब विरोधियों" (1 तीमुथियुस 1:9-10) के साथ समाप्त होती है। दूसरे शब्दों में, सच्ची शिक्षा धार्मिकता को बढ़ावा देती है; पाप वहाँ बढ़ता है जहाँ "खरे उपदेश" का विरोध किया जाता है।

खरा उपदेश महत्वपूर्ण है, क्योंकि हमें झूठ के संसार में सत्य का पता लगाना चाहिए। " बहुत से झूठे भविष्यद्वक्ता जगत में निकल खड़े हुए हैं" (1 यूहन्ना 4:1)। भेड़ों के बीच भेड़िए और गेहूं के बीच में ऊँट कटारे पाई जाती हैं (मत्ती 13:25; प्रेरितों के काम 20:29)। झूठ से सत्य को अलग करने का सबसे अच्छा तरीका यह जानना है कि सत्य क्या है।

खरा उपदेश महत्वपूर्ण है, क्योंकि खरे उपदेश का अन्त जीवन है। " अपनी और अपने उपदेश की चौकसी रख। इन बातों पर स्थिर रह, क्योंकि यदि ऐसा करता रहेगा तो तू अपने और अपने सुननेवालों के लिये भी उद्धार का कारण होगा" (1 तीमुथियुस 4:16)। इसके विपरीत, जो उपदेश खरा नहीं उसका अन्त विनाश है। "क्योंकि कितने ऐसे मनुष्य चुपके से हम में आ मिले हैं, जिनके इस दण्ड का वर्णन पुराने समय में पहले ही से लिखा गया था : ये भक्‍तिहीन हैं, और हमारे परमेश्‍वर के अनुग्रह को लुचपन में बदल डालते हैं, और हमारे एकमात्र स्वामी और प्रभु यीशु मसीह का इन्कार करते हैं" (यहूदा 1:4)। परमेश्‍वर के अनुग्रह के सन्देश को परिवर्तित "अभक्ति" से भरा हुआ एक कार्य है, और इस तरह के कार्य के लिए की गई निन्दा अत्यन्त गंभीर है। एक और ही तरह के सुसमाचार का प्रचार करना ("जो वास्तव में सुसमाचार है ही नहीं") में अभिशाप पाया जाता है: "वह शापित हो!" (गलतियों 1:6-9 को देखें)।

खरा उपदेश महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह विश्‍वासियों को उत्साहित करता है। परमेश्‍वर के वचन के प्रति प्रेम "महान शान्ति" को लाता है (भजन संहिता 119:165), और वे "जो शान्ति का प्रचार करते हैं .... उद्धार का प्रचार करते हैं" वास्तव में "सुहावने" हैं (यशायाह 52: 7)। एक पास्टर को "और वह विश्‍वासयोग्य वचन पर जो धर्मोपदेश के अनुसार है, स्थिर रहे कि खरी शिक्षा से उपदेश दे सके और विरोधियों का मुँह भी बन्द कर सके" (तीतुस 1:9)।

बुद्धि का वचन यह है कि "जो सीमा तेरे पुरखाओं ने बाँधी हो, उस पुरानी सीमा को न बढ़ाना" (नीतिवचन 22:28)। यदि हम इसे खरे उपदेश या शुद्ध धर्मसिद्धान्तों के ऊपर लागू करें, तो हम यह शिक्षा पाते हैं कि हमें इन्हें बनाए रखना चाहिए। ऐसा हो कि हम "मन की सिधाई जो मसीह में" पाई जाती है, उस से न भटकें (2 कुरिन्थियों 11:3)।

English


हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
खरे उपदेश इतने अधिक महत्वपूर्ण क्यों हैं?