शिओल, हेड्स, नरक, आग की झील, स्वर्गलोक और अब्राहम की गोद के मध्य में क्या भिन्नता है?


प्रश्न: शिओल, हेड्स, नरक, आग की झील, स्वर्गलोक और अब्राहम की गोद के मध्य में क्या भिन्नता है?

उत्तर:
बाइबल में स्वर्ग और नरक के लिए विभिन्न शब्दों को उपयोग किया गया है जैसे — शिओल, हेड्स और गेहना, आग की झील, स्वर्गलोक और अब्राहम की गोद इत्यादि — बहुत अधिक विवाद और उलझन का विषय रहे हैं।

शब्द "स्वर्गलोक" को "स्वर्ग" के पर्यायवाची के लिए उपयोग किया गया है (2 कुरिन्थियों 12:4; प्रकाशितवाक्य 2:7)। जब यीशु क्रूस के ऊपर मर रहा था और उसके एक ओर क्रूस के ऊपर लटके हुए क्रूसित डाकू ने उससे दया के लिए प्रार्थना की थी, तब यीशु ने उत्तर दिया था, "मैं तुझ से सच कहता हूँ कि आज ही तू मेरे साथ स्वर्गलोक में होगा" (लूका 23:43)। यीशु जानता था कि उसकी मृत्यु का समय निकट था और वह शीघ्र ही अपने पिता के साथ स्वर्ग में होगा। यीशु ने स्वर्गलोक को "स्वर्ग" के पर्यायवाची के रूप में उपयोग किया और यह शब्द आदर्शमयी एकान्त और हर्ष के स्थान से सम्बद्ध हो गया है।

अब्राहम की गोद को केवल एक ही बार बाइबल में — धनी मनुष्य और लाजर की कहानी में उपयोग किया गया है (लूका 16:19-31)। इसे यहूदी पवित्रशास्त्र ताल्मुद में "स्वर्ग" के पर्यायवाची के लिए उपयोग किया गया था। अब्राहम की गोद में लाजर के सिर को रखे हुए होने की कहानी — ठीक वैसे ही दिखाई देती है, जैसे कि यूहन्ना अन्तिम भोज के समय यीशु की छाती के पास अपने सिर को रखे हुए था — स्वर्गीय भोज को दर्शाती है। अब्राहम की गोद वास्तव में किस बात का प्रतिनिधित्व करती है, के ऊपर कई मतभेद पाए जाते हैं। जो लोग इस कहानी के वास्तविक रूप से घटित होने में विश्‍वास करते हैं, वे इसे उसकी मृत्यु और पुनरुत्थान के पश्चात् की अवधि में घटित हुआ और परमेश्‍वर की गोद को "स्वर्ग" के बराबर मानते हैं। जो लोग यीशु के क्रूसीकरण से पहले इसे घटित हुआ मानते हैं, वे "अब्राहम की गोद" को "स्वर्गलोक" के लिए उपयोग किए जाने वाले दूसरे शब्द के रूप में देखते हैं। इस कहानी के घटित होने का समय वास्तव में इस कहानी के लिए अप्रासंगिक है, कौन से दुष्ट व्यक्ति एक धर्मी व्यक्ति को प्रसन्नता में स्वयं को विलाप की अवस्था में देखना चाहेगा और यह कि एक "बड़ा गड़हा" दोनों के मध्य में विद्यमान है (लूका 16:26), जो कि कभी भी हटाया नहीं जाएगा।

इब्रानी पवित्रशास्त्र में, जो शब्द मृतकों के लोक को वर्णित करता है, वह शिओल है। इसका सरल सा अर्थ "मृतकों का वास स्थान" या "मरे हुए लोगों की आत्माओं/प्राणों का वास स्थान" से है। नए नियम में "नरक" के लिए जिस यूनानी शब्द का उपयोग हुआ है, वह हेड्स है, यह भी "मृतकों के रहने के वास स्थान" को उद्धृत करता है। नए नियम में "नरक" के लिए यूनानी शब्द गेहना का उपयोग हुआ है, और यह इब्रानी शब्द हिन्नोम से निकला है। नए नियम में अन्य वचन यह संकेत देते हैं कि शिओल/हेड्स एक ऐसा अस्थाई स्थान है, जहाँ पर अविश्‍वासियों के प्राणों को तब तक रहते हुए प्रतीक्षा करते हैं कि जब तक कि महान् श्वेत सिंहासन का न्याय और अन्तिम पुनरुत्थान का समय नहीं आ जाता है। धर्मियों के प्राण सीधे ही परमेश्‍वर की उपस्थिति में — स्वर्ग/स्वर्गलोक/अब्राहम की गोद में — मृत्यु उपरान्त जाते हैं (लूका 23:43; 2 कुरिन्थियों 5:8; फिलिप्पियों 1:23)।

प्रकाशितवाक्य 19:20 और 20:10, 14-15 में, ही केवल उल्लेखित आग की झील अन्तिम नरक के रूप में दी गई है, जो सभी अपश्चाताप किए हुए विद्रोहियों, दोनों स्वर्गदूतों और मनुष्यों के लिए शाश्‍वतकालीन दण्ड का स्थान होगा (मत्ती 25:41)। इस स्थान को जलते हुए गन्धक से भरे हुए होने के स्थान के रूप में वर्णित किया गया है, और जो इसमें पाए जाते हैं, वे सभी शाश्‍वतकाल के लिए असम्बन्धित स्वभाव वाली न बताई जाने वाली पीड़ा का अनुभव करते हैं (लूका 16:24; मरकुस 9:45-46)। जिन्होंने मसीह का इन्कार कर दिया है और जो हेड्स/शिओल में मृतकों के वास स्थान में हैं, उनका अन्तिम गंतव्य आग की झील होगा।

परन्तु जिनके नाम मेम्ने की जीवन की पुस्तक में लिखे हुए हैं, उन्हें किसी तरह के कोई भयानक दुर्भाग्य का भय नहीं है। मसीह में विश्‍वास करने और हमारे पापों के लिए क्रूस के ऊपर बहाए हुए उसके लहू के कारण, हम परमेश्‍वर की उपस्थिति में शाश्‍वतकाल के लिए रहने के ठहरा दिए गए हैं।

English



हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
शिओल, हेड्स, नरक, आग की झील, स्वर्गलोक और अब्राहम की गोद के मध्य में क्या भिन्नता है?