यदि एक अविवाहित जोड़ा यौन सम्बन्ध बनाता है, तो क्या वह परमेश्‍वर की दृष्टि में विवाहित हैं?


प्रश्न: यदि एक अविवाहित जोड़ा यौन सम्बन्ध बनाता है, तो क्या वह परमेश्‍वर की दृष्टि में विवाहित हैं?

उत्तर:
यह बात सत्य है कि यौन सम्बन्ध एक जोड़े के लिए "एक तन" हो जाने के लिए सर्वोच्च पूर्णता होती है (उत्पत्ति 2:24)। तथापि, यौन सम्बन्ध का कार्य विवाह के बराबर नहीं है। यदि ऐसा होता, तो विवाह पूर्व यौन सम्बन्ध स्थापित किए जाने जैसी कोई बात ही नहीं होती — एक बार जब एक जोड़ा यौन सम्बन्ध स्थापित कर लेता है, तो वे विवाहित हो जाते। बाइबल विवाह-पूर्व किए जाने वाले यौन सम्बन्ध को "अविवाहित यौन सम्पर्क" कह कर पुकारती है। इसकी निन्दा बाइबल में अनैतिक यौन सम्बन्ध जैसे कई अन्य शब्दों के रूप में पवित्रशास्त्र में कई बार की गई है (प्रेरितों के काम 15:20; 1 कुरिन्थियों 5:1; 6:13,18; 10:8; गलातियों 5:19; इफिसियों 5:3; कुलुस्सियों 3:5; 1 थिस्सलुनीकियों 4:3; यहूदा 7)। बाइबल विवाह से पूर्व धार्मिकता के मानक रूप में संयम को बढ़ावा देती है। विवाह से पहले यौन सम्पर्क स्थापित करना व्यभिचार और यौन अनैतिकता के अन्य रूपों की तरह ही गलत है, क्योंकि उन सभी में आपके जीवन साथी के अतिरिक्त किसी के साथ किया हुआ यौन सम्बन्ध सम्मिलित होता है।

यदि एक अविवाहित जोड़ा यौन सम्पर्क स्थापित करता है, तो क्या इसका अर्थ यह है कि वह विवाहित हैं? बाइबल हमें इस तरह की घटना के ऊपर विश्‍वास करने का कोई कारण नहीं देती है। यौन सम्बन्धों के कार्य ने उन्हें शारीरिक रूप से एक क्षण के लिए एक तन कर दिया है, परन्तु इसका अर्थ यह बिल्कुल भी नहीं है कि परमेश्‍वर ने उन्हें पति और पत्नी के रूप में एक तन के रूप में स्वीकार कर लिया है। यौन सम्बन्ध विवाह, विवाह के शारीरिक कार्य का एक अत्यन्त महत्वपूर्ण पहलू होता है। तथापि, अविवाहित लोगों में होने वाला यौन सम्बन्ध विवाह की बराबरी पर नहीं है।

English



हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
यदि एक अविवाहित जोड़ा यौन सम्बन्ध बनाता है, तो क्या वह परमेश्‍वर की दृष्टि में विवाहित हैं?