परमेश्‍वर की सात आत्माएँ क्या हैं?


प्रश्न: परमेश्‍वर की सात आत्माएँ क्या हैं?

उत्तर:
परमेश्‍वर की सात अत्माओं का उल्लेख प्रकाशितवाक्य 1:4; 3:1; 4:5; और 5:6 में मिलता है। परमेश्‍वर की सात आत्माओं की पहचान नहीं की गई है, इसलिए इनके प्रति धर्मसिद्धान्तिक बनना असम्भव है। प्रकाशितवाक्य 1:4 उल्लेख करता है कि ये सात आत्माएँ परमेश्‍वर के सिंहासन के सामने पाई जाती हैं। प्रकाशितवाक्य 3:1 इंगित करता है कि यीशु मसीह "परमेश्‍वर की सात आत्माओं" को थामे हुए है। प्रकाशितवाक्य 4:5 परमेश्‍वर की सात आत्माओं को सात जलते हुए दीपकों के साथ जोड़ देता है, जो परमेश्‍वर के सिंहासन के सामने है। प्रकाशितवाक्य 5:6 इनकी पहचान मेम्ने की "सात आँखों" से करती है और कहती है कि उन्हें "सारी पृथ्वी पर भेज" दिया गया है।

परमेश्‍वर की सात आत्माओं के प्रति तीन सम्भावित व्याख्याएँ पाई जाती हैं। पहली व्याख्या यह है कि सात आत्माएँ पवित्र आत्मा का प्रतीक है। बाइबल, और विशेषकर प्रकाशितवाक्य की पुस्तक, सँख्या 7 का उपयोग पूर्णता और सिद्धता को सन्दर्भित करने के लिए उपयोग करती है। यदि "सात आत्माओं" में "सात" का अर्थ यही है, तो यह परमेश्‍वर की सात भिन्न आत्माओं का उल्लेख नहीं कर रहा है, अपितु यह पूर्ण और सिद्ध पवित्र आत्मा है। दूसरा दृष्टिकोण यह है कि परमेश्‍वर की सात आत्माएँ सात स्वर्गीय प्राणियों को उद्धृत करती हैं, सम्भवत: यह सराप और कुरूब हैं। यह कई अन्य स्वर्गदूतों के साथ भी अनुरूप होगा, जिनका वर्णन प्रकाशितवाक्य में किया गया है (प्रकाशितवाक्य 4:6-9; 5:6-14; 19:4-5)।

तीसरा सम्भव दृष्टिकोण यशायाह 11:2 के ऊपर आधारित है, जो ऐसे कहता है कि, "यहोवा का आत्मा — बुद्धि और समझ का आत्मा, युक्ति और पराक्रम का आत्मा, और ज्ञान और यहोवा के भय का आत्मा उस पर ठहरा रहेगा।" यह सम्भवत: परमेश्‍वर की सात आत्माओं की व्याख्या हो सकती है: (1) यहोवा का आत्मा, (2) बुद्धि का आत्मा, (3) समझ का आत्मा, (4) युक्ति का आत्मा, (5) पराक्रम का आत्मा, (6) ज्ञान का आत्मा, (7) यहोवा के भय का आत्मा। बाइबल हमें विशेष रूप से यह नहीं बताती कि आत्माएँ कौन/क्या हैं, परन्तु पहली व्याख्या, जो कि पवित्र आत्मा की है, की सम्भावना सबसे अधिक पाई जाती है।

English
हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
परमेश्‍वर की सात आत्माएँ क्या हैं?