पहाड़ी उपदेश क्या है?


प्रश्न: पहाड़ी उपदेश क्या है?

उत्तर:
पहाड़ी उपदेश वह उपदेश है, जिसे यीशु ने मत्ती अध्याय 5-7 में दिया था। मत्ती 5:1-2 वह कारण है, जिसके लिए इसे पहाड़ी उपदेश कहा जाता है: "वह इस भीड़ को देखकर पहाड़ पर चढ़ गया और जब बैठ गया तो उसके चेले उसके पास आए। और वह अपना मुँह खोलकर उन्हें यह उपदेश देने लगा...।" अभी तक दिए जाने वालों उपदेशों में पहाड़ी उपदेश सबसे अधिक प्रसिद्ध उपदेश है, कदाचित् अभी तक दिए जाने वाले किसी भी उपदेशों में सबसे अधिक प्रसिद्ध उपदेश है।

पहाड़ी धर्मोपदेश स्वयं में विभिन्न विषयों को सम्मिलित करता है। इस लेख का उद्देश्य इसके प्रत्येक भाग के ऊपर टिप्पणी करना नहीं है, अपितु इसके बारे में एक संक्षिप्त सारांश देना मात्र है कि इसमें क्या निहित है। यदि हमें पहाड़ी उपदेश को एक ही एक वाक्य में सारांशित करना होता, तो यह कुछ इस तरह का होगा: एक जीवन को कैसे यापन किया, जो परमेश्‍वर के लिए समर्पित हो और उसे प्रसन्न करता हो, पाखण्ड से मुक्त हो, और प्रेम और अनुग्रह और ज्ञान और समझ से परिपूर्ण हो।

5:3-12 — धन्य वचन
5:13-16 — नमक और ज्योति
5:17-20 — यीशु ने व्यवस्था को पूरा कर दिया है
5:21-26 — क्रोध और हत्या
5:27-30 — वासना और व्यभिचार
5:31-32 — तलाक और पुन: विवाह करना
5:33-37 — शपथ लेना
5:38-42 — आँख के बदले में आँख
5:43-48 — अपने शत्रुओं से प्रेम करना
6:1-4 — आवश्यकता में पड़ों हुए देना
6:5-15 — प्रार्थना कैसे करें
6:16-18 — उपवास कैसे करें
6:19-24 — स्वर्गीय धन
6:25-34 — चिन्ता न करें
7:1-6 — पक्षपाती हो दोष न लगाना
7:7-12 — माँगो, ढूँढो, खटखटाओ
7:13-14 — सकेत फाटक
7:15-23 — झूठे भविष्यद्वक्ता
7:24-27 — घर बनाने वाला बुद्धिमान

मत्ती 7:28-29 पहाड़ी उपदेश को निम्नलिखित कथनों के साथ सारांशित करता है: "जब यीशु ये बातें कह चुका, तो ऐसा हुआ कि भीड़ उसके उपदेश से चकित हुई। क्योंकि वह उनके शास्त्रियों के समान नहीं परन्तु अधिकारी की नाई उन्हें उपदेश देता था।" हमारी यह प्रार्थना है कि हम निरन्तर उसकी शिक्षाओं के द्वारा आश्चर्यचकित होते रहें और उन सिद्धान्तों का पालन करें, जिनकी शिक्षा उसने पहाड़ी उपदेश में दी है!

English
हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
पहाड़ी उपदेश क्या है?