क्या शैतान नरक में है? शैतान कहाँ है?


प्रश्न: क्या शैतान नरक में है? शैतान कहाँ है?

उत्तर:
इस समय, शैतान नरक में नहीं है। इसकी अपेक्षा, शैतान पृथ्वी पर घूमता रहता है, लोगों को पाप में लुभाने के लिए प्रयासरत् रहता है और इस प्रकार परमेश्‍वर से अलग करता है। पहला पतरस 5:8 कहता है, "सचेत हो, और जागते रहो; क्योंकि तुम्हारा विरोधी शैतान गर्जनेवाले सिंह के समान इस खोज में रहता है कि किस को फाड़ खाए।" यूहन्ना 14:30 में, यीशु ने शैतान को "इस संसार का सरदार" कहा है और प्रेरित पौलुस ने उसे "आकाश के अधिकार का हाकिम अर्थात् उस आत्मा के अनुसार चलते थे, जो अब भी आज्ञा न माननवालों में कार्य करता है" (इफिसियों 2:2)। शैतान नरक में नहीं रहता है; वह पृथ्वी पर और आकाश में घूमते हुए काम करता रहता है।

शैतान "झूठ का पिता" (यूहन्ना 8:44) है, और वह आज भी संसार को प्रभावित करता है और इस पर शासन करता है। शैतान स्वयं की आराधना चाहता है (मत्ती 4:9), और वह स्वयं पर ध्यान केन्द्रित करने के लिए धोखाधड़ी और विकृतियों का उपयोग करता है। संसार शैतान की इस या किसी अन्य तरीके से आराधना करता है, परन्तु केवल उन लोगों को छोड़कर, जो परमेश्‍वर के राज्य के हैं, जो उसकी आराधना नहीं करते हैं और इसलिए उन्हें शैतान के धोखे से बाहर बुलाया गया है। यदि कोई व्यक्ति परमेश्‍वर की सन्तान नहीं है, तो वह स्वचलित रूप से शैतान की सन्तान है (देखें यूहन्ना 8:44; प्रेरितों 13:10)। पहला यूहन्ना 3:10 हमें बताता है कि दोनों को कैसे पृथक किया जाए: "इसी से परमेश्‍वर की सन्तान और शैतान की सन्तान जाने जाते हैं; जो कोई धर्म के काम नहीं करता वह परमेश्‍वर से नहीं, और न वह जो अपने भाई से प्रेम नहीं रखता।" याकूब 4:4 बताता है कि कोई भी जो इस संसार का मित्र है वह परमेश्‍वर का शत्रु है।

यह जानना महत्वपूर्ण है, क्योंकि शीघ्र ही यीशु पृथ्वी पर लौट आएगा और उन्हें इकट्ठा करेगा जो उससे सम्बन्धित हैं। वह शैतान के अनुयायियों को पराजित करेगा और अपने चुने हुओं को अपने निमित्त इकट्ठा होने का दावा करेगा। अन्त में, शैतान को आग की झील में फेंक दिया जाएगा और "जहाँ रात और दिन युगानुयुग की पीड़ा" होगी (प्रकाशितवाक्य 20:10)। इसके पश्‍चात्, यीशु अविश्‍वासियों का न्याय करेगा कि उन्होंने अपने जीवनकाल में क्या कुछ किया है। जिस व्यक्ति का नाम जीवन की पुस्तक में लिखा नहीं गया है, उसे आग की झील में फेंक दिया जाएगा जहाँ शैतान और उसकी दुष्टात्माएँ उस समय पहले से ही पाई जाएंगी (प्रकाशितवाक्य 20:13, 15)। नरक और मृत्यु भी आग की झील में फेंक दिए जाते हैं (प्रकाशितवाक्य 20:14), इसलिए, तकनीकी रूप से बोलते हुए, शैतान नरक में अभी तक के अतीत में नहीं रहा है। परन्तु वह स्थायी रूप से एक बहुत ही गर्म स्थान पर रहने के लिए सीमित कर दिया जाएगा जिसे "नरक" कहा जा सकता है, जहाँ सदैव के लिए पीड़ा दी जाती है।

प्रत्येक व्यक्ति के लिए महत्वपूर्ण समाधान यह सुनिश्‍चित करना है कि उसका नाम जीवन की पुस्तक में लिखा गया है या नहीं ताकि आग की झील में परमेश्‍वर से अनन्तकालीन अलगाव के स्थान पर स्वर्ग में अनन्तकालीन जीवन प्राप्त हो सके।

English


हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
क्या शैतान नरक में है? शैतान कहाँ है?