क्या चारों सुसमाचारों में पाए जाने वाले पुनरुत्थान के विभिन्न विवरणों का सामंजस्य हो सकता है?


प्रश्न: क्या चारों सुसमाचारों में पाए जाने वाले पुनरुत्थान के विभिन्न विवरणों का सामंजस्य हो सकता है?

उत्तर:
यीशु के पुनरुत्थान के आस-पास घटित हुई घटनाओं को एक साथ रखना कठिन हो सकता है। हमें दो बातें स्मरण रखनी चाहिए: पहली, यीशु के पुनरुत्थान के समाचार ने यरूशलेम में बहुत अधिक उत्साह उत्पन्न कर दिया था, और इससे होने वाले कोलाहल के कारण कई लोग भिन्न दिशाओं में जा रहे थे। शिष्यों के समूहों को अलग कर दिया गया था, और कई भिन्न समूह कब्र को देखने के लिए आए, सम्भवतः एक से अधिक बार। दूसरी, सुसमाचार के लेखकों ने एक व्यापक कथा को लिखने का प्रयास नहीं किया; दूसरे शब्दों में, मत्ती, मरकुस, लूका और यूहन्ना में पुनरुत्थान के प्रत्येक विवरण या प्रत्येक घटना को क्रमानुसार घटित होने को बताने की कोई मंशा नहीं थी।

यीशु के पुनरुत्थान के बारे में सन्देहवादियों के साथ विवाद में, मसीही विश्वासी "न-जीतने" वाली स्थिति में होते हैं। यदि पुनरुत्थान के विवरण को पूरी तरह से सामंजस्य स्थापित करें, तो सन्देहवादियों का दावा यह होगा कि सुसमाचार के लेखकों ने एक साथ मिलकर षडयन्त्र रचा था। यदि पुनरुत्थान के विवरणों में कुछ भिन्नता है, तो सन्देहवादियों का यह दावा रहेगा कि सुसमाचार एक दूसरे के विपरीत हैं और इसलिए उन पर भरोसा नहीं किया जा सकता है। हमारा तर्क यह है कि पुनरुत्थान के विवरणों में सामंजस्य स्थापित किया जा सकता है और यह कि वे एक-दूसरे के विपरीत नहीं हैं।

यद्यपि, भले ही पुनरुत्थान के विवरणों को पूरी तरह से सामंजस्य नहीं किया जा सकता है, परन्तु यह उन्हें अविश्वसनीय नहीं बनाता है। किसी भी तर्कसंगत मूल्यांकन के द्वारा देखा जाए तो, चारों सुसमाचारों में पाए जाने वाले पुनरुत्थान के विवरण के प्रति बहुत अच्छी तरह से प्रत्यक्षदर्शी गवाह पाए जाते हैं। केन्द्रीय सत्य यह है — कि यीशु मृतकों में से जी उठा था और पुनर्जीवित यीशु कई लोगों को दिखाई दिया — इसकी स्पष्ट रूप से चार सुसमाचारों में से प्रत्येक में शिक्षा दी गई है। स्पष्ट असंगतता "इससे सम्बन्धित विषयों" में पाई जाती हैं। जैसे उन्होंने कब्र में कितने स्वर्गदूत देखे, एक या दो? (कदाचित् एक व्यक्ति ने केवल एक स्वर्गदूत को ही देखा होगा, जबकि दूसरे व्यक्ति ने दो स्वर्गदूतों को देखा।) यीशु कितनी अधिक स्त्रियों के द्वारा देखा गया और वह सबसे पहले किसके सामने प्रगट हुआ? (यद्यपि प्रत्येक सुसमाचार में प्रगटीकरण के लिए थोड़ा अलग सा अनुक्रम पाया जाता है, तथापि इनमें से कोई भी सटीक कालानुक्रमिक व्यवस्था को देने का दावा नहीं करता है।) इसलिए, जबकि पुनरुत्थान के विवरण असंगत प्रतीत हो सकते हैं, तथापि यह प्रमाणित नहीं किया जा सकता है कि ये विवरण एक दूसरे के विरोधाभासी हैं।

यहाँ कालक्रम के अनुसार, मसीह के पुनरुत्थान और उसके पुनरुत्थान के बाद होने वाले प्रगटीकरणों की कहानियों का एक सामंजस्य दिया गया है:

यीशु को गाड़ा गया, जब बहुत सी स्त्रियों उसे देख रही थीं (मत्ती 27:57-61; मरकुस 15:42-47; लूका 23:50-56; यूहन्ना 19:38-42)।

कब्र को मुहरबन्द कर दिया गया है और उसके सामने एक पहरुए को खड़ा कर दिया गया है (मत्ती 27:62-66)।

मरियम मगदलीनी, याकूब की माँ मरियम और सलोमी सहित कम से कम 3 स्त्रियाँ कब्र में जाने के लिए मसाले तैयार करती हैं (मत्ती 28:1; मरकुस 16:1)।

स्वर्ग से एक दूत उतरता है, पत्थर को लुढ़काता है, और उस पर बैठ जाता है। एक भूकम्प आता है, और पहरुए काँप उठते हैं (मत्ती 28:2-4)।

स्त्रियाँ कब्र पर पहुँचती हैं और उसे खाली पाती हैं। मरियम मगदलीनी वहाँ अन्य स्त्रियों को छोड़ देती है और शिष्यों को बताने के लिए दौड़ती है (यूहन्ना 20:1-2)।

कब्र में अभी भी स्त्रियाँ दो स्वर्गदूतों को देखती हैं, जो उन्हें बताते हैं कि यीशु उठा है और जो उन्हें निर्देश देते हैं कि वे जाकर शिष्यों को गलील जाने के लिए कहें (मत्ती 28:5-7; मरकुस 16:2-8; लूका 24:1-8)।

स्त्रियाँ शिष्यों के पास सुसमाचार को सुनाने के लिए चली जाती हैं (मत्ती 28:8)।

पहरुए स्वयं को खड़ा करते हुए अधिकारियों को खाली कब्र की सूचना देते हैं, जो पहरुओं को यह कहने के लिए रिश्वत देते हैं कि शरीर चोरी हो गया है (मत्ती 28:11-15)।

याकूब की मां मरियम और अन्य स्त्रियाँ, शिष्यों को ढूंढ़ने के लिए जाती हैं, परन्तु मार्ग में यीशु से मुलाकात करती हैं (मत्ती 28:9-10)।

स्त्रियाँ शिष्यों से जो कुछ भी उन्होंने देखा और सुना है, उसे बताती हैं (लूका 24:9-11)।

पतरस और यूहन्ना कब्र की ओर दौड़ती हैं, यह देखती हैं कि यह खाली है, और कब्र में कपड़ों को पाती हैं (लूका 24:12; यूहन्ना 20:2-10)।

मरियम मगदलीनी कब्र में लौटती है। वह स्वर्गदूतों को देखती है, और फिर वह यीशु को देखती है (यूहन्ना 20:11-18)।

बाद में उसी दिन, यीशु पतरस को दिखाई देता है (लूका 24:34; 1 कुरिन्थियों 15:5)।

अभी भी उसी दिन में, यीशु क्लियोपास और एक अन्य शिष्य को इम्माऊस के मार्ग पर मिलता है (लूका 24:13-32)।

उसी शाम, दो शिष्य यरुशलेम में शेष ग्यारह को घटना की जानकारी देते हैं (लूका 24:32-35)।

यीशु दस चेलों के ऊपर प्रकट होता है — थोमा वहाँ नहीं होता (लूका 24:36-43; यूहन्ना 20:19-25)।

यीशु सभी ग्यारह शिष्यों को दिखाई देता है — जिसमें थोमा भी है (यूहन्ना 20:26-31)।

यीशु गलील सागर के पास सात शिष्यों को दिखाई देता है (यूहन्ना 21:1-25)।

यीशु गलील में लगभग 500 शिष्यों को दिखाई देता है (1 कुरिन्थियों 15:6)।

यीशु अपने सौतेले भाई याकूब को दिखाई देता है (1 कुरिन्थियों 15:7)।

यीशु अपने शिष्यों को महान् आदेश देता है (मत्ती 28:16-20)।

यीशु अपने चेलों को पवित्रशास्त्र की शिक्षा देता है और पवित्र आत्मा भेजने की प्रतिज्ञा करता है (लूका 24:44-49; प्रेरितों 1:4-5)।

यीशु स्वर्ग में ऊपर चला जाता है (लूका 24:50-53; प्रेरितों 1:6-12)।

English


हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
क्या चारों सुसमाचारों में पाए जाने वाले पुनरुत्थान के विभिन्न विवरणों का सामंजस्य हो सकता है?

पता लगाएं कि कैसे ...

भगवान के साथ अनंत काल बिताओ



भगवान से क्षमा प्राप्त करें