प्रगतिशील सृजनवाद क्या है और क्या यह बाइबल आधारित है?


प्रश्न: प्रगतिशील सृजनवाद क्या है और क्या यह बाइबल आधारित है?

उत्तर:
प्रगतिशील सृजनवाद (जिसे "प्रक्रियावादी सृजन" भी कहा जाता है) यह विश्‍वास है कि परमेश्‍वर ने अरबों वर्षों की अवधि में स्वर्ग और पृथ्वी का निर्माण किया है, न कि पारम्परिक सृजनवाद के दृष्टिकोण के अनुसार 24 घन्टे के छह दिनों में। प्रगतिशील सृजनवादी अपनी धार्मिक विश्‍वास पद्धति में उदार या रूढ़िवादी हो सकते हैं, परन्तु वे सामान्य रूप से निम्नलिखित पर सहमत होते हैं:

• "बिग बैंग" अर्थात् महाविस्फोट के द्वारा अरबों वर्षों में होने वाली प्राकृतिक प्रक्रियाओं के माध्यम से सितारों और आकाशगंगाओं का उत्पादन करने का परमेश्‍वर का तरीका था।
• पृथ्वी और ब्रह्माण्ड हजारों नहीं अपितु अरबों वर्ष पुराने हैं।
• सृजन के दिनों की अवधि लाखों और अरबों वर्षों की परस्पर व्याप्त अवधि के थे।
• सृष्टि के आरम्भ से ही मृत्यु और रक्तपात अस्तित्व में है और यह आदम के पाप का परिणाम नहीं था। जीवन और मृत्यु के इतिहास के अधिकांश समय के व्यतीत होने के पश्‍चात् मनुष्य को बनाया गया था।
• नूह का जल प्रलय स्थानीय था, न कि वैश्‍विक, और इसका पृथ्वी के भूविज्ञान के ऊपर बहुत कम प्रभाव पड़ा, जो अरबों वर्षों के इतिहास को दिखाता है।

प्रगतिशील सृजनवाद एक ऐसी धारणा है, जो नास्तिकवादी विकासवाद और युवा पृथ्वी के दृष्टिकोण वाले सृजनवाद दोनों ही का विरोध करती है। प्रगतिशील सृजनवाद की शिक्षाएँ नई नहीं हैं, परन्तु निवर्तमान के वर्षों में उन्हें मसीही रेडियो, टेलीविजन, पत्रिकाओं और पुस्तकों के माध्यम से अपने पक्ष में लोकप्रियता प्राप्त हुई है।

हमारे दृष्टिकोण में, प्रगतिशील सृजनवाद की त्रुटि इस धारणा के ऊपर निर्भर करती है कि उत्पत्ति 1-2 में सृष्टि के लिए दिए गए बाइबल वृतान्त को शाब्दिक रूप से नहीं समझा जाना चाहिए। प्रगतिशील सृजनवाद के अनुसार, उत्पत्ति 1 में दिए गए "दिन" शाब्दिक नहीं हैं, अपितु 24 घन्टे के एक दिन के स्थान पर ये वास्तव में लम्बे समय तक, लाखों या यहाँ तक कि अरबों वर्षों के दिन थे। प्रगतिशील सृजनवाद पृथ्वी की आयु के विकासवादी दृष्टिकोण को स्वीकार करते हैं, जिसे हम महसूस करते हैं कि यह त्रुटिपूर्ण है।

प्रगतिशील सृजनवाद के साथ हमारी एक और असहमति यह है कि यह विश्‍वास करता है कि मृत्यु से पहले ही मृत्यु विद्यमान थी, जो इस शिक्षा के मूल्य को कम कर देती है कि सारी शारीरिक मृत्यु पाप का परिणाम है (रोमियों 5:12 और 1 कुरिन्थियों 15:21-22 को देखें)।

कुछ परिस्थितियों में, प्रगतिशील सृजनवाद कुछ मसीही विश्‍वासियों के द्वारा बाइबल के साथ आधुनिक विज्ञान की शिक्षाओं को सुसंगत बनाने का प्रयास है। यद्यपि, सिद्धान्त वास्तव में आधुनिक विकासवादी सोच से निकल कर आता है और कुछ आरम्भिक मसीही लेखकों के द्वारा सुझाया गया था। जबकि हम प्रगतिशील सृजनवाद से असहमत हैं, तथापि इस विचार को मसीही समुदाय बड़े पैमाने पर थामे हुए है।

जो कुछ भी कहा गया है, उत्पत्ति की पारम्परिक व्याख्या अधिकांश रूप से युवा पृथ्वी की धारणा वाले सृजनवाद की है, प्रगतिशील सृजनवाद की नहीं। ऐसा इसलिए है क्योंकि प्रगतिशील सृजनवाद के लिए सुझाए गए सबसे दृढ़ प्रमाण मुख्य रूप से सीधे बाइबल के शब्दों से नहीं अपितु विज्ञान के क्षेत्र से आते हैं।

English
हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
प्रगतिशील सृजनवाद क्या है और क्या यह बाइबल आधारित है?