आत्मा में प्रार्थना करना क्या होता है?



प्रश्न: आत्मा में प्रार्थना करना क्या होता है?

उत्तर:
आत्मा में प्रार्थना करना पवित्रशास्त्र में तीन बार उल्लेख किया गया है। पहला कुरिन्थियों 14:15 कहता है, "अत: क्या करना चाहिए? मैं आत्मा से भी प्रार्थना करूँगा, और बुद्धि से भी प्रार्थना करूँगा, मैं आत्मा से भी गाऊँगा, और बुद्धि से भी गाऊँगा।" इफिसियों 6:18 कहता है, "हर समय और हर प्रकार से आत्मा में प्रार्थना, और विनती करते रहो, और इस लिये जागते रहो कि सब पवित्र लोगों के लिये लगातार विनती किया करो।" यहूदा 20 कहता है, "पर हे प्रियो, तुम अपने अति पवित्र विश्‍वास में उन्नति करते हुए और पवित्र आत्मा में प्रार्थना करते हुए।" इस तरह से, आत्मा में प्रार्थना करने का सटीकता के साथ क्या अर्थ है?

जिस यूनानी शब्द से "प्रार्थना में" का अनुवाद हुआ है, उसके कई अर्थ हो सकते हैं। इसका अर्थ "के द्वारा," "सहायता के साथ," "उस प्रभाव में," और "उसके साथ सम्पर्क" इत्यादि। आत्मा में प्रार्थना करना उन शब्दों को उद्धृत नहीं करता जिन्हें हम प्रार्थना में उपयोग कर रहे हैं। इसकी अपेक्षा, यह इस बात को उद्धृत करता है कि हम कैसे प्रार्थना कर रहे हैं। आत्मा में प्रार्थना करना आत्मा की अगुवाई के अनुसार होता है। यह उन बातों के लिए प्रार्थना करना होता है, जिनके लिए आत्मा हमें प्रार्थना करने के लिए मार्गदर्शन देता है। रोमियों 8:26 हमें कहता है, "इसी रीति से आत्मा भी हमारी दुर्बलता में सहायता करता है, क्योंकि हम नहीं जानते, कि प्रार्थना किस रीति से करना चाहिए; परन्तु आत्मा आप ही ऐसी आहें भर भरकर जो बयान से बाहर है, हमारे लिये विनती करता है।"

कुछ लोग, 1 कुरिन्थियों 14:15 पर आधारित हो, आत्मा में प्रार्थना करने को अन्यभाषा में प्रार्थना करने के तुल्य मानते हैं। अन्यभाषा के वरदान के ऊपर विचार विमर्श करते हुए, पौलुस "आत्मा में प्रार्थना करने" का उल्लेख करता है। पहला कुरिन्थियों 14:14 कहता है कि जब एक व्यक्ति अन्यभाषा में प्रार्थना करता है, तब वह नहीं जानता कि वह क्या कह रहा है, क्योंकि यह ऐसी भाषा में बोला जाता है, जिसे वह नहीं जानता है। इसके अतिरिक्त, कोई भी और नहीं समझ सकता है कि क्या कहा जा रहा है, जब कि वहाँ पर अनुवादक उपस्थित न हो (1 कुरिन्थियों 14:27-28)। इफिसियों 6:18 में, पौलुस हमें निर्देश देता है कि हम "हम समय और हर प्रकार से आत्मा में प्रार्थना और विनती करते रहें।" हमें कैसे हर प्रकार की प्रार्थनाओं और विनतियों के साथ और सन्तों के लिए प्रार्थना करनी चाहिए, यदि कोई भी नहीं, जिसमें प्रार्थना करने वाला व्यक्ति भी सम्मिलित है, जो कुछ कहा जा रहा है, उसे समझ ही नहीं रहा है? इसलिए, आत्मा में प्रार्थना करने को ऐसे समझा जाना चाहिए कि जैसे यह आत्मा की सामर्थ्य में, आत्मा की अगुवाई के द्वारा, और उसकी इच्छा के अनुसार प्रार्थना करना है, परन्तु अन्यभाषा में प्रार्थना करने की तरह नहीं है।



हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए



आत्मा में प्रार्थना करना क्या होता है?