क्या स्वर्ग में हमारे पास भौतिक शरीर होंगे?


प्रश्न: क्या स्वर्ग में हमारे पास भौतिक शरीर होंगे?

उत्तर:
यद्यपि, बाइबल हमें बताती है कि स्वर्ग में कैसा क्या होगा, ऐसा प्रतीत होता है कि हमारे पास शारीरिक रूप से भौतिक शरीर होगा, तथापि यह हमारे पास "भौतिक" जैसे अर्थ में नहीं होगा। पहला कुरिन्थियों 15:52 कहता है कि "मुर्दे अविनाशी दशा में उठाए जाएँगे" और जो लोग मसीह के पुन: आगमन के समय जीवित होंगे, "बदल जाएँगे।" यीशु मसीह उन लोगों में "पहला फल" है, जो मर चुके हैं (1 कुरिन्थियों 15:20, 23)। इसका अर्थ है कि उसने नमूने को स्थापित कर दिया है और वह पथ में अगुवाई करता है। पहला कुरिन्थियों 15:42 का कहना है कि हमारा "शरीर नाशवान् दशा में बोया जाता है, और अविनाशी रूप में जी उठता है।" विश्‍वासियों के पुनरुत्थान के कुछ समय पहले, कुछ लोग मत्ती 27:52 में मसीह के पुनरुत्थान के समय जी उठे थे, जहाँ ऐसा कह गया है कि उनके "शव ... जी उठे।" यूहन्ना 20:27 में, थोमा को यीशु के पुनरुत्थान के बाद शारीरिक रूप से मसीह के शरीर को स्पर्श करने के लिए आमन्त्रित किया गया था, इसलिए वह स्पष्ट रूप से एक शरीर था, जो कि ठोस था।

हम आशा कर सकते हैं कि सभी विश्‍वासियों के शरीरों का पुनरुत्थान मसीह की तरह होगा। क्या यह एक अद्भुत सच नहीं है! बाइबल विशेष रूप से नहीं बताती है, तथापि ऐसा प्रतीत होता है कि हम भोजन करने में सक्षम होंगे। प्रकाशितवाक्य 22:2 में, यूहन्ना शाश्‍वत राज्य के प्रति अपनी दर्शन के बारे में लिखते हैं, जिसमें उसने ऐसा देखा कि "उस नगर की सड़क के बीचों बीच बहती थी। नदी के इस पार और उस पार जीवन का वृक्ष था; उसमें बारह प्रकार के फल लगते थे, और वह हर महीने फलता था..।" यह उत्पत्ति 3 के दण्ड के विपरीत प्रतीत होता है, जहाँ आदम और हव्वा, और इस कारण सारी मानव जाति को इस वृक्ष में से खाने के लिए प्रतिबन्धित कर दिया गया था। जहाँ तक भूख की बात है, ऐसा प्रतीत होता है कि यह फिर कभी नहीं होगी। यशायाह 49:10 कहता है कि सहस्राब्दी राज्य में कोई भूख या प्यास नहीं होगी। यह उस अवधि के समय रहने वाले नाशवान प्राणियों के बारे में बात कर रहा है, न कि शरीरों में परिवर्तित हुए सन्तों की, परन्तु विस्तार से यह कहा जा सकता है कि यदि मसीह के राज्य के समय पृथ्वी पर नाशवान प्राणियों में भूख नहीं है, तो निश्‍चित रूप से स्वर्ग में भी कोई भूख नहीं होगी (प्रकाशितवाक्य 7:14 -16)।

अन्त में, अय्यूब ने लिखा कि वह निश्‍चित रूप से जानता था कि मरने के बाद भी और जब उसका शरीर समाप्त हो जाएगा, तब यह कि "मैं शरीर में होकर परमेश्‍वर का दर्शन करने पाऊँगा" (अय्यूब 19:26 – शब्दों को जोर देने के लिए मोटा किया गया है)। इस कारण इसका अर्थ यह हुआ कि हमारे शरीर में एक प्रकार की महिमामयी देह होगी। हमारे पास जो भी रूप होगा, हम जानते हैं कि यह सिद्ध, पापहीन और निर्दोष होगा।

English


हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
क्या स्वर्ग में हमारे पास भौतिक शरीर होंगे?