बाइबल धैर्य के बारे में क्या कहता है?



प्रश्न: बाइबल धैर्य के बारे में क्या कहता है?

उत्तर:
जब सब कुछ आपकी इच्छानुसार होता चला जाता है, तब धैर्य को प्रगट करना बहुत ही आसान होता है। धैर्य का वास्तविक परीक्षा तब आती है, जब हमारे अधिकारों का उल्लंघन हो रहा होता हैं - जब कोई दूसरी कार यातायात में हमें पछाड़ते हुए हमसे आगे निकल जाती है; जब हमसे पक्षपात किया जाता है; जब हमारे साथी हमारे विश्‍वास को बारी-बारी तोड़ते हैं। कुछ लोग सोचते हैं, कि चिड़चिड़ाहट और परीक्षाओं के सामने हमारे द्वारा परेशान हो जाना उचित है। अधीर हो जाना एक पवित्र क्रोध के जैसे आभासित होता है। तथापि, बाइबल धैर्य की प्रशंसा आत्मा के फल के रूप में करती है (गलातियों 5:22) जिसे मसीह के अनुयायियों के द्वारा उत्पादित किया जाना चाहिए (1 थिस्सलुनीकियों 5:14)। धैर्य हमारे विश्‍वास को परमेश्‍वर के समय, सर्वसामर्थ और प्रेम में होने को व्यक्त करता है।

यद्यपि बहुत से लोग धैर्य को एक निष्क्रिय प्रतीक्षा या दीनता भरी हुई सहनशीलता के रूप में समझते हैं, तथापि नए नियम में "धैर्य" के लिए बहुत से यूनानी शब्दों को सबसे अधिक सक्रिय, मजबूत शब्द के अनुवाद के रूप में किया गया हैं। उदाहरण के लिए, इब्रानियों 12:1 पर ध्यान दें: “इस कारण जब कि गवाहों का ऐसा बड़ा बादल हम को घेरे हुए है, तो आओ, हर एक रोकनेवाली वस्तु और उलझानेवाले पाप को दूर करके, वह दौड़ जिसमें हमें दौड़ना है, धीरज से दौड़ें" (हिन्दी बी एस आई बाइबल)। क्या कोई एक निष्क्रिय धीमी-गति से या धोखेबाज को नम्रता के साथ सहन करते हुए दौड़ को दौड़ने की प्रतीक्षा करता है? नहीं, निश्चित रूप से नहीं! इस वचन में अनुवादित शब्द "धैर्य" का अर्थ "धीरज" से है। एक मसीही विश्‍वासी कठिनाइयों में टिके रहने के द्वारा धैर्य के साथ अपनी दौड़ को पूरा करता है। बाइबल में, धैर्य एक लक्ष्य की प्राप्ति की ओर धीरज के साथ आगे बढ़ना, परीक्षा में सहनशील होने, या एक प्रतिज्ञा के पूरा होने की अपेक्षा आशापूर्वक करने से है।

धैर्य रातों-रात ही विकसित नहीं हो जाता है। धैर्य के विकसित होने में परमेश्‍वर की सामर्थ्य और भलाई अति महत्वपूर्ण होती है। कुलुस्सियों 1:11 हमें बताता है, कि हम उसके द्वारा "बड़े धीरज और सहनशीलता" के साथ सामर्थी बनाए गए हैं, जबकि याकूब 1:3-4 हम यह जानने के लिए उत्साहित करता है, कि हमारे धैर्य को परिपक्व होने के लिए परीक्षाएँ उसकी ओर से प्रदत्त तरीका है। हमारा धैर्य परमेश्‍वर की सिद्ध इच्छा और समय के ऊपर सब कुछ छोड़ देने के द्वारा और अधिक विकसित होता चला जाता है, यहाँ तक जब हम किसी ऐसे बुरे व्यक्ति का सामना करते हैं, जिसके "काम सफल होते हैं, और वह बुरी युक्तियों को निकालता है" (भजन संहिता 37:7)। हमारे धैर्य को अन्त में इसलिए प्रतिफल मिलता है, "क्योंकि प्रभु का आगमन निकट है" (याकूब 5:7-8)। “जो यहोवा की बाट जोहते और उसके पास जाते हैं, उनके लिए यहोवा भला है" (विलाप गीत 3:25)।

हम बाइबल में कई ऐसे उदाहरणों को पाते हैं, जिनके धैर्य को परमेश्‍वर के साथ उनके जीवन में चित्रित किया गया है। याकूब भविष्यद्वक्ताओं की ओर संकेत करता है, जिन्हें "दु:ख उठाने और धीरज धरने का एक आदर्श समझा" जाना चाहिए (याकूब 5:10)। वह अय्यूब को भी उद्धृत करता है, जिसके धीरज को प्रतिफल इस लिए दिया गया क्योंकि उसके जीवन की घटना का अन्त में "प्रभु की ओर से उसका प्रतिफल हुआ" (याकूब 5:11)।

अब्राहम ने भी, धैर्य के साथ प्रतीक्षा की और "जो कुछ प्रतिज्ञा की गई उसे प्राप्त किया" (इब्रानियों 6:15)। यीशु सभी वस्तुओं में हमारे आदर्श है, और उसने भी धीरज के साथ सब कुछ सहन करने को प्रदर्शित किया "जिसने उस आनन्द के लिये जो उसके आगे धरा था, लज्जा की कुछ चिन्ता न करके क्रूस का दु:ख सहा, और परमेश्‍वर के सिंहासन की दाहिनी ओर जा बैठा" (इब्रानियों 12:2)।

हम कैसे उस धैर्य को प्रदर्शित करते हैं, जो मसीह के चरित्र में है? सबसे पहले, हम परमेश्‍वर को धन्यवाद देते हैं। एक व्यक्ति की प्रथम प्रतिक्रिया अक्सर यही होती है, "मैं ही क्यों?" परन्तु बाइबल कहती है कि हमें परमेश्‍वर की इच्छा में आनन्दित होना चाहिए (फिलिप्पियों 4:4; 1 पतरस 1:6)। दूसरा, हमें उसके उद्देश्यों को खोज करनी चाहिए। कई बार परमेश्‍वर हमें कठिन परिस्थितियों में डाल देता है, ताकि हम उसके गवाह हो सकें। दूसरे समयों में, वह हमारे चरित्र में पवित्रीकरण के लिए किसी एक परीक्षा को आने की अनुमति दे सकता है। स्मरण रखें कि उसका उद्देश्य हमारे विकास के लिए है और उसकी महिमा हमें सहायता परीक्षा में करेगी। तीसरा, हमें उसकी प्रतिज्ञाओं को स्मरण रखना चाहिए, जैसे कि रोमियों 8:28, जो हमें यह बताता है कि, "हम जानते हैं कि जो लोग परमेश्‍वर से प्रेम रखते हैं, उनके लिये सब बातें मिलकर भलाई ही को उत्पन्न करती हैं; अर्थात् उन्हीं के लिए जो उसकी इच्छा के अनुसार बुलाए हुए हैं।" "सब बातों" में ऐसी बातें भी सम्मिलित हैं, जिनमें हमारे धैर्य की आवश्यकता होती है।

अगली बार जब आप किसी यातायात जाम में फँस जाते हैं, या कोई मित्र आपके साथ विश्‍वासघात कर लेता है, या आपको आपकी गवाही के कारण ठट्ठों में उड़ाया जाता है, तब आप कैसे प्रतिक्रिया व्यक्ति करेंगे? स्वाभाविक प्रतिक्रिया अधीर हो उठना है, जो तनाव, क्रोध, और हताशा की ओर ले चलती है। परमेश्‍वर की स्तुति हो, कि मसीही विश्‍वासियो अब और अधिक "स्वाभाविक प्रतिक्रिया" के बन्धन में नहीं हैं, क्योंकि हम स्वयं मसीह में नई सृष्टि हैं (2 कुरिन्थियों 5:17)। इसकी अपेक्षा, हमारे पास धैर्य के साथ प्रतिक्रिया व्यक्त करने के लिए परमेश्‍वर की सामर्थ्य और पिता की सामर्थ्य और उद्देश्य में पूर्ण भरोसा है। "जो सुकर्म में स्थिर रहकर महिमा, और आदर, और अमरता की खोज में हैं, उन्हें वह अनन्त जीवन देगा" (रोमियों 2:7)।



हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए



बाइबल धैर्य के बारे में क्या कहता है?