क्या एक तिहाई स्वर्गदूत लूसिफर के साथ पाप के कारण नीचे गिरा दिए गए थे?


प्रश्न: क्या एक तिहाई स्वर्गदूत लूसिफर के साथ पाप के कारण नीचे गिरा दिए गए थे?

उत्तर:
यद्यपि कोई वचन ऐसा नहीं है जो यह कहता है कि "एक तिहाई स्वर्गदूत स्वर्ग से नीचे गिरा दिए गए थे," कुछ सन्दर्भों को एक साथ रखकर, हम उस निष्कर्ष तक पहुँचते हैं। उनकी रचना किए जाने के कुछ समय पश्‍चात् और निश्चित रूप से छठे दिन के पश्‍चात् जब सब कुछ "बहुत अच्छा" घोषित कर दिया गया था (उत्पत्ति 1:31), तब शैतान ने विद्रोह किया और स्वर्ग से बाहर निकाल दिया गया। "हे भोर के चमकनेवाले तारे, तू कैसे आकाश से गिर पड़ा है? तू जो जाति जाति को हरा देता था, तू अब कैसे काटकर भूमि पर गिराया गया है!" (यशायाह 14:12)। यीशु ने कहा कि, "मैं शैतान को बिजली के समान स्वर्ग से गिरा हुआ देख रहा था" (लूका 10:18) और प्रकाशितवाक्य की पुस्तक में शैतान को "स्वर्ग से पृथ्वी पर एक तारा गिरते हुए" के रूप में देखा जाता है (प्रकाशितवाक्य 9:1)।

हमें यह भी बताया जाता है कि "लाँखों स्वर्गदूतों" (इब्रानियों 12:22) में से एक तिहाई ने उसके साथ विद्रोह करना चुना। यूहन्ना ने स्वर्ग में इस अद्भुत आश्‍चर्य को देखा था, "... एक बड़ा लाल अजगर था... उसकी पूंछ ने आकाश के तारों की एक तिहाई को खींचकर पृथ्वी पर डाल दिया... तब वह बड़ा अजगर, अर्थात् वही पुराना साँप जो इब्लीस और शैतान कहलाता है और सारे संसार का भरमानेवाला है, पृथ्वी पर गिरा दिया गया, और उसके दूत उसके साथ गिरा दिए गए" (प्रकाशितवाक्य 12:3-9)।

क्योंकि शैतान को एक तारे के रूप में जाना जाता है, जो गिर गया या पृथ्वी पर गिरा दिया गया था और प्रकाशितवाक्य 12: 4 कहता है कि सितारों में से एक तिहाई उसके साथ बाहर निकाल दिए गए थे, तो निष्कर्ष यह निकलता है कि प्रकाशितवाक्य 12 में गिरने वाले तारे स्वर्गदूतों को सन्दर्भित करते हैं, यह स्वर्गीय प्राणियों के एक तिहाई हैं। यदि एक तिहाई सँख्या वास्तव में सही है, तो यह किस तरह का आश्‍वासन है! दो तिहाई स्वर्गदूत अभी भी परमेश्‍वर के पक्ष में हैं और मसीह के अनुयायियों के लिए भी पक्ष में हैं।

English


हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
क्या एक तिहाई स्वर्गदूत लूसिफर के साथ पाप के कारण नीचे गिरा दिए गए थे?