मैं कैसे जान सकता हूँ कि मैं चुने हुओं में से एक हूँ?


प्रश्न: मैं कैसे जान सकता हूँ कि मैं चुने हुओं में से एक हूँ?

उत्तर:
जबकि उद्धार के सम्बन्ध में चुने हुए होने का क्या अर्थ है, के सम्बन्ध में कई विचार पाए जाते हैं, तथापि विश्‍वासियों के चुने हुए होने की सच्चाई निर्विवाद है (रोमियों 8:29-30; इफिसियों 1:4-5, 11; 1 थिस्सलुनीकियों 1:4)। सीधे शब्दों में कहें तो चुने हुओं का धर्मसिद्धान्त यह है कि परमेश्‍वर चुनाव करता/निर्धारित करता/चुनता है/पूर्व-निर्धारित करता है कि कौन बचाया जाएगा। चुनाव किए जाने का काम कैसे होता है, उसे निर्धारित करना इस लेख के क्षेत्र में नहीं है। इसकी अपेक्षा, प्रश्न यह है कि "मैं कैसे जान सकता हूँ कि मैं चुने हुओं में से एक हूँ?" इसका उत्तर बहुत ही अधिक सरल है: विश्‍वास करें!

बाइबल कहीं भी हमें चुने हुओं और न-चुने हुओं की हमारी अवस्था के बारे में चिन्तित होने का निर्देश नहीं देती है। इसकी अपेक्षा, परमेश्‍वर हमें विश्‍वास करने, विश्‍वास के माध्यम से यीशु मसीह को उद्धारकर्ता के रूप में प्राप्त करने के लिए बुलाता है (यूहन्ना 3:16; इफिसियों 2:8-9)। यदि कोई व्यक्ति उद्धार के लिए एकमात्र यीशु के ऊपर भरोसा करता है, तो वह व्यक्ति चुने हुओं में से एक है। चाहे विश्‍वास चुने जाने को सुरक्षित करता है, या चुना जाना विश्‍वास का कारण बनता है — यह विवाद का एक और विषय है। परन्तु जो बात निश्‍चित है, वह यह है कि विश्‍वास चुनाव का प्रमाण है। कोई भी यीशु को उद्धारकर्ता के रूप में तब तक प्राप्त नहीं कर सकता है जब तक कि परमेश्‍वर उसे अपनी ओर आकर्षित न करे (यूहन्ना 6:44)। परमेश्‍वर उन लोगों को बुलाता/आकर्षित करता है, जिन्हें उसने पूर्व-निर्धारित किया/चुन लिया है (रोमियों 8:29-30)। ईश्‍वरीय चुनाव के बिना बचाए जाने वाला विश्‍वास सम्भव नहीं है। इसलिए, चुने जाने के लिए बचाए जाने वाला विश्‍वास प्रमाण होता है।

यह विचार कि एक व्यक्ति बचाया जाना चाहता है, परन्तु ऐसा करने में असमर्थ है, क्योंकि वह चुने हुओं में एक नहीं है, बाइबल के लिए पूर्ण रूप से अज्ञात् है। कोई भी अपने आप से उद्धार के लिए परमेश्‍वर की योजना के पीछे नहीं आना चाहता है (रोमियों 3:10-18)। मसीह के बिना उद्धार की आवश्यकता वाले लोग अन्धे हैं (2 कुरिन्थियों 4:4)। यह परिस्थिति केवल तब ही परिवर्तित होती है, जब स्वयं परमेश्‍वर एक व्यक्ति को अपनी ओर आकर्षित करना आरम्भ करता है। यह परमेश्‍वर है, जो आँखों को खोलता है और उद्धारकर्ता के रूप में यीशु मसीह की आवश्यकता के लिए मनों को प्रकाशित करता है। एक व्यक्ति तब तक पश्‍चाताप नहीं कर सकता (पाप के बारे में मन का परिवर्तन और उद्धार की आवश्यकता) जब तक कि परमेश्‍वर उसे पश्‍चाताप न प्रदान करे (प्रेरितों के काम 11:18)। इसलिए, यदि आप परमेश्‍वर की उद्धार की योजना को समझते हैं, इसके लिए अपनी आवश्यकता को पहचानते हैं, और अपने उद्धारकर्ता के रूप में यीशु मसीह को प्राप्त करने के लिए मजबूरी को महसूस करते हैं, फिर विश्‍वास करते हैं, और आप बचाए जाते हैं।

यदि आपने यीशु मसीह को आपके उद्धारकर्ता के रूप में स्वीकार किया है, उद्धार के लिए केवल उसी के ऊपर भरोसा किया है, विश्‍वास किया है कि उसका बलिदान आपके पापों के लिए पूर्ण रीति से अदा किया हुआ भुगतान है — तो बधाई हो, आप चुने गए हैं।

English


हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
मैं कैसे जान सकता हूँ कि मैं चुने हुओं में से एक हूँ?