हमें क्यों पुराने नियम का अध्ययन करना चाहिए?



प्रश्न: हमें क्यों पुराने नियम का अध्ययन करना चाहिए?

उत्तर:
पुराने नियम को पढ़ने के लिए बहुत से कारण हैं। इनमें से एक, पुराना नियम नए नियम में दी हुई शिक्षाओं और घटनाओं के लिए नींव को स्थापित करता है। बाइबल एक प्रगतिशील प्रकाशन है। यदि हम किसी भी अच्छी पुस्तक के पहले आधे हिस्से को छोड़ देंगे और इसे समाप्त करने का प्रयास करेंगे, तब आपको इसके पात्रों, कथानक और अन्त को समझने में कठिनाई का सामना करना होगा। कुछ इसी तरह, नया नियम केवल तब भी पूर्ण रीति से समझा जा सकता है जब हम घटनाओं, पात्रों, व्यवस्थाओं, बलिदान पद्धति, वाचाओं और पुराने नियम की प्रतिज्ञाओं को उसकी नींव सहित देखते हैं।

यदि हमारे पास केवल नया नियम ही होता, तब हम सुसमाचार को पढ़ेंगे और नहीं जान पाएँगे कि क्यों यहूदी एक मसीह (एक उद्धारकर्ता राजा) की प्रतिज्ञा कर रहे थे। हम नहीं समझ पाएँगे कि क्यों यह मसीह आएगा (देखें यशायाह 53) और हम साथ ही नासरत के यीशु की पहचान उस मसीह के साथ नहीं कर पाएगा जिसका विवरण उसके सम्बन्ध में विवरण सहित भविष्यद्वाणियों में दिया गया है [उदाहरण के लिए, उसका जन्म स्थान (मीका 5:2), उसकी मृत्यु का तरीका (भजन संहिता 22, विशेष रूप से 1, 7 - 8, 14-18; 69:21), उसका जी उठना (भजन संहिता 16:10), और उसकी सेवकाई से सम्बन्धित कई अन्य विवरण (यशायाह 9:2; 52:3)].

पुराने नियम का अध्ययन नए नियम में उल्लिखित यहूदी रीति रिवाजों की समझ को पाने के लिए भी अति महत्वपूर्ण है। हम नहीं समझ पाएँगे कि फरीसियों ने परमेश्‍वर की व्यवस्था को अपनी रीति रिवाजों से मिलावट करते हुए भ्रष्ट कर दिया था, या क्यों यीशु इतना अधिक नाराज था जब उसने मन्दिर के आंगन को शुद्ध किया, या यीशु को वे शब्द कहाँ से मिले जो उसने उसके बहुत से विरोध करने वालों के लिए अपने उत्तरों में उपयोग किए।

पुराना नियम अँसख्य भविष्यद्वाणियों को विवरण सहित लिपिबद्ध करता है जो केवल तब ही सच्ची हो सकती थी यदि बाइबल मनुष्य का नहीं, अपितु परमेश्‍वर का वचन होता (उदाहरण के लिए दानिय्येल 7 और उसके बाद आने वाले अध्याय)। दानिय्येल की भविष्यद्वाणियाँ जातियों के उठने और पतन के बारे में विशेष रूप से विस्तार सहित भविष्यद्वाणियों के विवरण को देती हैं। सच्चाई तो यह है, कि ये भविष्यद्वाणियाँ इतनी अधिक सटीक हैं कि यहाँ तक कि सन्देहवादी भी इन पर विश्‍वास करने को चुनते हैं क्योंकि ये तथ्यों के अनुसार लिखी गई हैं।

हम पुराने नियम का अध्ययन इसलिए करते हैं क्योंकि इसमें असँख्य शिक्षाएँ हमारे लिए निहित हैं। पुराने नियम में दिए हुए पात्रों के जीवन का अवलोकन करने के द्वारा, हम हमारे अपने जीवनों में मार्गदर्शन को प्राप्त करते हैं। हमें परमेश्‍वर के ऊपर भरोसा करने के लिए उत्साहित किया गया चाहे परिस्थितियाँ कैसी भी क्यों न हों (दानिय्येल 3)। हम हमारे निश्चयों के ऊपर दृढ़ता के साथ खड़ा होना सीखते हैं (दानिय्येल 1) और विश्‍वासयोग्यता के लिए प्रतिफल को पाने की प्रतिज्ञा करते हैं (दानिय्येल 6)। हम शीघ्रता और गंभीरता के साथ अपने पापों को अंगीकार करना सीखते हैं इसकी अपेक्षा कि किसी और के ऊपर दोष डाल दिया जाए (1 शमूएल 15)। हम पाप के साथ न खेलना को सीखते हैं, क्योंकि यह हमें पकड़ ही लेता है (न्यायियों 13-16)। हम यह सीखते हैं कि पाप के न केवल हमारे स्वयं के लिए परिणाम निकलते हैं अपितु अपने प्यारों के लिए भी (उत्पत्ति 3) और, यह कहना, कि हमारे भले व्यवहार का हमारे लिए और जो हमारे चारों ओर हैं उनके लिए प्रतिफल प्रतीक्षा कर रहा है (निर्गमन 20:5-6)।

पुराने नियम का अध्ययन साथ हमें भविष्यद्वाणी को समझने में हमारी सहायता करता है। पुराने नियम में कई ऐसी प्रतिज्ञाएँ निहित हैं जो परमेश्‍वर के द्वारा यहूदी जाति के लिए पूरा होना बाकी हैं। पुराना नियम ऐसी बातों को प्रकाशित करता है जैसे कि महाक्लेश के काल की अवधि, कैसे मसीह भविष्य में यहूदियों के लिए अपनी प्रतिज्ञाओं को पूर्ण करने के लिए 1,000 वर्षों के राज्य को स्थापित करने के लिए आएगा, और कैसे बाइबल का निष्कर्ष हमें अन्त के साथ बाँधे रखते हैं जिन्हें समय के आरम्भ में ही प्रगट कर दिया गया है।

सारांश में, पुराना नियम हमें यह सीखाता है कि कैसे परमेश्‍वर को प्रेम करना और उसकी सेवा करनी है और यह परमेश्‍वर के चरित्र के बारे में और अधिक प्रकाशित करता है। इसे निरन्तर पूर्ण होती हुई भविष्यद्वाणियों के द्वारा दिखाया गया है कि क्यों बाइबल अन्य सभी पवित्र पुस्तकों में अकेली ही अद्वितीय है; केवल यही जो कुछ यह दावा करती है उसे प्रदर्शित करने के लिए सक्षम है: अर्थात् यह कि यह परमेश्‍वर का प्रेरित वचन है। संक्षेप में, यदि आपने अभी तक पुराने नियम के पृष्ठों को नहीं पढ़ा है, तो आप उस बहुत कुछ को खो रहे हैं जिसे परमेश्‍वर ने आपके लिए उपलब्ध किया है।



हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए



हमें क्यों पुराने नियम का अध्ययन करना चाहिए?