बपतिस्मा लेने का उचित तरीका क्या है?



प्रश्न: बपतिस्मा लेने का उचित तरीका क्या है?

उत्तर:
इस प्रश्न का सरल उत्तर शब्द "बैपटिज़ो" के अर्थ में पाया जाता है। यह एक यूनानी शब्द से निकल कर आता है जिसका अर्थ "पानी में डूबने" से होता है। इसलिए, छिड़के या उण्डेले जाने के द्वारा दिए जाने वाला बपतिस्मा एक विरोधालंकार, कुछ ऐसा कि जो स्वयं-विरोधाभासी है। बपतिस्मा को छिड़काव के द्वारा दिए जाने का अर्थ "किसी के ऊपर छिड़काव करने के द्वारा किसी को पानी में डूबोना।" बपतिस्मा, अपनी निहित परिभाषा के कारण, पानी में डूबने का ही एक कार्य होना चाहिए।

बपतिस्मा एक विश्‍वासी का मसीह की मृत्यु, उसके गाड़े जाने और उसके जी उठने के साथ अपनी पहचान होने का संकेत देता है। "क्या तुम नहीं जानते कि हम सब जिन्होंने मसीह यीशु का बपतिस्मा लिया, उसकी मृत्यु का बपतिस्मा लिया। अत: उसकी मृत्यु का बपतिस्मा पाने से हम उसके साथ गाड़े गए, ताकि जैसे मसीह पिता की महिमा के द्वारा मरे हुओं में से जिलाया गया, वैसे ही हम भी नए जीवन की सी चाल चलें" (रोमियों 6:3-4)। पानी में डूबना मसीह की मृत्यु और उसके साथ गाड़े जाने के चित्र को प्रस्तुत करता है। पानी से बाहर निकलना मसीह के जी उठने को दर्शाता है। परिणामस्वरूप, बपतिस्मा के द्वारा डूबना ही बपतिस्मा का केवल एक तरीका है जो मसीह के साथ गाड़े जाने और उसके साथ जी उठना दर्शाता है। बपतिस्मा छिड़काव के द्वारा दिया जाना/या उण्डेलने के द्वारा दिया जाना बच्चों के गैर-बाइबल आधारित अभ्यास के फलस्वरूप आया है।

डूबने के द्वारा हुआ बपतिस्मा, जबकि यह मसीह के साथ पहचान किए जाने के लिए सबसे अधिक बाइबल आधारित तरीका है, तथापि यह उद्धार के लिए एक शर्त नहीं है। इसकी अपेक्षा यह आज्ञाकारिता का, मसीह में विश्‍वास की सार्वजनिक घोषणा और उसके साथ पहचान किए जाने का एक कार्य है। बपतिस्मा हमारे पुराने जीवन को छोड़ने और नई सृष्टि बन जाने का चित्र है (2 कुरिन्थियों 5:17)। पानी में पूरा डूबना ही केवल एक ऐसा तरीका है जो पूर्ण रीति से इस क्रान्तिकारी परिवर्तन को दर्शाता है।



हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए



बपतिस्मा लेने का उचित तरीका क्या है?