बाइबल अकेलेपन के बारे में क्या कहती है?


प्रश्न: बाइबल अकेलेपन के बारे में क्या कहती है?

उत्तर:
अकेले रहना और अकेला होना दो अलग-अलग बातें हैं। अकेला रहे बिना एक व्यक्ति अकेला हो सकता है, और एक भीड़ भरे कमरे में अकेला हो सकता है। इसलिए, अकेलापन मन की एक ऐसी अवस्था है, जो अन्य मनुष्यों से पृथक होने की भावनाओं द्वारा लाया गया भाव होता है। पृथकता की भावना उन लोगों द्वारा बहुत अधिक गहराई से अनुभव की जाती है, जो अकेले होते हैं। जिस इब्रानी शब्द का अनुवाद पुराने नियम में "उजाड़" या "अकेले" के लिए किया गया है, उसका अर्थ "एक अकेला, केवल एक, एक व्यक्ति जो एकान्त में है, त्याग दिया गया, छोड़ दिया गया" से है। कोई भी गहरा दुःख इतना बड़ा नहीं होता है, जो इस विचार से आता है कि हम इस संसार में अकेले हैं, यह कि हमारे पास कोई मित्र नहीं है, यह कि कोई भी हमारी चिन्ता नहीं करता है, यह कि किसी को हमारे साथ होने वाली किसी भी घटना की चिन्ता नहीं है, या यहाँ तक कि कोई चिन्ता नहीं करता यदि हम मर जाएँ।

किसी को भी दाऊद से अधिक अकेलेपन का अनुभव नहीं हुआ है। अपने अकेलेपन की श्रृंखला में, परमेश्‍वर से हार्दिक आग्रह करते हुए, दाऊद अपने अकेलेपन और निराशा में विलाप करता है। उसका अपना पुत्र उसके विरूद्ध उठ खड़ा हुआ था, इस्राएल के लोग उसके पीछे हो लिए थे, और उसे शहर से भागने के लिए मजबूर कर दिया गया, और उसने अपने घर और परिवार को छोड़ दिया था। अकेला और पीड़ित (भजन संहिता 25:16), उसका एकमात्र सहारा परमेश्‍वर की ओर मुड़ना और दया और परमेश्‍वर के हस्तक्षेप के लिए प्रार्थना करना था (भजन संहिता 25:16-21) क्योंकि उसकी एकमात्र आशा परमेश्‍वर में ही थी। यहाँ ध्यान रखना रूचिपूर्ण है कि लोगों को वर्णन करने के लिए शब्द "अकेले" का उपयोग नए नियम में कभी भी नहीं किया गया है। नए नियम में, शब्द "अकेला" केवल दो बार होता है और दोनों बार उजाड़ स्थानों (मरकुस 1:45; लूका 5:16) को सन्दर्भित करता है, जहाँ यीशु अकेले रहने के लिए जंगल में चला गया था।

अकेलेपन का कारण कुछ भी क्यों न हो, मसीही विश्‍वासी के लिए उपचार सदैव एक ही है - मसीह की सांत्वनादायी संगति। हमारे स्वामी के साथ हमारे प्रेम भरे सम्बन्ध ने अँसख्य हजारों लोगों को आश्‍वस्त और प्रोत्साहित किया जो जेलों में बन्द थे और यहाँ तक कि उन्होंने उसके लिए स्वयं को मृत्यु में दे दिया। वह ऐसा मित्र है, जो "भाई से भी अधिक मिला रहता है" (नीतिवचन 18:24), जो अपने मित्रों के लिए अपना जीवन देता है (यूहन्ना 15:13-15), और जिसने हमें न तो छोड़ने न ही त्यागने की प्रतिज्ञा की है और जिसने हमारे साथ युग के अन्त तक रहने की प्रतिज्ञा की है (मत्ती 28:20)। हम पुराने भजन के शब्दों में विश्राम को प्राप्त कर सकते हैं, जिसमें इस बात को अपने सबसे अच्छे शब्दों में कहा गया है: "दोस्त, मुझे विफल कर सकते हैं, दुश्मन मुझे मार सकते हैं, वह मेरे साथ अन्त तक है। हेलेलुय्याह, वह कैसा उद्धारकर्ता है!"

English
हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
बाइबल अकेलेपन के बारे में क्या कहती है?