हमें पतरस के जीवन से क्या सीखना चाहिए?


प्रश्न: हमें पतरस के जीवन से क्या सीखना चाहिए?

उत्तर:
शमौन पतरस, जिसे कैफा के नाम से भी जाना जाता है (यूहन्ना 1:42), यीशु मसीह के पहले अनुयायियों में से एक था। वह एक मुखर और उत्साही शिष्य था, जो यीशु के सबसे घनिष्ठ मित्रों में से एक था, वह एक प्रेरित और कलीसिया का "खम्भा" था (गलातियों 2:9)। पतरस उत्साही, दृढ़-इच्छाशक्ति रखने वाला, शीघ्रता से आवेश में आने वाला और कई बार क्रूर स्वभाव वाला व्यक्ति था। पतरस में कई गुण थे और उसके जीवन में कई असफलताएँ भी थीं। तौभी, प्रभु जिसने उसे चुना था, वह उसे रूप में ढालता चला गया, जैसा उसने पतरस को बनाने की मंशा की थी।

शमौन पतरस मूल रूप से बेतसैदा (यूहन्ना 1:44) से था और वह कफरनहूम में रहता था (मरकुस 1:29), जो कि गलील के सागर के तट के दोनों ओर बसा हुआ नगर था। वह विवाहित था (1 कुरिन्थियों 9:5; मरकुस 1:30), और वह और याकूब और यूहन्ना एक लाभ देने वाले मछली पकड़ने के व्यवसाय में भागीदार थे (लूका 5:10)। शमौन पतरस ने अपने भाई अन्द्रियास के माध्यम से यीशु से मुलाकात की, जिसने बपतिस्मा देने वाले यूहन्ना को यह घोषणा करते हुए सुना कि यीशु परमेश्‍वर का मेम्ना था, और वह यीशु के पीछे हो लिया था (यूहन्ना 1:35-36)। अन्द्रियास तुरन्त अपने भाई को ढूँढ कर उसे यीशु के पास ले आया। शमौन से मिलने पर, यीशु ने उसे एक नया नाम: कैफा (अरामी) या पतरस (यूनानी) दिया था, जिसका अर्थ "चट्टान" होता है (यूहन्ना 1:40-42)। इसके बाद, यीशु ने आधिकारिक तौर पर पतरस को अपने पीछे चलने के लिए बुलाया, जो बुलाहट की प्रक्रिया में मछलियों के एक बहुत बड़े जाल को आश्‍चर्यजनक रीति से पकड़ता है (लूका 5:1-11)। तुरन्त, पतरस ने प्रभु का अनुसरण करने के लिए सब कुछ अपने पीछे छोड़ दिया (वचन 11)।

अगले तीन वर्षों तक, पतरस प्रभु यीशु के शिष्य के रूप में रहा। जन्म से एक स्वाभाविक- अगुवा होने के नाते, पतरस बारहों की ओर से एक वास्तविक प्रवक्ता बन गया (मत्ती 15:15; 18:21; 19:27; मरकुस 11:21; लूका 8:45; 12:41; यूहन्ना 6:6; 13:6-9, 36)। अधिक महत्वपूर्ण रूप से, यह पतरस ही था, जिसने यीशु को सबसे पहले "मसीह, जीवित परमेश्‍वर का पुत्र" के रूप में स्वीकार किया था, जो कि एक ऐसा सत्य था, जिसे यीशु ने कहा था कि यह पतरस के ऊपर ईश्‍वरीय रीति से प्रगट किया था (मत्ती 16:16-17)।

याकूब और यूहन्ना के साथ पतरस, यीशु के शिष्यों के आन्तरिक घेरे का हिस्सा था। केवल यही तीनों याईर की पुत्री को जीवित किए जाने के समय (मरकुस 5:37) और रूपान्तरण की पहाड़ी पर यीशु के साथ उपस्थित थे (मत्ती 17:1)। पतरस और यूहन्ना को फसह के अन्तिम फसह भोज को तैयार करने के लिए विशेष कार्य दिया गया था (लूका 22:8)।

कई उदाहरणों में, पतरस ने स्वयं को उतावलेपन के विषय में प्रथम व्यक्ति के रूप में प्रगट किया था। उदाहरण के लिए, यह पतरस ही था, जिसने यीशु को पानी पर चलने के लिए नाव को छोड़ दिया था (मत्ती 14:28-29) - और तुरन्त यीशु से अपनी आँखों को हटा लिया था और डूबना आरम्भ किया था (वचन 30)। यह पतरस ही था, जिसने यीशु को अपनी मृत्यु के बारे में बोलने के लिए डांटा था (मत्ती 16:22) - और प्रभु के द्वारा शीघ्रता से सुधारा गया था (वचन 23)। यह पतरस ही था, जिसने मूसा, एलिय्याह और यीशु को सम्मानित करने के लिए तीन तम्बुओं का निर्माण करने का सुझाव दिया था (मत्ती 17:4) - और परमेश्‍वर की महिमा के ऊपर भयभीत रूप से मौन धारण करते हुए भूमि पर गिर पड़ा था (वचन 5-6)। यह पतरस ही था, जिसने अपनी तलवार निकाली थी और महायाजक के सेवक के ऊपर आक्रमण कर दिया था (यूहन्ना 18:10) - और उसे तुरन्त अपने हथियार को कवच में रखने के लिए कहा गया था (वचन 11)। यह पतरस ही था, जिसने दावा किया कि वह कभी भी प्रभु का त्याग नहीं करेगा, चाहे शेष उसे छोड़कर क्यों नहीं चले जाते हैं (मत्ती 26:33) - और बाद में उसका इन्कार तीन बार किया था कि वह प्रभु को भी नहीं जानता है (वचन 70-74)।

पतरस के जीवन में सभी उतार-चढ़ाव में भी, प्रभु यीशु उसका प्यारा प्रभु और विश्‍वासयोग्य मार्गदर्शक बने रहा। यीशु ने शमौन को पतरस के रूप में पुन: पुष्टि की कि वह "चट्टान" है, मत्ती 16:18-19 में, यह प्रतिज्ञा करते हुए कि वह यीशु की कलीसिया की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। यीशु के पुनरुत्थान के पश्‍चात्, यीशु ने विशेष रूप से पतरस का नाम लिया जिसे शुभ सन्देश सुनने की आवश्यकता थी (मरकुस 16:7)। और, मछली के बड़े जाल को पकड़ने के आश्‍चर्यकर्म को दोहराते हुए, यीशु पतरस को क्षमा करते हुए और उसे बहाल करते हुए और उसे प्रेरित के रूप में फिर से स्थापित करते हुए उसके जीवन में एक विशेष बिन्दु को ले आता है (यूहन्ना 21:6, 15-17)।

पिन्तेकुस्त के दिन, पतरस यरूशलेम में भीड़ के लिए मुख्य वक्ता होता है (प्रेरितों के काम 2:14 से आगे के वचन), और कलीसिया लगभग 3,000 नए विश्‍वासियों को अपने में मिलाए जाने के साथ आरम्भ होती है (वचन 41)। बाद में, पतरस ने एक लंगड़े भिखारी को चँगा किया (प्रेरितों के काम 3) और यहूदी महासभा के सामने साहस के साथ प्रचार किया (प्रेरितों के काम 4)। यहाँ तक कि उसकी कैद, पिटाई और उसे दी गई धमकियाँ भी मसीह के लिए प्रचार करने के पतरस के संकल्प को कम नहीं कर सकीं (प्रेरितों के काम 5)।

यीशु प्रतिज्ञा करता है कि कलीसिया के निर्माण को पतरस तीन चरणों में पूरा करेगा: पतरस ने पिन्तेकुस्त के दिन प्रचार किया (प्रेरितों के काम 2)। इसके पश्‍चात्, जब सामरियों ने पवित्र आत्मा को प्राप्त किया (प्रेरितों के काम 8)। अन्त में, उसे रोमी सेनापति कुरनेलियुस के घर पर बुलाया गया, जिसने विश्‍वास किया और पवित्र आत्मा को भी पाया (प्रेरितों के काम 10)। इस तरह, पतरस ने तीन भिन्न संसारों को "खोल" दिया और इस तरह उसने यहूदियों, सामरियों और अन्यजातियों के लिए कलीसिया का दरवाजा खोल दिया।

एक प्रेरित के रूप में भी, पतरस ने कुछ बढ़ती हुई पीड़ाओं का अनुभव किया। सबसे पहले, उसने सुसमाचार को कुरनेलियुस, एक अन्यजाति वाले व्यक्ति के पास ले जाने का विरोध किया। यद्यपि, जब उसने रोम के वासियों को उसी तरह पवित्र आत्मा प्राप्त करते हुए देखा, तो पतरस ने निष्कर्ष निकाला कि "परमेश्‍वर किसी का पक्ष नहीं करता है" (प्रेरितों के काम 10:34)। इसके पश्‍चात्, पतरस ने विश्‍वासियों के रूप में अन्यजातियों की स्थिति का दृढ़ता से बचाव किया और यह स्वीकार किया कि उन्हें यहूदी व्यवस्था के अनुसार जीवन व्यतीत करने की कोई आवश्यकता नहीं है (प्रेरितों के काम 15:7-11)।

पतरस के जीवन में विकास की एक और कड़ी अन्ताकिया के लिए की गई उसकी यात्रा में पाई जाती है, जहाँ उसने अन्यजातियों में आए हुए विश्‍वासियों की संगति का आनन्द उठाया था। यद्यपि, जब कुछ विधिपरायण यहूदी अन्ताकिया में पहुँचे, तो पतरस ने उन्हें प्रसन्न करने के लिए, स्वयं को अन्यजातियों में से आए हुए मसीहियों से दूर कर लिया था। प्रेरित पौलुस ने इसे पाखण्ड के रूप में देखा और इसके लिए पतरस का सामना करने के लिए बुलाया (गलातियों 2:11-14)।

पतरस के जीवन के बाद के वर्षों में, उसने अपने समय को यूहन्ना मरकुस के साथ व्यतीत किया (1 पतरस 5:13), जिसने यीशु के साथ पतरस के द्वारा व्यतीत किए समय की स्मृतियों के ऊपर आधारित होते हुए मरकुस का सुसमाचार, और 1 और 2 पतरस की नाम से दो पत्रियों को 60 और 68 ईस्वी सन् के मध्य किसी समय में लिखा। यीशु ने कहा था कि पतरस एक शहीद की मृत्यु को प्राप्त करेगा (यूहन्ना 21:18-19) – जो कि एक भविष्यद्वाणी के रूप में नीरो के शासनकाल के समय में, सम्भवतः, पूरी हुई। परम्परा यह है कि पतरस को रोम में उल्टे क्रूस के ऊपर चढ़ाया गया था, और यद्यपि यह कहानी सच हो सकती है, पतरस की मृत्यु के विवरण के लिए कोई मूलपाठ या ऐतिहासिक गवाह नहीं पाया जाता है।

हम पतरस के जीवन से क्या सीख सकते हैं? यहाँ पर कुछ शिक्षाएँ दी गई हैं:

यीशु ने डर के ऊपर जय को पाया है - चाहे एक लहरों से भरे हुए समुद्र के ऊपर नाव से उतरना हो या पहली बार अन्यजाति के घर में जाना, पतरस ने मसीह का अनुसरण करने में साहस को पाया था। “प्रेम में भय नहीं होता, वरन् सिद्ध प्रेम भय को दूर कर देता है... ” (1 यूहन्ना 4:18)।

यीशु अविश्‍वासयोग्यता को क्षमा कर देता है - अपनी निष्ठा के ऊपर घमण्ड करने के पश्‍चात्, पतरस ने प्रभु का तीन बार उत्साह के साथ इन्कार किया। यीशु ने प्रेमपूर्ण रीति से पतरस को सेवा के लिए बहाल किया। पतरस अतीत में एक विफल व्यक्ति रहा था, परन्तु, यीशु के साथ, विफलता अन्त नहीं है। "यदि हम अविश्‍वासी भी हों, तौभी वह विश्‍वासयोग्य बना रहता है, क्योंकि वह आप अपना इन्कार नहीं कर सकता" (2 तीमुथियुस 2:13)।

यीशु धैर्यपूर्वक शिक्षा देता है – पतरस को निरन्तर सुधार की आवश्यकता थी, और प्रभु ने उसे धैर्य, दृढ़ता और प्रेम के साथ शिक्षा दी। मुख्य शिक्षक सीखने वाले इच्छुक विद्यार्थियों की खोज करता है। "मैं तुझे बुद्धि दूँगा, और जिस मार्ग में तुझे चलना होगा उस में तेरी अगुवाई करूँगा..." (भजन संहिता संहिता 32:8)।

यीशु हमें वैसे देखता है, जैसे वह हमें होने की मंशा रखता है - पहली बार जब वे मिले, तो यीशु ने शमौन को "पतरस" कहा। यह असभ्य और लापरवाह मछुआरा, यीशु की दृष्टि में, एक दृढ़ और विश्‍वासयोग्य चट्टान था। "... जिसने तुम में अच्छा काम आरम्भ किया है, वही उसे यीशु मसीह के दिन तक पूरा करेगा..." (फिलिप्पियों 1:6)।

यीशु असम्भव नायकों का उपयोग करता है - पतरस गलील का एक मछुआरा था, परन्तु यीशु ने उसे मनुष्यों को पकड़ने वाला एक मछुआरा कहा (लूका 5:10)। क्योंकि पतरस यीशु का अनुसरण करने के लिए सब कुछ छोड़ने के लिए तैयार था, इसलिए परमेश्‍वर ने उसे अद्भुत तरीकों से उपयोग किया। जब पतरस ने उपदेश दिया है, लोग उसकी निर्भीकता के ऊपर आश्‍चर्यचकित रह गए थे, क्योंकि वह "अनपढ़" और "साधारण" था। परन्तु फिर भी उन्होंने ध्यान दिया कि पतरस "यीशु के साथ" रहा था (प्रेरितों के काम 4:13)। यीशु के साथ होने से ही सब बातों में भिन्नता आ जाती है।

English


हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
हमें पतरस के जीवन से क्या सीखना चाहिए?