अपने अभिभावकों को सम्मानित करने के लिए आप छोड़ने और चिपकने में कैसे सन्तुलन करते हैं?


प्रश्न: अपने अभिभावकों को सम्मानित करने के लिए आप छोड़ने और चिपकने में कैसे सन्तुलन करते हैं?

उत्तर:
दोनों मसीही अभिभावकों और उनके विवाहित बच्चों को "छोडने और चिपकने" की अवधारणा और अभिभावकों का सम्मान करने के मध्य में सन्तुलन बनाने में कठिनाई हो सकती है। इसके सम्बन्ध में कुछ उपयुक्त बाइबल सन्दर्भ इस प्रकार हैं:

"इस कारण पुरूष अपने माता-पिता को छोड़कर अपनी पत्नी से मिला रहेगा (एक होना), और वे एक ही तन बने रहेंगे" (उत्पत्ति 2:24)।

"हे बालको, प्रभु में अपने माता-पिता के आज्ञाकारी बनो, क्योंकि यह उचित है" (इफिसियों 6:1)।

"तू अपने पिता और माता का आदर करना, जिससे जो देश तेरा परमेश्‍वर यहोवा तुझे देता है, उसमें तू बहुत दिन तक रहने पाए" (निर्गमन 20:12)।

उत्पत्ति 2:24 में पाए जाने वाले कथन में तीन पहलू पाए जाते हैं:
1. छोड़ना — यह इंगित करता है कि एक परिवार में दो तरह के सम्बन्ध होते हैं। अभिभावक-सन्तान का सम्बन्ध अस्थाई सम्बन्ध होता है और तत्पश्चात् "छोड़ना" होता है। पति-पत्नी का सम्बन्ध स्थाई सम्बन्ध होता है — "इसलिये जिसे परमेश्‍वर ने जोड़ा है, उसे मनुष्य अलग न करे" (मत्ती 19:6)। पारिवारिक जीवन में समस्याएँ तब उठ खड़ी होती हैं, जब इन दो भूमिकाओं को पलट दिया जाता है और माता-पिता के सम्बन्ध को प्राथमिक सम्बन्ध के रूप में मान लिया जाता है। जब एक वयस्क बच्चे का विवाह हो जाता है और माता-पिता का यह सम्बन्ध प्राथमिक बना रहता है, तब नवगठित एकता खतरे में पड़ जाती है।

2. चिपकना — चिपकने के लिए जिस इब्रानी शब्द से अनुवाद हुआ है, वह (1) किसी बात का बड़ी शक्ति के साथ पीछा करने और (2) एक पुरूष और स्त्री का विवाह होने के पश्चात् किसी वस्तु/व्यक्ति के साथ चिपकना या बने रहने या एक पुरूष का विवाह होने के पश्चात् वह अपनी पत्नी के साथ विवाह को स्थाई बने रहने क लिए कठिन परिश्रम करता है, को उद्धृत करता है (यह सहचार्य विवाह के लिए ली हुई शपथ के साथ समाप्त नहीं होना चाहिए) और इसे "गोंद की तरह एक दूसरे से" चिपक जाना चाहिए। यह चिपकना एक ऐसी घनिष्ठता का संकेत देता है कि दोनों जीवनसाथियों के मध्य में ऐसी निकटता का सम्बन्ध होना चाहिए, जो पूर्व में उनके मित्र या माता-पिता के साथ नहीं थी।

3. और वे एक तन होंगे — विवाह दो व्यक्तियों को अपने में एक कर लेता है और उन्हें एक नई एकल इकाई बना देता है। इसके प्रत्येक पहलू (भौतिक, भावनात्मक, बौद्धिक, वित्तीय, सामाजिक) में इस तरह के साझेपन और एकता को होना चाहिए, जिसके परिणामस्वरूप प्राप्त होती हुई एकता को सबसे अच्छे रूप "एक तन" में वर्णित किया जा सकता है। एक बार फिर से, जब पति-पत्नी के सम्बन्ध की तुलना अभिभावकों के सम्बन्धों से अधिक साझेपन और भावुक समर्थन को प्राप्त किया जाता है, तो यह विवाह के भीतर की एकता को खतरे में डाल देती है, जिसके परिणामस्वरूप एक गैर-बाइबल आधारित असंतुलन प्राप्त होता है।

उत्पत्ति 2:24 के इन तीनों पहलूओं को ध्यान में रखते हुए, अपने माता-पिता का सम्मान करने के प्रति पवित्रशास्त्र के परामर्श भी पाए जाते हैं। इनमें उन्हें सम्मानजनक दृष्टिकोण के साथ व्यवहार करना सम्मिलित है (नीतिवचन 30:11, 17), उनकी आज्ञाओं का पालन तब तक करना जब ये परमेश्‍वर की व्यवस्था के अनुसार हैं (इफिसियों 6:1 में दिया हुआ "प्रभु में"), और उनकी तब देखभाल करना, जब वे बुजुर्ग हो जाते हैं (मरकुस 7:10-12; 1 तीमुथियुस 5:4-8)।

जब किसी अभिभावक के द्वारा "छोड़ने" में बाधा उत्पन्न की जाती है, क्योंकि यह माता-पिता का सम्बन्ध प्राथमिक (आज्ञाकारिता की माँग, निर्भरता या पति या पत्नी के साथ एक होने की भावनात्मक एकता की इच्छाओं की पूर्ति के लिए निर्भरता) होने की मांग करता है, तो इसे आदरपूर्वक अस्वीकृत कर देना चाहिए और जीवनसाथी की इच्छाओं को सम्मानित किया जाना चाहिए। तथापि, जब बुजुर्ग माता-पिता की वास्तविक आवश्यकताएँ होती हैं (जिनकी शारीरिक या भावुक, या वास्तविक "आवश्यकताएँ," "छोड़ने वाले" सिद्धान्त में बाधा नहीं पहुँचाती है), तब इन आवश्यकताओं को पूरा किया जाना चाहिए, चाहे जीवन साथी को सास-सुसर "पसन्द" ही क्यों न हो। बुजुर्ग माता-पिता की ओर बाइबल के प्रेम को आधार दिया जाना चाहिए, जिसके कारण प्रेम करने को चुना जाना चाहिए, यह तब भी किया जाना चाहिए, जब कोई ऐसा करने के लिए इसे महसूस नहीं करता है।

"छोड़ने" और "चिपकने" के पवित्र शास्त्रीय आदेश के मध्य में सन्तुलन, अधिकार का पालन करने के आदेश के मध्य में किए जाने वाले सन्तुलन के जैसा है (रोमियों 13) और इस सिद्धान्त का प्रेरितीय उल्लंघन करना, जबकि यह इसके पालन की माँग करता है, परमेश्‍वर के आदेशों के विपरीत कार्य करते हैं। प्रेरितों के काम 4:5-20 में, प्रेरितों ने यहूदी अधिकारियों की मांग को अस्वीकृत कर दिया था कि वे परमेश्‍वर के आदेश के पक्ष में सुसमाचार का प्रचार करना बन्द कर दें, परन्तु प्रेरितों ने उनकी आज्ञा की अवहेलना सम्मानजनक तरीके से की थी। इसी तरह से यीशु हम से कहता है कि हमें अपने माता-पिता का सम्मान करना चाहिए परन्तु अभिभावक-बच्चों का सम्बन्ध मसीह के साथ हमारे सम्बन्धों की तुलना में द्वितीय स्थान पर है (लूका 14:26)। जब अभिभावक उत्पत्ति 2:24 में दिए हुए सिद्धान्त का उल्लघंन करते हैं, तब अभिभावकों की आज्ञा की अवहेलना सम्मानपूर्ण तरीकों से की जानी चाहिए। तथापि, एक दबंग अभिभावक की अनावश्यक माँगों और शारीरिक और भावनात्मक रूप से सच्ची आवश्यकताओं में भिन्नता को ध्यान में रखते हुए एक जीवनसाथी की इच्छाओं को तब अनदेखा कर दिया जाना चाहिए, जब वह अपने समय, ऊर्जा, और वित्त को बुजुर्ग अभिभावकों की वास्तविक आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए तैयार नहीं होता है।

English
हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
अपने अभिभावकों को सम्मानित करने के लिए आप छोड़ने और चिपकने में कैसे सन्तुलन करते हैं?