क्या हमें कलीसिया में संगीत वाद्ययन्त्रों का प्रयोग करना चाहिए?


प्रश्न: क्या हमें कलीसिया में संगीत वाद्ययन्त्रों का प्रयोग करना चाहिए?

उत्तर:
पुराने नियम में निश्चित् रूप से संगीत वाद्ययन्त्रों का उपयोग होता था (1 इतिहास 15:16; 16:42; 23:5; 2 इतिहास 7:6; 23:13; 29:26-27; 30:21; 34:12; नहेम्याह 12:36; भजन संहिता 4:1; 6:1; 54:1; 55:1; 61:1; 67:1; 76:1; यशायाह 38:20; आमोस 6:5; हबक्कूक 3:19)। सच्चाई तो यह है कि नया नियम का कहीं पर भी संगीत वाद्ययन्त्रों का खण्डन न करना यह संकेत देता है कि पुराने नियम की प्रथा नए नियम की कलीसिया में बनी रही। आरम्भिक कलीसिया लगभग पूरी तरह से यहूदी विश्‍वास में से आए हुए मसीही विश्‍वासियों से मिलकर निर्मित हुई थी। इस बात की सम्भावना बहुत अधिक है कि उन्होंने निरन्तर कलीसिया में संगीत वाद्ययन्त्रों का उपयोग किया, ठीक वैसे ही जैसे वे अपनी पहले की आराधना में किया करते थे।

इसलिए, यहाँ तक कि नए नियम में बिना किसी सन्दर्भ के भी, यह स्पष्ट है कि कलीसिया अपनी आराधना सभा में संगीत वाद्ययन्त्रों का उपयोग कर सकती है। तथापि, संगीत वाद्ययन्त्रों के लिए नए नियम में सम्भव सन्दर्भ मिलता है। इफिसियों 5:19 घोषित करता है, "और आपस में भजन और स्तुतिगान और आत्मिक गीत गाया करो, और अपने-अपने मन में प्रभु के सामने गाते और कीर्तन करते रहो।" वाक्यांश मन में प्रभु के सामने "गीत गाना" यूनानी शब्द सालोनेट्स का अनुवाद है, जिसका मूल अर्थ "रगड़ना या छूने" या "मरोड़ने या झनकार" उत्पन्न करने से है। यह सामान्य रूप से यूनानी में तार वाले संगीत वाद्ययन्त्र को बजाने के लिए उपयोग किया जाता था। चाहे कुछ भी क्यों न हो, बाइबल कभी भी कलीसिया में वाद्ययन्त्रों के उपयोग के लिए न तो मना करती और न ही कोई आदेश देती है। इसलिए, कलीसिया के पास परमेश्‍वर के मार्गदर्शन के अनुसार उन्हें उपयोग करने और न करने की स्वतन्त्रता है।

English
हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
क्या हमें कलीसिया में संगीत वाद्ययन्त्रों का प्रयोग करना चाहिए?