होशाना का अर्थ क्या है?


प्रश्न: होशाना का अर्थ क्या है?

उत्तर:
होशाना एक ऐसा शब्द है, जिसका प्रयोग स्तुति के कुछ गीतों में किया जाता है, विशेषकर खजूरी इतवार के दिन। यह इब्रानी मूल का शब्द है और यीशु के यरुशलेम में प्रवेश करते ही भीड़ के द्वारा की जाने वाली चिल्लाहट का अंश था: “दाऊद के सन्तान को होशाना, धन्य है वह जो प्रभु के नाम से आता है, आकाश में होशाना! ” (मत्ती 21:9)।

होशाना को अक्सर हल्लिलूयाह के जैसे ही स्तुति की घोषणा के रूप में जाना जाता है, परन्तु यह वास्तव में मुक्ति के लिए की जाने वाली विनती है। इस शब्द के मूल इब्रानी भाषा में भजन संहिता 118:25 में पाए जाते हैं, जो ऐसे कहता है, "हे यहोवा, विनती सुन, उद्धार कर! हे यहोवा, विनती सुन, सफलता दे!" इब्रानी शब्द याशा ("उद्धार, बचा") और अन्ना ("भीख, विनती") मिलकर इस शब्द को निर्मित करते हैं, जिससे हमें "होशाना" शब्द का अनुवाद प्राप्त होता है। शाब्दिक रूप से, होशाना का अर्थ, "मैं तुझ से बचाने के लिए विनती करता हूँ!" या "कृपया मुझे छुटकारा दे!"

इस कारण, जब यीशु ने गधे पर सवार होकर यरूशलेम में प्रवेश किया, तो भीड़ "होशाना!" को चिल्लाने के लिए पूरी तरह से सही थी, वे यीशु को अपने मसीह के रूप में स्वीकार कर रहे थे, जैसा कि उनके सम्बोधन "दाऊद का पुत्र" में दिखाया गया है। यह उनकी मुक्ति के लिए उनका विलाप था और स्वीकरण था कि केवल यीशु ही बचाने में सक्षम है।

उस दिन बाद में, यीशु मन्दिर में था, और वहाँ उपस्थित बच्चे फिर से चिल्लाने लगे थे, "दाऊद की सन्तान को होशाना!" (मत्ती 21:15)। प्रधान याजक और व्यवस्था के शास्त्री उससे अप्रसन्न हो गए और उससे कहा: "'क्या तू सुनता है कि ये क्या कहते हैं?' यीशु ने उनसे कहा, 'हाँ; क्या तुमने यह कभी नहीं पढ़ा : "बालकों और दूध पीते बच्‍चों के मुँह से तू ने अपार स्तुति कराई"'?" (मत्ती 21:16)। "होशाना!" कहने में, लोग उद्धार के लिए विनती कर रहे थे, और ठीक यही कारण था कि यीशु वहाँ आया था। एक सप्ताह के भीतर ही यीशु को क्रूस के ऊपर लटका दिया जाएगा।

English


हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
होशाना का अर्थ क्या है?