बाइबल में ऊँचे स्थानों की क्या विशेषता पाई जाती है?


प्रश्न: बाइबल में ऊँचे स्थानों की क्या विशेषता पाई जाती है?

उत्तर:
सरल अर्थों में, ऊँचे स्थान निचली भूमि या घाटी जैसे स्थानों में भूमि से ऊँचे किए हुए स्थानों के टुकड़ों में खड़ी हुई वेदियाँ थीं, जैसे कि एक घाटी में पूजा के लिए बना हुआ स्थान का होना। उँचे स्थान मूलतः मूर्ति पूजा के लिए समर्पित थे (गिनती 33:52; लैव्यव्यवस्था 26:30) विशेष रूप से मोआबियों के मध्य में (यशायाह 16:12)। इन तीर्थ स्थलों में अक्सर एक वेदी और एक पवित्र वस्तु सम्मिलित होती थी, जिनकी पहचान पत्थर के खम्भे या लकड़ी विभिन्न आकृतियों में बनी हुई लाठें, पूजा की वस्तुएँ (जानवर, तारामण्डल, देवी और प्रजनन देवताओं) इत्यादि से होती थी।

इस्राएलियों ने सदैव से परमेश्‍वर से दूर होकर मोलेक देवता की पूजा की थी और बाल के लिए उँचे स्थानों को निर्मित किया था (यिर्मयाह 32:35)। यद्यपि सुलैमान ने यरूशलेम में परमेश्‍वर का मन्दिर बनाया था, तत्पश्चात् उसने अपनी विदेशी पत्नियों के लिए यरूशलेम के बाहर मूर्तिपूजा के उँचे स्थानों को भी स्थापित किए था और उनके साथ मिलकर उनकी पूजा की, जिसके कारण उसके राज्य को नुकसान हुआ था (1 राजा 11:11)। मन्दिर बनने से पहले लोग अभी भी मूर्तिपूजकों के ऊँचे स्थानों पर बलिदान कर रहे थे, और सुलैमान भी उनके साथ जुड़ गया था। यहोवा के द्वारा गिबोन में उसके सामने एक स्वप्न में प्रगट होने के पश्चात्, तब राजा यरूशलेम में लौट आया और बलिदान के लिए भेंटे चढ़ाई; तथापि, वह पूजा के दो स्थानों के मध्य में ही घूमता रहा।

सभी उँचे स्थान मूर्ति पूजा के लिए समर्पित नहीं थे। उन्होंने इस्राएल की आराधना में एक प्रमुख भूमिका को अदा किया और आराधना के लिए बाइबल में सबसे पहला उल्लेखित स्थल, जिसे बाद में "उँचा स्थान" कहा जाता है, उत्पत्ति 12:6-8 में पाया जाता है, जहाँ पर अब्राहम ने शेकेम और हेब्रोन में परमेश्‍वर के लिए वेदियाँ बनाई थीं। अब्राहम ने मोरिय्याह के क्षेत्र में एक वेदी को निर्मित किया था और वहाँ अपने बेटे को बलिदान करने के लिए तैयारी की थी (उत्पत्ति 22:1-2)। इस स्थल को पारम्परिक रूप से वही ऊँचा स्थान माना जाता है, जहाँ पर यरूशलेम का मन्दिर बनाया गया था। याकूब ने बेतेल में परमेश्‍वर के लिए एक पत्थर का खम्भा स्थापित किया था (उत्पत्ति 28:18-19), और मूसा ने सीनै पहाड़ी पर परमेश्‍वर के साथ मुलाकात की थी (निर्गमन 19:1-3)।

यहोशू ने यरदन को पार करने के पश्चात् पत्थर के खम्भे को स्थापित किया था (यहोशू 4:20) और इसे आराधना के लिए उँचा स्थान होने के रूप में माना जाता है, क्योंकि इस्राएली "निचली भूमि" से यरदन के ऊँचे स्थान में आ गए थे। भविष्यद्वक्ता शमूएल उँचे स्थानों पर नियमित रूप से जाया करता था (1 शमूएल 7:16)। कनानी मूर्ति पूजा के ऊँचे स्थान (न्यायियों 3:19) एलिय्याह के समय काल तक विस्तारित हुए थे (1 राजा 18:16-40)। परमेश्‍वर ने केवल एक ही उच्च स्थान को बलिदान चढाए जाने के लिए अधिकृत किया था, और यह स्थान यरूशलेम का मन्दिर था (2 इतिहास 3:1)। परमेश्‍वर ने आदेश दिया था कि अन्य सभी उच्च स्थानों को नष्ट कर दिया जाए। राजा योशिय्याह ने 2 राजा 22-23 में उन्हें नष्ट कर दिया था।

English
हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
बाइबल में ऊँचे स्थानों की क्या विशेषता पाई जाती है?