गूढ़ज्ञानवादी सुसमाचार क्या है?


प्रश्न: गूढ़ज्ञानवादी सुसमाचार क्या है?

उत्तर:
गूढ़ज्ञानवादी सुसमाचार आरम्भिक गूढ़ज्ञानवादी "मसीही" विश्‍वासियों का लेखनकार्य हैं। पहली शताब्दी के पश्‍चात्, मसीही विश्‍वास में दो प्राथमिक विभाजन — रूढ़िवादी मसीही विश्‍वास और गूढ़ज्ञानवादी मसीही विश्‍वास विकसित हुए। रूढ़िवादी मसीही विश्‍वासियों ने जिन पुस्तकों को अपने हाथों में पकड़ा है, उसे हम आज की बाइबल में पाते हैं और जिसे आज रूढ़िवादी धर्मविज्ञान के रूप में माना जाता है। गूढ़ज्ञानवादी मसीही विश्‍वासियों को, यदि उन्हें वास्तव में मसीही विश्‍वासियों के रूप में वर्णित किया जाए, तो उनकी बाइबल, यीशु मसीह के उद्धार और लगभग हर दूसरे मुख्य मसीही धर्मसिद्धान्त से एक अलग ही दृष्टिकोण था। यद्यपि, अपनी मान्यताओं को वैधता देने के लिए उनके पास प्रेरितों के द्वारा लिखे हुए कोई लेख नहीं थे।

यही कारण है कि क्यों और कैसे और गूढ़ज्ञानवादी सुसमाचार को निर्मित किया गया था। गूढ़ज्ञानवादी ने धोखाधड़ी से प्रसिद्ध लेखकों के नामों को अपने लेखों के साथ जुड़े हुए, जैसे थोमा का सुसमाचार, फिलिप्प का सुसमाचार, मरियम का सुसमाचार इत्यादि से धोखा दिया। 1945 में दक्षिणी मिस्र में नाग हमादी पुस्तकालय की खोज गूढ़ज्ञानवादी सुसमाचारों की खोज का मुख्य रूप से प्रतिनिधित्व करती है। इन गूढ़ज्ञानवादी सुसमाचारों को अक्सर "बाइबल की खोई हुई पुस्तकों" के रूप में इंगित किया जाता है।

गूढ़ज्ञानवादी सुसमाचारों के प्रति हमारी प्रतिक्रिया क्या होनी चाहिए? क्या उनमें से कुछ या सभी को बाइबल में होना चाहिए? नहीं, उन्हें नहीं होना चाहिए। सबसे पहले, जैसा कि ऊपर बताया गया है, गूढ़ज्ञानवादी सुसमाचार नकली हैं, जो प्रेरितों के नाम पर धोखे से लिखे गए हैं, ताकि उन्हें आरम्भिक कलीसिया में वैधता दी जा सके। धन्यवाद सहित कहना कि आरम्भिक कलीसियाई धर्माचार्य झूठी शिक्षाओं को बढ़ावा देने वाले गूढ़ज्ञानवादी सुसमाचारों को पहचानने में लगभग सर्वसम्मति से एक थे। गूढ़ज्ञानवादी सुसमाचारों और मत्ती, मरकुस, लूका और यूहन्ना के सच्चे सुसमाचारों के बीच अँसख्य विरोधाभास पाए जाते हैं। गूढ़ज्ञानवादी सुसमाचार आरम्भिक मसीही विश्‍वास के अध्ययन के लिए एक अच्छा स्रोत हो सकते हैं, परन्तु उन्हें बाइबल में सम्मिलित नहीं होने और वास्तविक मसीही विश्‍वास का प्रतिनिधित्व नहीं करने के लिए पूरी तरह से अस्वीकृत कर दिया जाना चाहिए।

English


हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
गूढ़ज्ञानवादी सुसमाचार क्या है?