क्या स्वर्ग में लिंग जैसी कोई बात होगी?


प्रश्न: क्या स्वर्ग में लिंग जैसी कोई बात होगी?

उत्तर:
मत्ती 22:30 पुनरुत्थान के बाद लोगों के विवाह में भाग लेने के बारे में बात करता है कि — वे "स्वर्गदूतों की तरह" बन जाते हैं। यद्यपि, इसका अर्थ यह नहीं है कि लोग लिंगहीन हो जाते हैं। पुल्लिंग, नपुंसक लिंग नहीं, सर्वनाम का उपयोग कई बार स्वर्गदूतों का वर्णन करने के लिए किया जाता है (और वह ऐसा था ... उसकी उपस्थिति ऐसी थी, इत्यादि)। इस तरह से कोई वास्तविक संकेत नहीं मिलता है कि स्वर्गदूत लिंगहीन प्राणी हैं।

बाइबल में ऐसा कुछ भी नहीं है, जो यह इंगित करता है कि लोग स्वर्ग में अपना लिंग खो देंगे या ये परिवर्तित हो जाएंगे। प्रकाशितवाक्य की पुस्तक (अध्याय 21-22), में ऐसा प्रतीत होता है कि परमेश्‍वर वस्तुओं को वैसे नहीं बना रहा है, जैसे कि वे अदन की वाटिका में थी, परन्तु वह इससे भी सर्वोत्तम वस्तुओं को बना रहा है। स्मरण रखें कि लिंग बुरा नहीं है — यह वास्तव में एक अच्छी बात है। परमेश्‍वर ने हव्वा को रचा क्योंकि आदम को किसी के लिए पूरक होने की आवश्यकता थी। विवाह (विभिन्न लिंगों के बिना असम्भव है), एक पुरूष और एक स्त्री के बीच आदर्शमयी सम्बन्ध, मसीह और कलीसिया के मध्य पाए जाने वाला एक चित्र है। कलीसिया दुल्हन है और मसीह दूल्हा है (इफिसियों 5:25-32)।

यद्यपि स्पष्ट रूप से बाइबल में यह शिक्षा नहीं दी जाती है, तथापि ऐसा प्रतीत होता है कि लोग मृत्यु के पश्‍चात् अपने लिंग को बनाए रखते हैं। हमारे लिंग हम कौन हैं, इसका एक भाग हैं। लिंग भौतिकता से कहीं अधिक बढ़कर है — यह हमारे स्वभाव और जिस तरह से हम परमेश्‍वर से सम्बन्धित होते हैं, का एक भाग हैं। इसलिए, ऐसा प्रतीत होता है कि अनन्त काल में लिंग को पूर्णता और महिमा दी जाएगी। यह भी उल्लेखनीय है कि यीशु ने अपनी मृत्यु और पुनरुत्थान के बाद अपने लिंग को बनाए रखा है।

English


हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
क्या स्वर्ग में लिंग जैसी कोई बात होगी?