रहस्योदघाटन के चार घुड़सवार कौन हैं?



प्रश्न: रहस्योदघाटन के चार घुड़सवार कौन हैं?

उत्तर:
रहस्योदघाटन के चार घुड़सवारों का वर्णन प्रकाशितवाक्य अध्याय 6, वचन 1-8 में किया गया है। चारों घुड़सवार प्रतीकात्मक रूप से विभिन्न घटनाओं का वृतान्त देते हैं जो अन्त के समय में घटित होने वाली हैं। रहस्योदघाटन के चारों घुड़सवारों का उल्लेख प्रकाशितवाक्य 6:2 में मिलता है: “मैं ने दृष्टि की, और देखो, एक श्वेत घोड़ा है, और उसका सवार धनुष लिए हुए है; और उसे एक मुकुट दिया गया, और वह जय करता हुआ निकला कि और भी जय प्राप्त करे।" पहले घुड़सवार की सम्भावना मसीह विरोधी के होने की है, जिसे उन सभों के ऊपर अधिकार और जय दी गई जो उसका विरोध करेंगे। मसीह विरोधी सच्चे मसीह का झूठा नकलची है, जो श्वेत घोड़े के ऊपर सवार हो वापस आएगा (प्रकाशितवाक्य 19:11-16)।

रहस्योदघाटन का दूसरा घुड़सवार प्रकाशितवाक्य 6:4 में प्रगट होता है, “फिर एक और घोड़ा निकला जो लाल रंग का था; उसके सवार को यह अधिकार दिया गया कि पृथ्वी पर से मेल उठा ले, ताकि लोग एक दूसरे का वध करें; और उसे एक बड़ी तलवार दी गई।" दूसरा घुड़सवार एक भयानक लड़ाई की ओर संकेत देता है जो अन्त के समय में आरम्भ हो जाएगी। तीसरे घुड़सवार का विवरण प्रकाशितवाक्य 6:5-6 में दिया गया है, “...और देखो, एक काला घोड़ा है और उसके सवार के हाथ में एक तराजू है; और मैं ने उन चारों प्राणियों को यह कहते हुए सुना, 'दीनार का सेर भर गेहूँ, और दीनार का तीन सेर जौ, पर तेल और दाखरस की हानि न करना!" रहस्योदघाटन का तीसरा घुड़सवार दूसरे घुड़सवार के कारण उत्पन्न हुई लड़ाई के परिणामस्वरूप एक बहुत बड़े अकाल के आने के बारे में संकेत देता है।

चौथे घुड़सवार का उल्लेख प्रकाशितवाक्य 6:8 में किया गया है, “मैं ने दृष्टि की, और देखो, एक पीला सा घोड़ा है; और उसके सवार का नाम मृत्यु है, और अधोलोक उसके पीछे पीछे है; और उन्हें पृथ्वी की एक चौथाई पर यह अधिकार दिया गया कि तलवार, और अकाल और मरी और पृथ्वी के वनपशुओं के द्वारा लोगों को मार डालें।" रहस्योदघाटन का चौथा घुड़सवार मृत्यु और नाश का प्रतीक चिन्ह हैं। ऐसा जान पड़ता है कि यह पहले के घुड़सवारों का एक संयुक्त रूप है। रहस्योदघाटन का चौथा घुड़सवार अतिरिक्त लड़ाई और भयानक अकालों को डरावनी विपत्तियों और बिमारियों के साथ ले आएगा। सबसे अधिक आश्चर्य में डाल देने वाली बात या कदाचित् सबसे डरावनी बात यह है, कि रहस्योदघाटन का चौथा घुड़सवार उत्तरोत्तर महाक्लेश आने वाले अधिक बुरे न्यायों का अग्रदूत है (प्रकाशितवाक्य अध्याय 8-9 और 16)।



हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए



रहस्योदघाटन के चार घुड़सवार कौन हैं?