क्या दुष्टात्माएँ गिरे हुए स्वर्गदूत हैं?



प्रश्न: क्या दुष्टात्माएँ गिरे हुए स्वर्गदूत हैं?

उत्तर:
स्वर्गदूतों की सटीक रूप से परमेश्‍वर ने रचना कब की विवाद का विषय है, परन्तु यह जानकारी निश्चित है कि परमेश्‍वर ने सब कुछ अच्छा बनाया था क्योंकि परमेश्‍वर, अपनी पवित्रता में, ऐसा कुछ भी नहीं रच सकता जो पाप से भरा हुआ हो। इसलिए, जब शैतान, जो किसी समय स्वर्गदूत लूसीफर था, ने परमेश्‍वर के विरूद्ध बलवा किया और स्वर्ग से नीचे गिरा दिया गया (यशायाह 14; यहेजकेल 28), तब एक-तिहाई स्वर्गीय प्राणी उसके विद्रोह में सम्मिलित हो गए (प्रकाशितवाक्य 12:3-4,9)। इसमें कोई सन्देह नहीं है कि इन गिरे हुए स्वर्गदूतों को अब दुष्टात्माओं के नाम से जाना जाता है।

हम जानते हैं कि नरक को इब्लीस और उसके स्वर्गदूतों के लिए तैयार किया गया है। मत्ती 25:41 के अनुसार: “तब वह बाईं ओर वालों से कहेगा, 'हे शापित लोगो, मेरे सामने से उस अनन्त आग में चले जाओ, जो शैतान और उसके दूतों के लिये तैयार की गई है।'" यीशु, के द्वारा सम्बन्ध-वाचक शब्द "उसके" का उपयोग यह स्पष्ट कर देता है कि ये स्वर्गदूत शैतान से सम्बन्धित हैं। प्रकाशितवाक्य 12:7-9 मीकाईल और "उसके स्वर्गदूतों" और इब्लीस और "उसके स्वर्गदूतों" के मध्य में अन्त के समय होने वाले स्वर्गीय युद्ध का विवरण देता है। इन और ऐसे ही अन्य वचनों से यह स्पष्ट होता है कि दुष्टात्माएँ और गिरे हुए स्वर्गदूत एक दूसरे के पर्यायवाची हैं।

कुछ लोग इस विचार को इस तथ्य के कारण अस्वीकार कर देते हैं कि दुष्टात्माएँ गिरे हुए स्वर्गदूत हैं क्योंकि वचन 6 घोषित करता है कि जिन स्वर्गदूतों ने पाप किया उन्हें "सदा काल के लिये बन्धनों" में रखा हुआ है। तथापि, यह स्पष्ट है कि उन सभी स्वर्गदूतों को नहीं जिन्होंने पाप किया था "बन्धन" में रखा गया है क्योंकि शैतान अभी भी स्वतंत्र है (1 पतरस 5:8)। क्यों परमेश्‍वर गिरे हुए स्वर्गदूतों में से कइयों को बाँन्धे रखेगा जबकि विद्रोह के अगुवे को स्वतंत्र रहने देगा? ऐसा आभासित होता है कि यहूदा वचन 6 उन गिरे हुए स्वर्गदूतों को बन्धन में रखने के लिए उद्धृत कर रहा है जिन्होंने अतिरिक्त तरीके से विद्रोह किया था, ठीक वैसे ही जैसे " परमेश्‍वर के पुत्रों" की घटना में उत्पत्ति 6 में घटित हुआ था।

दुष्टात्माओं के उत्पन्न होने का एक सबसे सामान्य वैकल्पिक स्पष्टीकरण यह है कि जब उत्पत्ति 6 में दिए हुए नपीली लोगों को जल प्रलय के द्वारा नाश कर दिया गया, तब उनकी देहमुक्त प्राण दुष्टात्माएँ बन गईं। जबकि बाइबल विशेष रूप से यह नहीं कहती है कि जब नपीली लोगों की मृत्यु हुई थी तब उनके प्राणों के साथ क्या हुआ था, परन्तु इसकी सम्भावना अधिक है कि परमेश्‍वर ने नपीली लोगों को जल प्रलय के द्वारा नाश करने के द्वारा उनके प्राणों को दुष्टात्माओं के रूप में और अधिक बुराई करने के लिए छोड़ दिया। दुष्टात्माओं के उदय होने का सबसे अधिक बाइबल आधारित स्थाई स्पष्टीकरण यह है कि वे गिरे हुए स्वर्गदूत हैं, ऐसे स्वर्गदूत जिन्होंने शैतान के साथ परमेश्‍वर के विरूद्ध विद्रोह किया।



हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए



क्या दुष्टात्माएँ गिरे हुए स्वर्गदूत हैं?