क्या परमेश्‍वर प्रार्थनाओं का उत्तर देता है?


प्रश्न: क्या परमेश्‍वर प्रार्थनाओं का उत्तर देता है?

उत्तर:
इस प्रश्‍न का उत्तर संक्षिप्त है, "हाँ!" परमेश्‍वर ने प्रतिज्ञा की है कि, जब हम उन बातों के बारे में पूछेंगे, जो हमारे जीवन के लिए उसकी इच्छा के अनुसार हैं, तो वह हमें वह देगा, जिसे हम मांगते हैं (1 यूहन्ना 5:14-15) । यद्यपि, इसमें जोड़ने के लिए एक चेतावनी यह है कि: हम सदैव उसके उत्तर को पसन्द नहीं कर सकते हैं।

हम बहुत सी बातों के लिए प्रार्थना करते हैं – जिसमें से कुछ अच्छी, कुछ बुरी, कुछ वास्तव में व्यर्थ होती हैं। परन्तु परमेश्‍वर हमारी सभी प्रार्थनाओं को सुनता है, चाहे हम उस से कुछ भी क्यों न मांगे (मत्ती 7:7)। वह अपनी सन्तान को अनदेखा नहीं करता (लूका 18:1-8)। जब हम उससे बात करते हैं, तो उसने सुनने और उत्तर देने की प्रतिज्ञा की है (मत्ती 6:6; रोमियों 8:26-27)। उसका उत्तर "हाँ" या "नहीं" या "प्रतीक्षा करें, अभी नहीं" की कुछ भिन्नता के साथ हो सकता है।

ध्यान रखें कि प्रार्थना परमेश्‍वर से वस्तुओं को प्राप्त करने का हमारा तरीका नहीं है, जिन्हें हम चाहते हैं। हमारी प्रार्थनाओं का ध्यान उन बातों के ऊपर केन्द्रित किया जाना चाहिए, जो परमेश्‍वर को सम्मान और महिमा लाती हैं, और यह दर्शाती हों कि बाइबल स्पष्ट रूप से परमेश्‍वर की इच्छा को प्रकट करती है (लूका 11:2)। यदि हम किसी ऐसी बात के लिए प्रार्थना करते हैं, जो परमेश्‍वर का अपमान करती है या हमारे लिए यह उसकी इच्छा नहीं है, तो जिस भी बात को मांगा जा रहा है, उसे उसके द्वारा दिए जाने की सम्भावना नहीं है। परमेश्‍वर का ज्ञान हमारे ज्ञान से कहीं बढ़कर है, और हमें भरोसा करना चाहिए कि हमारी प्रार्थनाओं के लिए उसके उत्तर सबसे अच्छे सम्भव समाधान हैं।

जब परमेश्‍वर कहता है "हाँ" – तो क्या परमेश्‍वर प्रार्थनाओं का उत्तर देता है?
1 शमूएल के पहले दो अध्यायों में, हन्ना प्रार्थना करती है और परमेश्‍वर से उसे एक बच्चा देने के लिए कहती है। वह गर्भ धारण करने में असमर्थ रही थी, बाइबल के समयों में, यह एक स्त्री के लिए शर्म का चिन्ह माना जाता था। हन्ना ने इतनी अधिक उत्सुकता के साथ प्रार्थना की — कि एक याजक जिसने उसे प्रार्थना करते हुए देखा, ने सोचा कि वह नशे में थी। परन्तु परमेश्‍वर ने हन्ना की सुनी, और उसने उसे एक बच्चे को जन्म देने के योग्य किया।

यीशु ने कहा, "जो कुछ तुम मेरे नाम से माँगोगे, वही मैं करूँगा कि पुत्र के द्वारा पिता की महिमा हो" (यूहन्ना 14:13)। यदि आपने विशेष रूप से किसी बात के लिए प्रार्थना की है, और परमेश्‍वर ने आपको इसे दिया है, तो आप आश्‍वस्त हो सकते हैं कि यह उसकी इच्छा है। कुछ भी तब तक घटित नहीं होता, जब तक कि परमेश्‍वर उसे घटित होने की अनुमति नहीं देता है (रोमियों 8:28)।

जब परमेश्‍वर कहता है "नहीं" – तो क्या परमेश्‍वर प्रार्थनाओं का उत्तर देता है?
यूहन्ना अध्याय 11 में, मरियम और मार्था चाहते थे कि यीशु मरने वाले उनके भाई को चंगा करे, तौभी यीशु ने लाजर को मरने दिया। उन्होंने उन दुखी स्त्रियों को "नहीं" क्यों कहा, जो उससे बहुत अधिक प्रेम करती थीं? क्योंकि लाजर के लिए उसने बड़ी बातों की योजनाएँ बनाई हुई थीं, ऐसी बातें जिन्हें कोई भी कल्पना नहीं कर सकता था।

"नहीं" सबसे कठिन उत्तरों में से एक है, जिसे हम प्राप्त कर सकते हैं। परन्तु, एक बार फिर से, यह स्मरण रखना महत्वपूर्ण है कि परमेश्‍वर सब कुछ जानता है और इतिहास की पूरी समयरेखा से अवगत् हैं। वह प्रत्येक सम्भावित स्थिति में प्रत्येक सम्भव विकल्प के साथ प्रत्येक सम्भव परिणाम को जानता है; जबकि हम नहीं। वह "बड़े चित्र" को देखता है; हम आंशिक बिन्दु को ही देखते हैं। नीतिवचन 3:5 कहता है, "तू अपनी समझ का सहारा न लेना, वरन् सम्पूर्ण मन से यहोवा पर भरोसा रखना।" जब हमें कोई "उत्तर" नहीं में मिलता है, तो हमें भरोसा करना चाहिए कि जो कुछ हमने उस से मांगा था, वह परमेश्‍वर की इच्छा नहीं थी।

जब परमेश्‍वर कहता है कि, "रुको, अभी नहीं" – तो क्या परमेश्‍वर प्रार्थनाओं का उत्तर देते हैं?
कभी-कभी शब्द "प्रतीक्षा" सुनना "नहीं" सुनने से अधिक कठिन होता है, क्योंकि इसका अर्थ है कि हमें धैर्य रखना है (रोमियों 8:25)। प्रतीक्षा करना कठिन होता है, हम इस बात को लेकर धन्यवादी हो सकते हैं कि परमेश्‍वर का नियन्त्रण सब कुछ के ऊपर है और भरोसा कर सकते हैं कि उसका समय सही होगा (रोमियों 12:12; भजन संहिता 37:7-9)।

परमेश्‍वर आपके जीवन के लिए सबसे अच्छा चाहता है। वह नहीं चाहता कि आप अनावश्यक रूप से पीड़ित हों। यिर्मयाह 29:11 कहता है, "जो कल्पनाएँ मैं तुम्हारे विषय करता हूँ उन्हें मैं जानता हूँ, वे हानि की नहीं, वरन् कुशल ही की हैं, और अन्त में तुम्हारी आशा पूरी करूँगा। " धीरज रखें और जान लें कि वह आपका प्रेमी पिता है (भजन संहिता 46:10)।

फिलिप्पियों 4:6 में बने रहें, जब आप परमेश्‍वर से विनती करते हैं: "किसी भी बात की चिन्ता मत करो; परन्तु हर एक बात में तुम्हारे निवेदन, प्रार्थना और विनती के द्वारा धन्यवाद के साथ परमेश्‍वर के सम्मुख उपस्थित किए जाएँ।" तब, जब परमेश्‍वर उत्तर देता है, तो उसके ज्ञान को स्वीकार करने के लिए तैयार रहें — चाहे आप उसके उत्तर से सहमत हों या नहीं।

English


हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
क्या परमेश्‍वर प्रार्थनाओं का उत्तर देता है?