क्या परमेश्‍वर ने शैतान को रचा था?


प्रश्न: क्या परमेश्‍वर ने शैतान को रचा था?

उत्तर:
परमेश्‍वर ने ही अभी तक सब कुछ रचा है या वही उसे रचेगा (यूहन्ना 1:3)। इसमें भौतिक प्राणियों और पदार्थों के साथ-साथ आत्मिक प्राणियों की रचना भी सम्मिलित है (कुलुस्सियों 1:15-17)। एकमात्र व्यक्ति जिसके पास स्वयं में होने और स्वयं में बने रहने की सामर्थ्य है — जिसका अर्थ यह है कि उसका कोई आरम्भ और कोई अन्त नहीं है — और आत्म-अस्तित्व में है, परमेश्‍वर है (निर्गमन 3:14)। इसलिए अन्य सभी प्राणियों को परमेश्‍वर के द्वारा रचा गया और वे परमेश्‍वर से सम्बन्धित हैं (भजन संहिता 24:1)।

बेबीलोन के राजा और सोर के राजा के लिए की गई भविष्यद्वाणियाँ बाइबल के सन्दर्भ हैं। इन व्यक्तित्वों को अधिकांश विद्वानों के द्वारा शैतान के प्रकार के रूप में माना जाता है (यशायाह 14:12-15; यहेजकेल 28:13-17)। ये दो सन्दर्भ एक पाठक को शैतान और उसकी उत्पत्ति से सम्बन्धित इतिहास का थोड़ा सा वर्णन देते हैं। यशायाह 14 के वचन 12 में कहा गया है कि शैतान का आरम्भ स्वर्ग में हुआ था। यहेजकेल 28 के सन्दर्भ का कहना है कि शैतान को करुब (वचन 14) में से एक के रूप में रचा गया था (वचन 13) और जब तक वह पाप में नहीं पाया गया तब तक निर्दोष था (वचन 15)।

बाइबल शैतान के पाप की जड़ को अंहकार के रूप में वर्णित करती है (यहेजकेल 28:17)। शैतान को स्वर्ग से निष्कासित करने से पहले, वह भीतर और बाहर दोनों तरह से सुन्दर था (यहेजकेल 28:12)। यहेजकेल 28:15 बड़ी सावधानी से यह कहता है कि शैतान को "निर्दोष" रचा गया था और उसका पाप उसके अपने ही कार्य का परिणाम था (यहेजकेल 28:16-18)। इसलिए यह विश्‍वास करना गलत होगा कि परमेश्‍वर ने शैतान को उसमें पहले से ही निहित पाप के साथ रचा। परमेश्‍वर पवित्र है और वह अपने स्वयं के स्वभाव के विपरीत कुछ भी नहीं बनाता है (भजन संहिता 86: 8-10; 99:1-3; यशायाह 40:25; 57:15)।

इसलिए, जबकि यह कहना सही है कि परमेश्‍वर ने शैतान को रचा है, यह कहना कभी भी सही नहीं है कि परमेश्‍वर ने शैतान को भीतर से ही पापी बनाया है। शैतान ने अपने स्वयं के लिए मार्ग को चुना (यशायाह 14:13)। परमेश्‍वर ऐसा कभी पाप नहीं करता है (याकूब 1:13), यद्यपि उस ने ही ऐसे संसार को रचा है, जहाँ पाप सम्भव है। किसी दिन परमेश्‍वर उसे और उसकी दुष्टात्माओं को अनन्तकालीन दण्ड को देते हुए शैतान और सारे तरह के पाप को समाप्त करने जा रहा है (प्रकाशितवाक्य 20:10)।

English


हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
क्या परमेश्‍वर ने शैतान को रचा था?