क्या दुष्टात्माएँ/बुरी आत्माएँ स्वयं को जीवन-रहित/निर्जीव सामग्रियों के साथ जोड़ सकती हैं?


प्रश्न: क्या दुष्टात्माएँ/बुरी आत्माएँ स्वयं को जीवन-रहित/निर्जीव सामग्रियों के साथ जोड़ सकती हैं?

उत्तर:
इस विचार को बाइबल आधारित कोई समर्थन नहीं मिलता है कि दुष्टात्माएँ स्वयं को भौतिक वस्तुओं के साथ जोड़ सकती हैं। यह विश्‍वास वास्तव में अंधविश्‍वासी प्रथाओं और आत्मवाद आधारित संस्कृतियों में पाए जानेवाली मान्यताओं और जादू-टोने की गतिविधियों का पालन करने वालों के मध्य पाया जाता है।

कुछ लोग कहते हैं कि प्रेरितों के काम 19:19 जैसे वचन, जहाँ पर भूतपूर्व जादूगरों ने अपने जादूगरी की पुस्तकों को जला दिया था, प्रमाणित करते हैं कि सामग्रियों के साथ दुष्टात्माएँ जुड़ी हुई हो सकती हैं। परन्तु सन्दर्भ ऐसा नहीं कहता है। इस बात की सम्भावना अधिक है कि ये नए विश्‍वासी अपनी जादूगरी की पुस्तकों को झूठों के विस्तार को रोकने के लिए और यह दिखाने के लिए जला रहे थे कि वे अब यीशु के विश्‍वासी थे।

बाइबल दुष्टात्माओं के द्वारा अविश्‍वासियों को पीड़ित और ग्रसित किए जाने सम्बन्धी कहानियों को लिपिबद्ध करती है। परन्तु ऐसी कोई कहानी नहीं पाई जाती है कि दुष्टात्माएँ भौतिक सामग्रियों के साथ जुड़ी हुई या इनमें वास करती हैं, और बाइबल हमें दुष्टात्माओं का भौतिक सामग्रियों के साथ जुड़े हुए होने के बारे में भी कोई चेतावनी नहीं देती है। भूतसिद्धिवाद, अर्थात् गुह्यविद्या, जादू — टोना इत्यादि बुरी आत्माओं को आकर्षित कर सकता है, क्योंकि कुछ निश्चित वस्तुएँ इन अनुष्ठानों में उपयोग की जाती हैं, ऐसा प्रतीत होता है कि दुष्टात्माएँ इस तरह की वस्तुओं की ओर आकर्षित हो जाते हैं; तथापि, इसका यह अर्थ नहीं है कि दुष्टात्माएँ इन वस्तुओं में वास कर रही हैं। यह स्वयं जादू-टोने की गतिविधियाँ हैं, जो उन्हें आकर्षित करती हैं। जो लोग मसीह में आने से पहले जादू-टोने की गतिविधियों में सम्मिलित रहे थे, उन्हें अक्सर उनकी जादू-टोने की पुस्तकों और वस्तुओं से छुटकारा पा लेने का परामर्श दिया जाता है, इसलिए नहीं क्योंकि इन सामग्रियों में दुष्टात्माएँ वास करती हैं, अपितु क्योंकि पुस्तकें और वस्तुएँ भविष्य में परीक्षा में डालने के लिए स्रोत होंगी।

यद्यपि, मसीह में विश्‍वासियों को दुष्टात्माओं से नहीं डरना चाहिए, तथापि, हमें उनकी ओर से आने वाली परीक्षाओं के प्रति सावधान और सचेत रहना चाहिए (1 पतरस 5:8)। मुख्य कुँजी परमेश्‍वर की आधीनता और प्रतिदिन मसीह के सत्य में जीवन व्यतीत करना है: "इसलिये परमेश्‍वर के आधीन हो जाओ; और शैतान का सामना करो, तो वह तुम्हारे पास से भाग निकलेगा" (याकूब 4:7)। जिन्होंने अपने विश्‍वास को मसीह में रख दिया है, उन्हें किसी से डर नहीं है, जैसा कि प्रेरित यूहन्ना ने वर्णित किया है, "हे बालको, तुम परमेश्‍वर के हो, और तुम ने उन पर [शैतान और झूठे भविष्यद्वक्ता] जय पाई है; क्योंकि जो तुम में है, वह उस से जो संसार में है, बड़ा है" (1 यूहन्ना 4:4)।

English
हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
क्या दुष्टात्माएँ/बुरी आत्माएँ स्वयं को जीवन-रहित/निर्जीव सामग्रियों के साथ जोड़ सकती हैं?