settings icon
share icon
प्रश्न

शैतानिक गढ़ों को कैसे दूर किया जा सकता है?

उत्तर


शैतानिक गढ़ों को दूर करने से पहले, हमें समझना चाहिए कि वास्तव में शैतानिक गढ़ क्या हैं। शब्द गढ़ केवल नए नियम में ही दिखाई देता है (2 कुरिन्थियों 10:4) और "गढ़" का अनुवाद करने वाले यूनानी शब्द का अर्थ है "महल जैसे किलेदारी" से है। इस वचन में, प्रेरित पौलुस कुरिन्थ की कलीसिया को निर्देश दे रहा है कि शत्रु से कैसे लड़ना है और "हम कल्पनाओं का और हर एक ऊँची बात का, जो परमेश्‍वर की पहिचान के विरोध में उठती है, खण्डन करते हैं" (2 कुरिन्थियों 10:5)। वे ऐसा संसार के हथियारों का उपयोग करके नहीं अपितु "ईश्‍वरीय सामर्थ्य" के द्वारा करते हैं। हवाई कल्पनाएँ और सोच घमण्ड और बुराई और व्यर्थ की कल्पनाओं का परिणाम होते हैं, ये वही दृढ़ गढ़ हैं, जिनमें दुष्टात्माएँ वास करती हैं। परमेश्‍वर की सामर्थ्य — तब दुष्टात्माओं के गढ़ों को दूर करने के लिए शैतानिक युद्ध का सार है।

इफिसियों 6:10-18 में, पौलुस उन शास्त्रों संसाधनों — अर्थात् परमेश्‍वर के शास्त्रों का वर्णन करता है, जो परमेश्‍वर उसके अनुयायियों को उपलब्ध कराता है। यहाँ हमें बताया गया है कि नम्रता और निर्भरता के दृष्टिकोण में रहते हुए, हमें स्वयं के लिए परमेश्‍वर के इन संसाधनों का लाभ उठाना है। ध्यान दें कि हम "प्रभु में" और "उसकी शक्ति के प्रभाव में बलवन्त" में दृढ़ होना चाहिए। हम अपनी सामर्थ्य में शैतानिक गढ़ों पर जय नहीं पा सकते हैं। हम स्वयं का बचाव रक्षा के लिए उपयोग होने वाली ढाल के पहले पाँच टुकड़ों से और एक आक्रामक हथियार — आत्मा की तलवार जो परमेश्‍वर का वचन है, के द्वारा बचाते हैं। हम यह सब "हर प्रकार से आत्मा में प्रार्थना, और विनती करते रहो... कि सब पवित्र लोगों के लिये लगातार विनती किया करो" (वचन 18)। इफिसियों 6 के 12 और 13 वचनों में, पौलुस लिखता है, "क्योंकि हमारा यह मल्‍लयुद्ध लहू और मांस से नहीं परन्तु प्रधानों से, और अधिकारियों से, और इस संसार के अन्धकार के हाकिमों से और उस दुष्‍टता की आत्मिक सेनाओं से है जो आकाश में हैं। इसलिये परमेश्‍वर के सारे हथियार बाँध लो कि तुम बुरे दिन में सामना कर सको, और सब कुछ पूरा करके स्थिर रह सको।"

एक आदत जिसे प्रत्येक मसीही विश्‍वासी को विकसित करने की आवश्यकता है, वह इफिसियों 6:10-18 पर ध्यान केन्द्रित करना और प्रति दिन आत्मिक रूप से "वस्त्रों को धारण" करने पर ध्यान केन्द्रित करना है। यह शैतान और उसकी योजनाओं पर जय देने के लिए लम्बी दूरी तक सफलता प्रदान करेगा। यहाँ पौलुस कहता है कि, जबकि हम शरीर के अनुसार जीवन व्यतीत करते हैं (हम इस मानवीय शरीर में जीवित और सांस ले रहे हैं), हम शरीर के अनुसार युद्ध नहीं करते हैं (हम शारीरिक हथियारों के साथ आत्मिक लड़ाई से लड़ नहीं सकते हैं)। इसकी अपेक्षा, जब हम आत्मिक सामर्थ्य के संसाधनों और हथियारों पर ध्यान केन्द्रित करते हैं, तब हम देख सकते हैं कि परमेश्‍वर हमें जय प्रदान करता है। कोई भी शैतानिक गढ़ परमेश्‍वर के पूर्ण शास्त्रों को धारण किए हुए प्रार्थना करते हुए मसीही विश्‍वासियों के सामने नहीं टिक सकता है, जो परमेश्‍वर के वचन के साथ युद्धरत् है और जो उसकी आत्मा के द्वारा सशक्त किया गया है।

English



हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए

शैतानिक गढ़ों को कैसे दूर किया जा सकता है?
इस पृष्ठ को साझा करें: Facebook icon Twitter icon Pinterest icon Email icon
© Copyright Got Questions Ministries