बाइबल मृत्यु शय्या पर होने वाले मन परिवर्तन के बारे में क्या कहती है?


प्रश्न: बाइबल मृत्यु शय्या पर होने वाले मन परिवर्तन के बारे में क्या कहती है?

उत्तर:
सबसे अधिक सुर्ख़ियों में रहने वाला मृत्यु शय्या/अन्तिम क्षणों में होने वाला मन परिवर्तन बाइबल में यीशु के साथ क्रूस पर चढ़ाए गए अपराधी की घटना में पाया जाता है (लूका 23:39-43)। अपनी मृत्यु से क्षण भर पहले ही, यह अपराधी मसीह को ठट्ठों में उड़ाने वाला एक अविश्‍वासी था (मत्ती 27:44)। तथापि, अन्तिम क्षण में, इस अपराधी ने पश्चाताप किया और यीशु को स्वर्गीय राजा के रूप में स्वीकार कर लिया। प्रभु ने उसे यह कहते हुए आशीष दी कि, "आज ही तू मेरे साथ स्वर्गलोक में होगा।"

यद्यपि क्रूस के ऊपर लटके हुए अपराधी की कहानी यह प्रदर्शित करती है कि अन्तिम क्षणों में भी मन परिवर्तन होना सम्भव है, तथापि बाइबल हमें अभी ही और किसी अन्य समय की प्रतीक्षा करते हुए पश्चाताप करने के लिए चेतावनी देती है। यूहन्ना बपतिस्मा देने वाले ने यह चेतावनी दी है, "मन फिराओ, क्योंकि स्वर्ग का राज्य निकट है" (मत्ती 3:2)। यीशु ने तत्काल पश्चाताप करने की आवश्यकता से सम्बन्धित सन्देश को दिया था (मत्ती 4:17)।

बाइबल हमें जीवन की संक्षिप्तता के बारे में चेतावनी देती है। "और यह नहीं जानते कि कल क्या होगा। सुन तो लो, तुम्हारा जीवन है ही क्या? तुम तो भाप के समान हो, जो थोड़ी देर दिखाई देती है फिर लोप हो जाती है" (याकूब 4:14)। हमें कुछ दिनों के पश्चात् मन फिराने के लिए नहीं निर्देश दिया गया है, अपितु आज ही विश्‍वास करने के लिए कहा गया है! "यदि आज तुम उसका शब्द सुनो तो अपने मनों को कठोर न करो" (इब्रानियों 4:7)। हम में से कोई भी नहीं जानता कि उसके जीवन में कितना समय शेष रह गया है, या हमारी मृत्यु की परिस्थितियाँ कैसी होंगी। हो सकता है कि हम तुरन्त, अप्रत्याशित तरीके से मर जाए, जो मृत्यु शय्या पर होने वाले मन परिवर्तन को रोक दे। इसके लिए केवल एक ही उचित विकल्प पश्चाताप और आज यीशु मसीह में विश्‍वास करना है। "अपनी प्रसन्नता के समय मैं ने तेरी सुन ली, और उद्धार के दिन मैं ने तेरी सहायता की। देखो, अभी वह प्रसन्नता का समय है; देखो अभी वह उद्धार का दिन है" (2 कुरिन्थियों 6:2)।

English
हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
बाइबल मृत्यु शय्या पर होने वाले मन परिवर्तन के बारे में क्या कहती है?