दाऊद सम्बन्धी वाचा क्या है?


प्रश्न: दाऊद सम्बन्धी वाचा क्या है?

उत्तर:
दाऊद सम्बन्धी वाचा दाऊद को नातान नबी के माध्यम से परमेश्‍वर की प्रतिज्ञा को सन्दर्भित करती है और 2 शमूएल अध्याय 7 में पाई जाती है, और बाद में 1 इतिहास 17:11-14 और 2 इतिहास 6:16 में सारांशित की गई है। यह परमेश्‍वर और दाऊद के बीच एक शर्तहीन वाचा है, जिसके माध्यम से परमेश्‍वर दाऊद और इस्राएल से प्रतिज्ञा करता है कि प्रतिज्ञा किया हुआ मसीह (यीशु मसीह) दाऊद और यहूदा के गोत्र के वंश से आएगा और वह एक ऐसे राज्य को स्थापित करेगा जो सदैव के लिए बना रहेगा। दाऊद सम्बन्धी वाचा शर्तहीन वाचा है, क्योंकि परमेश्‍वर इसकी पूर्ति के लिए आज्ञाकारिता की कोई शर्त नहीं रखता है। इस वाचा में प्रतिज्ञाओं की पूर्ति की निश्‍चयता पूरी तरह से परमेश्‍वर की विश्‍वासयोग्यता के ऊपर निर्भर करती है, और यह दाऊद या इस्राएल की आज्ञाकारिता के ऊपर निर्भर नहीं है।

दाऊद सम्बन्धी वाचा दाऊद के साथ की गई कई मुख्य प्रतिज्ञाओं के ऊपर केन्द्रित है। सबसे पहले, परमेश्‍वर ने उसे भूमि के देने की प्रतिज्ञा की पुष्टि की जो उसने इस्राएल के साथ पहले की दो वाचाओं (अब्राहम सम्बन्धी और फिलिस्तीनी सम्बन्धी वाचाओं) में की थी। यह प्रतिज्ञा 2 शमूएल 7:10 में देखी जा सकती है, "और मैं अपनी प्रजा इस्राएल के लिये एक स्थान ठहराऊँगा, और उसको स्थिर करूँगा, कि वह अपने ही स्थान में बसी रहेगी, और कभी चलायमान न होगी; और कुटिल लोग उसे फिर दु:ख न देने पाएँगे, जैसा कि वे पहले करते थे" तब परमेश्‍वर प्रतिज्ञा करता है कि दाऊद का पुत्र उसे इस्राएल के राजा के रूप में उसका उत्तराधिकारी होगा और यह पुत्र (सुलैमान) मन्दिर का निर्माण करेगा। यह प्रतिज्ञा 2 शमूएल 7:12-13 में देखी जा सकती है, "जब तेरी आयु पूरी हो जाएगी, और तू अपने पुरखाओं के संग सो जाएगा, तब मैं तेरे निज वंश को तेरे पीछे खड़ा करके उसके राज्य को स्थिर करूँगा। मेरे नाम का घर वही बनवाएगा, और मैं उसकी राजगद्दी को सदैव स्थिर रखूँगा।"

परन्तु तत्पश्‍चात् प्रतिज्ञा बनी रहती है और इसका विस्तार होता है: " मेरे नाम का घर वही बनवाएगा, और मैं उसकी राजगद्दी को सदैव स्थिर रखूँगा" (2 शमूएल 7:13), और "वरन् तेरा घराना और तेरा राज्य मेरे सामने सदा अटल बना रहेगा; तेरी गद्दी सदैव बनी रहेगी" (वचन 16)। एक प्रतिज्ञा के रूप में जो कुछ आरम्भ हुआ वह दाऊद के पुत्र सुलैमान तक आशीष के रूप में जाएगा और मन्दिर का निर्माण होने से कुछ भिन्न – अर्थात् एक शाश्‍वतकाल तक बने रहने वाले राज्य की प्रतिज्ञा में परिवर्तित हो जाएगा। दाऊद का एक और पुत्र सदैव के लिए राज्य करेगा और एक स्थाई मन्दिर का निर्माण करेगा। यह प्रतिज्ञा किए हुए मसीह, यीशु मसीह का सन्दर्भ है, जिसे मत्ती 21:9 में दाऊद का पुत्र कहा जाता है।

यह प्रतिज्ञा कि दाऊद का "घरना," "राज्य" और "सिंहासन" सदैव के लिए स्थापित किया जाएगा इसलिए महत्व रखता है, क्योंकि यह दिखाता है कि प्रतिज्ञा किया हुआ मसीह दाऊद के वंश से आएगा और वह एक ऐसा राज्य स्थापित करेगा, जिससे द्वारा वह राज्य करेगा। इस वाचा को "घर" शब्दों से सारांशित किया गया है, जो दाऊद की वंशावली को एक राजवंश होने की प्रतिज्ञा है; "राज्य", उन लोगों को वर्णित करता है, जो राजा द्वारा शासित होते हुए; राजा के शासन करने के अधिकार के ऊपर बल देता है "सिंहासन"; और "सदैव," इस प्रतिज्ञा के शाश्‍वतकालीन और शर्तहीन स्वभाव को दाऊद और इस्राएल के साथ किए जाने के ऊपर बल देता है। दाऊद सम्बन्धी वाचा के अन्य सन्दर्भ यिर्मयाह 23:5; 30:9; यशायाह 9:7; 11:1; लूका 1:32, 69; प्रेरितों के काम 13:34; और प्रकाशितवाक्य 3:7 में पाए जाते हैं।

English


हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
दाऊद सम्बन्धी वाचा क्या है?