मैं एक मसीही विश्‍वासी हूँ, जिसे धूम्रपान करने की आदत है?



प्रश्न: मैं एक मसीही विश्‍वासी हूँ, जिसे धूम्रपान करने की आदत है?

उत्तर:
बहुत से मसीही विश्‍वासी जो कई वर्षों से अत्यधिक धूम्रपान कर रहे हैं, उनके साथ आसानी से सहानुभूति प्रगट कर सकते हैं, जो धूम्रपान छोड़ने के लिए प्रयासरत हैं और उन लोगों के अनुभव को पूरी तरह समझ सकते हैं, जो इसे छोड़ने की इच्छा रखते हैं। धूम्रपान छोड़ना निश्चित रूप से आसान नहीं है, परन्तु इसे किया जा सकता है। कई दो-पैकेटों-तक-धूम्रपान एक-दिन में करने वाले अब धूम्रपान रहित हैं और इस तथ्य को सत्यापित कर सकते हैं कि जब हम इस विषय को परमेश्‍वर के पास ले आते हैं और उसकी सामर्थ्य और शक्ति के ऊपर भरोसा करते हैं, तब यह सम्भव है।

प्रत्येक व्यक्ति के लिए धूम्रपान की आदत को छोड़ने के कई कारण हैं, परन्तु विशेष रूप से यह मसीही विश्‍वासियों के लिए एक अच्छा विचार है। यदि कोई मसीही विश्‍वासी इस बात को लेकर अनिश्चित है कि धूम्रपान को क्यों छोड़ना है और वह अनिश्चित है कि धूम्रपान करना पाप है या नहीं, तो हमारे लेख "धूम्रपान के प्रति मसीही दृष्टिकोण क्या है? क्या धूम्रपान करना पाप है?" समझने के लिए अच्छा आरम्भ होगा। लेख में उल्लिखित कारण एक धूम्रपान करने वाला व्यक्ति को पर्याप्त प्रेरणा प्रदान करने का होना चाहिए, जो अब भी अनिश्चित है कि क्या इसे छोड़ा जाए या नहीं। जो लोग धूम्रपान छोड़ने का संकल्प लेते हैं, उन्हें समझना चाहिए कि मानवीय रूप से बोलना, धूम्रपान करने से रूकना सबसे अधिक कठिन काम है। अनुसंधान ने यह दिखाया है कि निकोटीन एक बहुत ही अधिक नशीला पदार्थ होता है, कुछ कहते हैं कि यह हेरोइन से भी ज्यादा नशीला पदार्थ होता है।

परन्तु नीकोटिन के नशीले स्वभाव से निरूत्साहित होने की कोई आवश्यकता नहीं है। पौलुस हमें कहता है कि, "जो मुझे सामर्थ्य देता है उसमें मैं सब कुछ कर सकता हूँ" (फिलिप्पियों 4:13, बी. एस. आई हिन्दी बाइबल)। यद्यपि, इसे छोड़ना कठिन है, और इससे पहले कि कोई सिगरेट या बीड़ी न पीना चाहे, इसे पूरी तरह से छोड़ने में समय लग सकता है। मसीही विश्‍वासी होने के नाते हमें परमेश्‍वर की ओर देखना चाहिए, जहाँ से हमें सहायता प्राप्त होती है। हम हमारे मनों को ऊपर की बातों की ओर लगाते हैं और प्रार्थना करते हैं कि प्रभु हमें इस विषय में जय प्राप्त करने की शक्ति प्रदान देगा। कुछ लोग प्रभु को अपनी बुरी आदतों को दूर करने के प्रयास में छोड़ देते हैं, और यही एक बड़ी गलती होती है। प्रार्थना इस प्रकार की परिस्थितियों में हमारी सहायता करती है, और हमें अपनी समस्याओं को सीधे परमेश्‍वर के सिंहासन और उसके पास ले आने के लिए ले चलती है, जो इस समस्या का समाधान कर सकता है (इब्रानियों 4:16)।

पवित्र आत्मा की सामर्थ्य पर भरोसा करना अनिवार्य अर्थ यह नहीं है कि चिकित्सा विज्ञान द्वारा उपलब्ध धूम्रपान-छोड़ने के साधनों का भी उपयोग नहीं किया जा सकता है। बहुत से लोगों को पैबन्द, मसूड़ों, गोलियों इत्यादि के माध्यम से बहुत अधिक सहायता मिली है। प्रार्थना करने और डॉक्टर से परामर्श लेने के पश्चात्, यदि परमेश्‍वर आपको चिकित्सा विज्ञान द्वारा उपलब्ध धूम्रपान-रोकने में सहायता प्रदान करने वाले संसाधनों का उपयोग करने द्वारा शान्ति प्रदान करता है, तो बाइबल में ऐसा कोई कारण नहीं पाया जाता है कि आप ऐसा क्यों नहीं कर सकते।

परमेश्‍वर ने घोषित किया है कि उसका अनुग्रह ही पर्याप्त है (2 कुरिन्थियों 12:9)। जब हम कमजोर होते हैं, तब ही हम सामर्थी होते हैं। जब हम सामर्थ्य पाते और प्रभु की सामर्थ्य में आगे बढ़ते हैं, तो सिगरेट पीने की हमारी इच्छा कम हो जाएगी। परमेश्‍वर की सामर्थ्य हमारे भीतर कार्य करेगी ताकि वह धूम्रपान करने के दबाव को कम कर सके, यह सब कुछ उसकी महिमा को ले आने के लिए होगा। परमेश्‍वर हमें मसीह को अपने जीवन में प्रथम स्थान और स्वयं को अन्तिम स्थान पर बनाए रखने के लिए सामर्थ्य प्रदान करेगा। इस से हम पाएँगे कि जो कुछ हम देते हैं, यह जो कुछ हम प्राप्त करते हैं, उससे कहीं अधिक तुष्टि प्रदान करने वाला होगा।

उस मसीही विश्‍वासी के लिए परमेश्‍वर के वचन में डूब जाना आवश्यक है, जो धूम्रपान छोड़ने की इच्छा रखता है। यहाँ पर कुछ वचन दिए गए हैं, जो स्मरण रखने और ध्यान देने के लिए हैं, ये ऐसे वचन हैं, जो दूसरों को धूम्रपान की लत के ऊपर विजय प्राप्त करने में सहायता प्रदान करते हैं:

यूहन्ना 8:32, "तुम सत्य को जानोगे और सत्य तुम्हें स्वतन्त्र करेगा।"

यूहन्ना 8:36, "इसलिये यदि पुत्र स्वतन्त्र करेगा, तो तुम सचमुच स्वतन्त्र हो जाओगे।"

1 कुरिन्थियों 6:19–20, "क्या तुम नहीं जानते कि तुम्हारी देह पवित्रात्मा का मन्दिर है; जो तुम में बसा हुआ है और तुम्हें परमेश्‍वर की ओर से मिला है; और तुम अपने नहीं हो? क्योंकि दाम देकर मोल लिये गए हो, इसलिये अपनी देह के द्वारा परमेश्‍वर की महिमा करो।"

इब्रानियों 12:1–2, "इस कारण जब कि गवाहों का ऐसा बड़ा बादल हम को घेरे हुए है, तो आओ, हर एक रोकनेवाली वस्तु और उलझानेवाले पाप को दूर करके, वह दौड़ जिसमें हमें दौड़ना है, धीरज से दौड़ें। और विश्‍वास के कर्ता और सिद्ध करनेवाले यीशु की ओर ताकते रहें; जिसने उस आनन्द के लिये जो उसके आगे धरा था, लज्जा की कुछ चिन्ता न करके, क्रूस का दुख सहा और सिंहासन पर परमेश्‍वर के दहिने जा बैठा।"

इब्रानियों 13:14, "वरन् प्रभु यीशु मसीह को पहिन लो और शरीर की अभिलाषाओं को पूरा करने का उपाय न करो।"

1 कुरिन्थियों 9:27, "परन्तु मैं अपनी देह को मारता कूटता और वश में लाता हूँ, ऐसा न हो कि औरों को प्रचार करके मैं आप ही किसी रीति से निकम्मा ठहरूँ।"

मत्ती 19:26, "मनुष्यों से तो यह नहीं हो सकता है, परन्तु परमेश्‍वर से सब कुछ हो सकता है।"

यूहन्ना 15:5, "मैं दाखलता हूँ : तुम डालियाँ हो। जो मुझ में बना रहता है और मैं उसमें, वह बहुत फल फलता है, क्योंकि मुझ से अलग होकर तुम कुछ भी नहीं कर सकते।"

इफिसियों 4:22, "तुम पिछले चालचलन के पुराने मनुष्यत्व को जो भरमानेवाली अभिलाषाओं के अनुसार भ्रष्ट होता जाता है, उतार डालो।"

फिलिप्पियों 4:13, "जो मुझे सामर्थ्य देता है उसमें मैं सब कुछ कर सकता हूँ।"

English



हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए



मैं एक मसीही विश्‍वासी हूँ, जिसे धूम्रपान करने की आदत है?