मसीही ध्यान क्या है?



प्रश्न: मसीही ध्यान क्या है?

उत्तर:
भजन संहिता 19:14 कहता है, "मेरे मुँह के वचन और मेरे हृदय का ध्यान तेरे सम्मुख ग्रहण योग्य हों, हे यहोवा परमेश्‍वर, मेरी चट्टान और मेरे उद्धार करनेवाले।" अब, मसीही ध्यान या चिन्तन क्या है, और कैसे मसीही विश्‍वासियों को ध्यान लगाना चाहिए? दुर्भाग्य से शब्द "ध्यान" में किसी तरह के कोई रहस्य होने की सूचना पाई जाती है। कुछ लोगों के लिए, ध्यान एक असामान्य स्थिति में बैठते हुए मन को शुद्ध करना होता है। जबकि अन्यों के लिए, हमारे चारों के आत्मा के संसार के साथ वार्तालाप को स्थापित करना होता है। इस तरह की धारणाएँ निश्चित रूप से मसीही ध्यान को प्रगट नहीं करती हैं।

मसीही ध्यान का किसी भी ऐसे अभ्यास से कोई लेना देना नहीं जिनके ऊपर पूर्वी रहस्यवाद की नींव खड़ी हुई हैं। ऐसी प्रथाओं में लैक्टो डिवाईना, भावातीत ध्यान, और कई अन्य स्वरूप सम्मिलित हैं, जिन्हें चिन्तनशील प्रार्थना कह कर पुकारा जाता है। ये सभी उनके मूल में ही खतरनाक हैं, जिसमें हमें "परमेश्‍वर की आवाज़ सुनने" की आवश्यकता है, परन्तु उनके वचन के माध्यम से नहीं, अपितु ध्यान के द्वारा व्यक्तिगत प्रकाशन के द्वारा। कुछ कलीसियाएँ ऐसे ही लोगों के द्वारा भरी पड़ी हैं, जो यह सोचते हैं कि वे "प्रभु की ओर से वचन" को सुन रहे हैं, जो अक्सर एक दूसरे के विरोधाभासी होते हैं, और इसलिए मसीह की देह के भीतर न समाप्त होने वाले विभाजन का कारण बनते हैं। मसीही विश्‍वासियों को परमेश्‍वर के वचन का त्याग नहीं करना चाहिए, जो कि "परमेश्‍वर की प्रेरणा से रचा गया है, और उपदेश, और समझाने, और सुधारने और धार्मिकता की शिक्षा के लिए लाभदायक है, ताकि परमेश्‍वर का जन सिद्ध बने और हर एक भले काम के लिये तत्पर हो जाए" (2 तीमुथियुस 3:16-17)। यदि बाइबल हमें प्रत्येक भले कार्य को करने के लिए पूर्ण रीति से सुसज्जित है, तब कैसे हम यह सोच सकते हैं कि हमें इसकी अपेक्षा या इसके अतिरिक्त एक रहस्यवादी अनुभव की आवश्यकता है?

मसीही ध्यान केवल परमेश्‍वर के वचन और जो कुछ यह उसके बारे में प्रकाशित करता है, के ऊपर ही आधारित होना चाहिए। दाऊद ने ऐसा ही जाना था, और वह वर्णन करता है कि एक व्यक्ति "धन्य" है जो उसकी "यहोवा की व्यवस्था से प्रसन्न रहता और व्यवस्था पर रात दिन ध्यान करता रहता है" (भजन संहिता 1:2)। सच्चा मसीही ध्यान एक सक्रिय विचार प्रक्रिया है, जिसके द्वारा हम स्वयं को परमेश्‍वर के वचन के अध्ययन के लिए दे देते हैं, इसके ऊपर प्रार्थना करते और परमेश्‍वर से आत्मा के द्वारा इसे समझने के लिए सहायता माँगते हैं, जो हमें "सारे सत्य में" मार्गदर्शन देने के लिए प्रतिज्ञा दी है (यूहन्ना 16:13)। तब हम इस सच्चाई को अभ्यास में लागू करते हुए, स्वयं को पवित्रशास्त्र के प्रति जीवन के नियम के रूप समर्पित कर देते हैं, और इसे दैनिक गतिविधियाँ में हिस्सा लेते हुए अभ्यास में लाते हैं। जब हमें उसके पवित्र आत्मा के द्वारा शिक्षा मिलती है तब यह परमेश्‍वर की बातों में आत्मिक वृद्धि और परिपक्वता को ले आता है ।



हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए



मसीही ध्यान क्या है?