नृत्य के बारे में बाइबल क्या कहती है? क्या मसीही विश्‍वासियों को नाचना चाहिए?


प्रश्न: नृत्य के बारे में बाइबल क्या कहती है? क्या मसीही विश्‍वासियों को नाचना चाहिए?

उत्तर:
बाइबल नाचने के बारे में कोई विशेष निर्देश नहीं देती है। अच्छे और बुरे नाच के कुछ उदाहरणों को इंगित करने में अधिक सहायक हो सकता है, और तत्पश्चात् बाइबल के कुछ सिद्धान्तों का उल्लेख जिससे नृत्य के लिए मापदण्डों का निर्माण हो सके। निर्गमन 32:6, 19-25 — इस्राएल के इतिहास का एक निराशाजनक अंश है। जब मूसा परमेश्‍वर से बात करने के लिए पहाड़ी के ऊपर था, तब इस्राएलियों ने एक मूर्ति बनाई थी। मूर्ति पूजा की प्रक्रिया में, उन्होंने नृत्य करना आरम्भ किया था। इसका अन्त "खेलने" (वचन 6) में और "नियन्त्रण से बाहर" होने में हुआ (वचन 25 कुछ अनुवादों में यहाँ "नग्न" होना कहा गया है)। इस घटना में, नृत्य उन्हें पापी गतिविधियों की ओर ले गया। निर्गमन 15:20 में परमेश्‍वर अपने सामर्थ्य से लाल सागर से पार ले आया, उसके उत्सव में मरियम नाच रही थी। दूसरा शमूएल 6:12-16-दाऊद ने "यहोवा के सामने नाचकर" वाचा के सन्दूक का यरूशलेम में लौट आने के उत्सव को मनाया था।

नृत्य के प्रत्येक उदाहरण को पाप से भरा हुआ कार्य नहीं माना जाता है, जिसे आराधना में या परमेश्‍वर की प्रशंसा में किया गया था। नृत्य के बारे में ध्यान देने के लिए कुछ और सिद्धान्त दिए गए हैं: सभोपदेशक 3:4 — नृत्य करने के लिए एक उपयुक्त समय है (और नृत्य के लिए एक अनुचित समय भी है)। भजन संहिता 149:3; 150:4 — दोनों सन्दर्भ उल्लेख करते हैं कि हम नृत्य के माध्यम से परमेश्‍वर की स्तुति या आराधना कर सकते हैं। 1 कुरिन्थियों 6:19-20 — हमारी देह परमेश्‍वर से सम्बन्धित हैं, और यह पवित्र आत्मा का मन्दिर हैं। इसलिए हम जो कुछ करते हैं, उसे उसके सम्मान में होना चाहिए।

स्वयं या स्वयं की देह की ओर आकर्षण को ले आने के लिए नृत्य करना पाप से भरा हुआ कार्य होगा। 1 कुरिन्थियों 7:1-3 में लेखक कहता है कि, "यह अच्छा है, कि पुरूष स्त्री को न छुए" (बी.एस.आई हिन्दी बाइबल)। पौलुस यह पहचान करता है कि पुरुषों के पास बहुत ही मजबूत यौन प्रेरणा होती है, जिससे उनके लिए उत्तेजित्त होना आसान होता है। इस कारण, विवाह से बाहर जोड़ों के रूप में नृत्य करना, विशेष रूप से एक पुरूष के लिए परीक्षा में डालने का कारण हो सकता है। "जवानी की अभिलाषाओं से भाग [जैसा कि बुरी इच्छाओं से भाग खड़ा हो] (2 तीमुथियुस 2:22)। कोई भी नृत्य जो स्वयं में या दूसरों में पापी इच्छाओं को उत्पन्न कर देती है, वह पाप है। मत्ती 18:6 — ऐसा कुछ करना, जो किसी और के लिए पाप करने की ठोकर बन जाए, वह पूर्ण रीति से अक्षम्य है। इस तरह से नृत्य करना जिससे कि कोई वासना में पड़कर ठोकर खाए, इस दिशानिर्देश के अन्तर्गत आते हैं। 1 थिस्सलुनीकियों 5:22 — यदि हम सुनिश्चित नहीं है कि एक नृत्य की स्थिति स्वीकार्य है, तो एक उपयोगी सिद्धान्त है : "सब प्रकार की बुराई से बचो।" यदि ऐसा प्रतीत होता है कि इससे पाप हो सकता है, तो ऐसा मत करो।

अन्त में, बहुत सारे नृत्य ऐसे हैं, जो उन विश्‍वासियों के लिए अनुपयुक्त हैं, जो अपने जीवन और अपने शरीर के साथ परमेश्‍वर की महिमा करने की चाहत रखते हैं। तथापि बाइबल स्वीकार करती है कि हम ऐसे तरीके से नृत्य कर सकते हैं, जो दूसरों को परीक्षा में डालने के लिए नहीं, स्वयं को परीक्षा में डालने के लिए नहीं होता, और परमेश्‍वर की महिमा ले आता है।

English
हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
नृत्य के बारे में बाइबल क्या कहती है? क्या मसीही विश्‍वासियों को नाचना चाहिए?