क्या ची का दृष्टिकोण मसीही विश्वास के अनुरूप है?


प्रश्न: क्या ची का दृष्टिकोण मसीही विश्वास के अनुरूप है?

उत्तर:
मनुष्य के भीतर व्यक्ति ची (इसे चा'ई या की शब्दों से भी लिखा जाता है) को "ऐसी ऊर्जा की सामर्थ्य के रूप में परिभाषित किया जा सकता है, जो सभी वस्तुओं को जीवन देती है।" ची का दृष्टिकोण ताओवाद से आता है, जो शिक्षा देता है कि किसी के आन्तरिक ची को विकसित और दृढ़ करने के द्वारा आध्यात्मिक और स्वास्थ्यदायी लाभ पाए जाते हैं। यह ध्यान, व्यायाम और अन्य तकनीकों के माध्यम से किया जाता है। पारम्परिक चीनी चिकित्सा, एक्यूपंक्चर, और ताई ची जैसी कुछ मार्शल कलाएँ शारीरिक, मानसिक, भावनात्मक और आध्यात्मिक स्तरों पर एक व्यक्ति के ची को सन्तुलित करने और उसे आगे बढ़ाने के अन्तिम उद्देश्य लिए हुए होती हैं।

अपनी परिभाषा के अनुसार, ची का दृष्टिकोण मसीही विश्वास के अनुरूप नहीं है। मसीही विश्वास का एक मूलभूत सिद्धान्त यह है कि परमेश्वर ने यीशु के माध्यम से सभी वस्तुओं का निर्माण किया है (उत्पत्ति 1:1 और यूहन्ना 1:1-4 को देखें)। यह परमेश्वर है, जो जीवन देता है, और परमेश्वर के द्वारा, यीशु में, सभी वस्तुएँ टिकी रहती हैं (देखें भजन संहिता 147:9 और कुलुस्सियों 1: 16-17)।

कुछ लोगों का तर्क है कि ची "जीवन" के लिए उपयोग होने वाला मात्र एक शब्द है, जिसे परमेश्वर ने आदम के नथनों में श्वास के रूप में फूँका था (उत्पत्ति 2:7)। परन्तु हम मसीही विश्वास में ची शब्द को रोपित नहीं कर सकते हैं, क्योंकि ची (ताओवाद) की पृष्ठभूमि में पाए जाना वाला दर्शन भी मसीही विश्वास के साथ असंगत है। उदाहरण के लिए, "परमेश्वर" का ताओवादी दृष्टिकोण यह है कि प्रत्येक व्यक्ति की अपनी परिभाषा है कि "परमेश्वर" क्या है, और प्रत्येक परिभाषा पूरी तरह से स्वीकार्य है - न कोई सही है और न ही कोई गलत है। मसीही विश्वास में, परमेश्वर लोगों की धारणाओं से परिभाषित नहीं गया है। इसकी अपेक्षा, परमेश्वर बताता है कि वह हमारे लिए कौन है (यिर्मयाह 29:13-14 को देखें)। जबकि परमेश्वर असीमित है और पूर्ण रूप से मानवीय समझ से परे है, उसने स्वयं के बारे में कुछ बातों को प्रगट किया है और वह व्यक्तिगत रूप से ज्ञात होने में सक्षम है। मसीही विश्वास में, परमेश्वर के साथ एक वास्तविक सम्बन्ध बनाए जाने के लिए यीशु मसीह ही एकमात्र तरीका है (यूहन्ना 14:5–7 को देखें)।

ची के दृष्टिकोण को आध्यात्मिक क्षेत्र से अलग नहीं किया जा सकता है। जब कोई आध्यात्मिक क्षेत्र की ओर आकर्षित होता है, तो वह या तो परमेश्वर या शैतानिक बातों का सामना करेगा। पुराने नियम में, परमेश्वर ने इस्राएल को कुछ भूत सिद्धि से सम्बन्धित प्रथाओं में संलग्न होने से मना किया था। यह उनकी अपनी सुरक्षा के लिए था; निषिद्ध प्रथाओं ने उन्हें शैतानिक शक्तियों के सम्पर्क में बनाए रखा होगा (व्यवस्थाविवरण 18:9-13 को देखें)।

आभासित प्रतीत होती निर्दोष प्रथाएँ, जैसे कि किसी के ची को सन्तुलित करना या दृढ़ करने का प्रयास करना, वास्तव में कुछ आभासित लाभों को उत्पन्न कर सकता है - या कम से कम "बुरे" प्रभाव को तो नहीं - परन्तु यदि वे अभ्यास बाइबल के वैश्विक दृष्टिकोण के अनुरूप नहीं हैं, तो उन्हें टाला जाना चाहिए। ची मसीह द्वारा प्रस्तुत किए गए जीवन के प्रकार का एक नकली मात्र है (देखें यूहन्ना 10:10)।

English
हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
क्या ची का दृष्टिकोण मसीही विश्वास के अनुरूप है?