स्वर्गदूत किसके सदृश होते हैं?


प्रश्न: स्वर्गदूत किसके सदृश होते हैं?

उत्तर:
स्वर्गदूत आत्मिक प्राणी होते हैं (इब्रानियों 1:14), इसलिए उनके पास अनिवार्य रूप से कोई भौतिक स्वरूप नहीं होता है। परन्तु स्वर्गदूत के पास भौतिक स्वरूप में प्रगट होने की योग्यता होती है। जब स्वर्गदूत बाइबल में मनुष्य के सामने प्रगट हुए, तो वे सामान्य पुरूषों के सदृश थे। उत्पत्ति 18:1-19 में, परमेश्‍वर और उसके दो स्वर्गदूत पुरूष के रूप में प्रगट हुए और उन्होंने अब्राहम के साथ वास्तव में भोजन किया। स्वर्गदूत पुरूषों को रूप में कई बार पूरी बाइबल में प्रगट हुए हैं (यहोशू 5:13-14; मरकुस 16:5), और वे कभी भी स्त्रियों को स्वरूप में प्रगट नहीं हुए हैं।

अन्य समयों में, स्वर्गदूत मनुष्य के रूप में प्रगट नहीं हुए, अपितु अन्य संसार के प्राणियों की तरह प्रगट हुए हैं, और उनका स्वरूप उनके लिए भय से भर देने वाला था, जिनका सामना उनसे हुआ था। अक्सर, इन स्वर्गदूतों की ओर से बोले जाने वाले प्रथम शब्द "मत डर" थे, क्योंकि एक सामान्य प्रतिक्रिया में अत्यधिक भय पाया जाता था। यीशु की कब्र को रखवाले उस समय मृतक मनुष्यों की तरह हो गए जब उन्होंने प्रभु के स्वर्गदूत को देखा (मत्ती 28:4)। लूका 2 में वर्णित मैदानों में रखवाली करते हुए चरवाहे "अत्यधिक भय" से भर गए थे, जब उनके सामने प्रभु का स्वर्गदूत प्रगट हुआ था और प्रभु की महिमा उनके चारों ओर प्रगट हो रही थी।

जहाँ तक शारीरिक गुणों की बात है, स्वर्गदूतों को कई बार पंखों के साथ होना वर्णित किया गया है। वाचा के सन्दूक के ऊपर करूबों के चित्रों में पंख लगे हुए थे, जिन्होंने दया के सिंहासन को ढका हुआ था (निर्गमन 25:20)। यशायाह ने स्वर्ग के सिंहासन के अपने दर्शन में सारापों को देखा था, जिनमें से प्रत्येक के छ: पँख थे (यशायाह 6:2)। यहेजकेल ने भी, पंखों वाले स्वर्गदूतों को अपने दर्शनों में देखा था। यशायाह 6:1-2 स्वर्गदूतों को मानवीय गुणों — आवाज, चेहरा और पैरों के साथ होना प्रगट करता है। स्वर्गदूत की आवाजों को कई अन्य सन्दर्भों में परमेश्‍वर के लिए भजन गाते हुए और स्तुति करते हुए सुना गया है। एक स्वर्गदूत के बारे में पूर्ण विवरणों में एक दानिय्येल 10:5-6: "तब मैं ने आँखें उठाकर देखा, कि सन का वस्त्र पहिने हुए, और ऊफाज देश के कुन्दन से कमर बान्धे हुए एक पुरूष खड़ा है। उसका शरीर फीरोज़ा के समान, उसका मुख बिजली के समान, उसकी आँखें जलते हुए दीपक की सी, उसकी बाहें और पाँव चमकाए हुए पीतल के से, और उसके वचनों के शब्द भीड़ों के शब्द का सा था।" यीशु की कब्र पर मिलने वाला स्वर्गदूत का भी वर्णन इसी तरह किया गया है: "उसका रूप बिजली का सा और उसका वस्त्र पाले के समान उज्जवल था" (मत्ती 28:3)।

स्वर्गदूत चाहे किसी भी तरह का रूप धारण करें, विश्‍वास करने के लिए ऐसे कारण मिलते हैं कि वे अद्भुत रीति से सुन्दर हैं। यहेजकेल हमें बताती है कि लूसीफर अपनी सुन्दरता के कारण ही "घमण्ड से भर" उठा था। इसके अतिरिक्त, स्वर्गदूतों जैसे प्राणी होने के कारण, जो निरन्तर परमेश्‍वर की उपस्थिति में रहते हैं, असाधारण सुन्दरता के होने की अपेक्षा इसलिए की जाती है, क्योंकि परमेश्‍वर की महिमा, जो कुछ उसके चारों ओर है, उसके ऊपर प्रतिबिम्बित होती है।

English
हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
स्वर्गदूत किसके सदृश होते हैं?