प्रभु का दूत कौन है?



प्रश्न: प्रभु का दूत कौन है?

उत्तर:
"प्रभु के दूत" की सटीक पहचान बाइबल में कहीं भी नहीं दी गई है। तथापि, उसकी पहचान के कई महत्वपूर्ण "सुराग" हमें मिलते है। "प्रभु का दूत" "प्रभु के दूत" या "यहोवा के एक दूत " के बारे में पुराने और नए नियम में हमें कई संदर्भ मिलते हैं। ऐसा जान पड़ता है कि जब इस "का" नाम के इस निश्चित शब्द का उपयोग हुआ है, जो यह एक विशेष प्राणी, जो स्वर्गदूतों से भिन्न है, की ओर संकेत कर रहा है। प्रभु का दूत परमेश्‍वर की तरह बोलता है, स्वयं की पहचान परमेश्‍वर के साथ करता है, और परमेश्‍वर के दायित्वों को पूर्ण करता है (उत्पत्ति 16:7-12; 21:17-18; 22:11-18; निर्गमन 3:2; न्यायियों 2:1-4; 5:23; 6:11-24; 13:3-22; 2 शमूएल 24:16; जकर्याह 1:12; 3:1; 12:8)। इन प्रगटीकरण में से अधिकांश में, जिन्होंने प्रभु के दूत को देखा, उनमें अपने जीवन को लेकर भय उत्पन्न हो गया था क्योंकि उन्होंने "प्रभु को देखा" था। इसलिए, यह स्पष्ट है कि कम से कम कुछ उदाहरणों में, तो प्रभु का दूत एक ईश-प्रकाशन था, अर्थात् परमेश्‍वर का शरीर में प्रगट होना।

मसीह के देहधारण के पश्चात् प्रभु के दूत के प्रगटीकरण घटित होने बन्द हो गए। नए नियम में स्वर्गदूतों को असँख्य बार उल्लिखित किया गया है, परन्तु "प्रभु का दूत" वाक्यांश का उल्लेख मसीह के जन्म लेने के पश्चात् नए नियम में कहीं पर भी नहीं मिलता है। मत्ती 28:2 को लेकर थोड़ी सी उलझन पाई जाती है, जहाँ पर हिन्दी की बाइबल "प्रभु के दूत" को स्वर्ग की ओर से आया हुआ और यीशु की कब्र से पत्थर को लुढ़का हुआ होने का वर्णन करती है। इस बात पर ध्यान दिया जाना अति महत्वपूर्ण है कि मूल यूनानी में स्वर्गदूत से पहले इसके विशेष पहचान के लिए किसी भी निश्चित शब्द का उपयोग नहीं किया गया है; इसलिए यह "स्वर्गदूत" या "एक स्वर्गदूत" हो सकता है, परन्तु विशेष पहचान दिए जाने के लिए अनुवादकों के द्वारा विशेष शब्द का उपयोग किया जाना चाहिए। हिन्दी की बाइबल के अतिरिक्त अन्य उपलब्ध हिन्दी अनुवादों में भी यह "एक ही स्वर्गदूत" के रूप में अनुवाद किया गया है, जो कि उत्तम रीति से लिखा हुआ वाक्यांश है।

ऐसा सम्भव है कि प्रभु के दूत के प्रगटीकरण यीशु के देहधारण से पहले के प्रगटीकरण थे। यीशु ने स्वयं को "अब्राहम से पूर्व (यूहन्ना 8:58) अस्तित्व में होने की घोषणा की थी, इसलिए यह तर्कसंगत है कि वह संसार में पहले से ही कार्यरत् था और प्रगट हो रहा था। चाहे कुछ भी क्यों न हो, चाहे प्रभु का दूत मसीह के देहधारण-के-पूर्व प्रगटीकरण (मसीह-प्रकाशन) या पिता परमेश्‍वर का प्रगटीकरण (ईश-प्रकाशन) ही क्यों न हो, इसकी सम्भावना अधिक है कि "प्रभु का दूत" वाक्यांश अधिकत्तर परमेश्‍वर के शारीरिक प्रगटीकरण की पहचान कराता है।



हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए



प्रभु का दूत कौन है?