क्या स्वर्गदूतों की छोटी मूर्तियाँ को अपने पास रखना गलत है?


प्रश्न: क्या स्वर्गदूतों की छोटी मूर्तियाँ को अपने पास रखना गलत है?

उत्तर:
स्वयं और अपने में, स्वर्गदूतों की छोटी मूर्तियों को अपने पास रखना कुछ भी गलत नहीं है। कैसे एक व्यक्ति एक स्वर्गदूत की छोटी मूर्ति को देखता है, यही निर्धारित करता है कि क्या यह गलत है या नहीं। केवल एकमात्र कारण यही है कि स्वर्गदूतों की छोटी मूर्तियाँ गलत हो सकती हैं, यदि कोई व्यक्ति उन्हें अपना ईष्ट अर्थात् देवता बना लेता, उनसे प्रार्थना करता, या उनकी आराधना करता है, जिसे परमेश्‍वर ने वर्जित ठहराया है (1 शमूएल 12:21)। हम न तो स्वर्गदूतों और न ही स्वर्गदूतों की छोटी मूर्तियाँ की आराधना करते हैं। केवल परमेश्‍वर ही आराधना के योग्य है (भजन संहिता 99:5; लूका 4:8), और हमें केवल पूर्ण रीति से उस ही के ऊपर निर्भर रहना है (भजन संहिता 9:10)। बाइबल बड़ी दृढ़ता के साथ धार्मिक स्वरूपों के विरूद्ध बात करती है। परिणामस्वरूप, मसीही विश्‍वासियों को किसी भी चित्र की आराधना न करने के प्रति सचेत रहना चाहिए, चाहे वह एक स्वर्गदूत की छोटी मूर्ति, यीशु का चित्र, क्रिसमस का बैतलहम वाला चित्र इत्यादि ही क्यों न हो, जिससे की वह ध्यान भंग होने या फँदे का कारण न बन जाए।

जबकि स्वर्गदूतों की छोटी मूर्तियों के द्वारा स्वर्गदूतों या किसी अन्य प्राणियों के प्रस्तुतिकरण में पाप जैसी कोई बात नहीं है, तथापि, हमें उनमें अलौकिक सामर्थ्य होने या हमारे जीवनों के ऊपर उनके प्रभाव होने के रूप में योग्यता प्रदान नहीं करनी चाहिए। स्वर्गदूतों की कोई भी छोटी मूर्ति हमें नुक्सान होने से सुरक्षा प्रदान करने, हमारे लिए अच्छे भाग्य को लाने, या किसी भी तरह से हमें प्रभावित करने में कुछ भी सहायता प्रदान नहीं कर सकती है। ऐसी मान्यताएँ अँधविश्‍वास मात्र है, जिनका एक मसीही विश्‍वासी के जीवन में कोई स्थान नहीं है। अँधविश्‍वास से सम्बन्धित कुछ भी मूर्तिपूजा है, और मूर्तिपूजा को पवित्र शास्त्र में स्पष्ट रूप से मना किया गया है, और कोई भी जो ऐसा नहीं करता परमेश्‍वर के राज्य में प्रवेश करेगा (प्रकाशितवाक्य 21:27)।

इसके अतिरिक्त, यह पहचान करनी बुद्धिमानी होगी कि हम वास्तव में नहीं जानते हैं कि स्वर्गदूत कैसे दिखाई देते हैं। स्वर्गदूतों की छोटी मूर्तियाँ किसी व्यक्ति का विचार है कि हो सकता है, स्वर्गदूत ऐसे दिखाई देते होंगे।

English
हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
क्या स्वर्गदूतों की छोटी मूर्तियाँ को अपने पास रखना गलत है?