लूसीफरवाद क्या है?


प्रश्न: राशिफल का उद्देश्य किसी व्यक्ति के चरित्र और भविष्य की भविष्यवाणी में?

उत्तर:
एक देवता के रूप में लूसीफर की पूजा करना या उसे सम्मान देना एक प्रकार का लूसीफरवाद है। ऐसा धर्म शैतानवाद से सम्बन्धित है - यद्यपि यह लूसीफर के अधिक "सकारात्मक" पहलुओं पर जोर देने का प्रयास करता है। एक अन्य प्रकार का लूसीफरवाद देवता में विश्वास का न पाया जाना मिलता है और यह लूसीफर को ज्ञान और आत्मबोध के लिए मानव जाति की खोज के प्रतीक से ज्यादा कुछ नहीं मानता है।

"लूसीफर" नाम यशायाह 14:12 के अनुवाद से आता है। इसका शाब्दिक अर्थ है "उज्ज्वल सितारा, चमकता हुआ तारा, या सुबह के तारे" से है, अधिकांश विद्वान इसे परमेश्वर के विरूद्ध विद्रोह से पहले शैतान के विवरण के रूप में देखते हैं। यशायाह 14 और यहेजकेल 28 जैसे सन्दर्भ शिक्षा देते हैं कि शैतान को प्रधान स्वर्गदूत के रूप में, स्वर्गदूतों से सबसे अधिक सुन्दर बनाया गया था, परन्तु परमेश्वर के सिंहासन को पाने के लिए उसके घमण्ड और लालसा के परिणामस्वरूप उसे स्वर्ग से बाहर निकाल दिया गया और उसे "शैतान" का नाम दिया गया (जिसका अर्थ "विरोधी" से है)।

लूसीफरवाद के पहले प्रकार में वास्तव में इस संसार के देवता के रूप में शैतान की आराधना से अधिक कुछ नहीं है (2 कुरिन्थियों 4:4)। शैतान को ज्ञान और प्रकाश के रूप में सम्मानित किया जाता है (2 कुरिन्थियों 11:14-15)। ध्यान बिन्दु उस "अच्छाई" के ऊपर है, जो लूसीफर में उसके द्वारा विद्रोह किए जाने से पहली थी, न कि बुराई और उस अन्धकार के ऊपर जो "शैतान" के नाम से जुड़ी हुई है। यद्यपि लूसीफर और शैतान एक ही व्यक्ति है, लूसीफरवाद उसे प्रकाश के देवता, ज्ञान के देवता, और जादू के देवता के रूप में चित्रित करता है। लूसीफरवादी स्वयं देवतागण बनने की इच्छा रखते हैं, जो कि ऐसी अवस्था है, जिसे भले जीवन को व्यतीत करने, ज्ञान की खोज करने, जादू का अभ्यास करने और एक व्यक्ति के मन में लूसीफर के चेतना मन को खोलने के द्वारा प्राप्त की जाती है। कई तरीकों में, लूसीफरवाद गूढ़ज्ञानवाद के अनुरूप पाया जाता है।

अन्य प्रकार का लूसीफरवाद, जो इस विचार को अस्वीकार करता है कि लूसीफर व्यक्ति है, अभी भी परमेश्वर की सच्चाई से हट कर आत्मबोध की खोज करना है। लूसीफरवादी स्वयं को प्रकाश और भलाई के प्रेमी के रूप में देख सकते हैं, परन्तु वे झूठ को अपना रहे होते हैं। शैतान को इस बात से कोई सरोकार नहीं है, कि लोग उस पर विश्वास करते हैं या नहीं; वह अभी भी उन्हें भटका सकता है।

ऐसे समूह जो लूसीफरवाद की शिक्षाओं का पालन करते हैं, कुछ और थोड़े ही हैं, यद्यपि लूसीफरवाद के तत्व मूसा की शिक्षाओं, विक्का या मूर्तिपूजक आधारित जादूविद्या और नया युगवादी दर्शन में पाए जाते हैं। चूंकि उनकी आपस में कोई सहमति नहीं है, इसलिए लूसीफरवादी मान्यताएँ एक समूह की तुलना दूसरे समूह से भिन्न होती हैं। लूसीफरवाद के अनुयायियों के बीच विभिन्न प्रकार की मान्यताओं ने सामान्य रूप से इस धारणा में योगदान प्रदान किया है कि लूसीफरवाद केवल शैतानवाद का ही एक उप-समूह है, जो कि एक प्रकार के निम्न स्तर के मूल्य को रखता है। यद्यपि कुछ अनुयायी इस तरह के दावे का इन्कार शीघ्रता के साथ करते हैं, तथापि लुसीफरवाद को वर्गीकृत करना कठिन है।

एक बात तो निश्चित है कि: लूसीफर/शैतान एक ऐसा प्राणी नहीं है, जिसकी आराधना की जानी चाहिए, न ही उसे किसी तरह से हल्के रूप में लिया जा सकता है। वह बहुत ही अधिक शक्तिशाली और हमारी आत्माओं का शत्रु है। बाइबल उसे "शैतान [जो] गर्जनेवाले सिंह के समान इस खोज में रहता है कि किस को फाड़ खाए" (1 पतरस 5:8) के रूप में वर्णन करती है। जो लोग उसके कार्यों में उसके साथ सम्मिलित हो जाते हैं, उन्हें अन्ततः पछताना ही पड़ेगा, क्योंकि वह उनकी आत्माओं को उसकी आराधना के कारण प्रतिफल के रूप में फाड देगा। पतरस ने परामर्श दिया है कि, "विश्वास में दृढ़ रहो ..." (1 पतरस 5:9)। वह उस विश्वास की बात करता है, जिसका अर्थ यीशु मसीह में परमेश्वर और उद्धारकर्ता के रूप में विश्वास करना है, क्योंकि वही एकमात्र हमें नरक से बचा सकता है, जो कि यीशु को उद्धारकर्ता के रूप में अस्वीकार करने वाले सभी लोगों का अन्तिम गंतव्य है।

English
हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
लूसीफरवाद क्या है?