प्रभु भोज/सहभागिता का आयोजन कितनी बार होना चाहिए?


प्रश्न: प्रभु भोज/सहभागिता का आयोजन कितनी बार होना चाहिए?

उत्तर:
बाइबल कहीं पर भी हमें निर्देश नहीं देती है कि हमें कितनी बार सहभागिता अर्थात् प्रभु भोज में भाग लेना चाहिए। 1 कुरिन्थियों 11:23-26 प्रभु भोज के लिए सम्बन्ध में निम्नलिखित निर्देशों को लिपिबद्ध करता है: "क्योंकि यह बात मुझे प्रभु से पहुँची, और मैं ने तुम्हें भी पहुँचा दी कि प्रभु यीशु ने जिस रात वह पकड़वाया गया, रोटी ली, और धन्यवाद करके तोड़ी और कहा, 'यह मेरी देह है, जो तुम्हारे लिये है : मेरे स्मरण के लिये यही किया करो।' इसी रीति से उसने बियारी के पीछे कटोरा भी लिया और कहा, 'यह कटोरा मेरे लहू में नई वाचा है : जब कभी पीओ, तो मेरे स्मरण के लिये यही किया करो।' क्योंकि जब कभी तुम यह रोटी खाते और इस कटोरे में से पीते हो, तो प्रभु की मृत्यु को जब तक वह न आए, प्रचार करते हो।" यह सन्दर्भ हमें उन सभी निर्देशों को देता है, जिन्हें हमें प्रभु भोज के विधान को पूरा करने के लिए और हम जो कर रहे हैं, उसके महत्व को समझने के लिए आवश्यक हैं।

यीशु ने जिस रोटी को तोड़ा, वह उसके शरीर को दर्शाती है, जो हमारे लिए क्रूस पर तोड़ा गया था। प्याला उस लहू का प्रतिनिधित्व करता है, जो उसने हमारी ओर से बहाया, जिस से उसके और हमारे मध्य एक वाचा को मुहरबन्द कर दिया गया। प्रत्येक बार जब भी हम प्रभु भोज को लिए जाने के आदेश का पालन करते हैं, तो हम केवल यही स्मरण नहीं करते कि उसने हमारे लिए क्या किया है, परन्तु हम उन सभी बातों को भी "दिखा रहे हैं" जिन्हें सभी देखते हैं और जिनमें सभी भाग लेते हैं। प्रभु भोज जो कुछ क्रूस के ऊपर घटित हुआ था, उसका क्या अर्थ है और यह हमारे जीवन को विश्‍वासियों के रूप में कैसे प्रभावित करता है, का एक सुन्दर चित्र है।

ऐसा प्रतीत होता है, कि क्योंकि हम मसीह की मृत्यु को स्मरण रखने के लिए प्रभु भोज को लेते हैं, इसलिए हमें इसे अक्सर लेना चाहिए। कलीसियाओं में मासिक रूप से प्रभु भोज की आराधना की सेवा का आयोजन किया जाता है; अन्यों में इसे द्वि-मासिक रूप से; और अन्यों में साप्ताहिक रूप से किया जाता है। क्योंकि बाइबल हमें इसकी आवृत्ति के रूप में विशेष निर्देश नहीं देती है, इसलिए कुछ छूट पाई जाती है कि एक कलीसिया में कितनी बार प्रभु भोज का आयोजन किया चाहिए। यह पर्याप्त रूप से अक्सर मसीह के ऊपर ध्यान केन्द्रित करने के लिए होना चाहिए, अक्सर ऐसा हुए बिना ही यह एक नित्य-कर्म जैसा बन जाता है। चाहे कुछ भी क्यों न हो, यह आवृत्ति नहीं है जो महत्वपूर्ण है. अपितु इसमें भाग लेने वालों के मन का व्यवहार है। हमें प्रभु यीशु के प्रति आदर, प्रेम और कृतज्ञता के साथ भाग लेना चाहिए, जो हमारे पापों को अपने ऊपर लेते हुए क्रूस पर मरने के लिए तैयार था।

English


हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
प्रभु भोज/सहभागिता का आयोजन कितनी बार होना चाहिए?