क्या यीशु सृष्टिकर्ता है?


प्रश्न: क्या यीशु सृष्टिकर्ता है?

उत्तर:
उत्पत्ति 1:1 कहता है कि "आदि परमेश्‍वर ने आकाश और पृथ्वी की सृष्टि की।" इसके पश्‍चात्, कुलुस्सियों 1:16 में अतिरिक्त विवरण गया दिया कि परमेश्‍वर ने यीशु मसीह के द्वारा "सब कुछ" रचा है। पवित्रशास्त्र की स्पष्ट शिक्षा इस तरह से यह है कि यीशु ब्रह्माण्ड का सृष्टिकर्ता है।

त्रिएक परमेश्‍वर के रहस्य को समझना कठिन है, तौभी यह पवित्रशास्त्र में प्रकट सिद्धान्तों में से एक है। बाइबल में, परमेश्‍वर पिता और यीशु दोनों को चरवाहा, न्यायी और उद्धारकर्ता कह कर पुकारा गया है। दोनों को एक ही वचन में - बेधा हुआ एक कहा गया है (जकर्याह 12:10)। मसीह परमेश्‍वर पिता का सटीक प्रतिनिधित्व है, उसके पास वही स्वभाव है (इब्रानियों 1:3)। इसमें कुछ ऐसा भाव पाया जाता है कि जो कुछ पिता करता है, पुत्र और आत्मा भी करते हैं, और ऐसा ही इसके विपरीत भी है। वे प्रत्येक क्षण सदैव आपसी सम्मति में रहते हैं, और सभी तीन बराबर होते हुए भी एक ही परमेश्‍वर है (व्यवस्थाविवरण 6:4)। यह जानते हुए कि मसीह परमेश्‍वर है और उसके पास परमेश्‍वर के सारे गुण हैं, हमारी समझ को उसके प्रति सृष्टिकर्ता के रूप में खोल देते हैं।

"आदि में वचन था, और वचन परमेश्‍वर के साथ था, और वचन परमेश्‍वर था" (यूहन्ना 1:1)। यीशु और पिता के बारे में इस सन्दर्भ में तीन महत्वपूर्ण बातें पाई जाती हैं:1) यीशु "आदि में" था - वह सृष्टि की रचना के समय उपस्थित था। यीशु परमेश्‍वर के साथ सदैव अस्तित्व में था। 2) यीशु पिता से भिन्न है - वह "परमेश्‍वर" के साथ था। 3) यीशु अपने स्वभाव में परमेश्‍वर के तुल्य है - वह "परमेश्‍वर है।"

इब्रानियों 1:2 कहता है, "इन अन्तिम दिनों में हम से पुत्र के द्वारा बातें कीं, जिसे उसने सारी वस्तुओं का वारिस ठहराया और उसी के द्वारा उसने सारी सृष्‍टि की रचना की है।" मसीह परमेश्‍वर की सृष्टि का मध्यस्थ है; संसार को "उसके द्वारा ही से" रचा गया था। पिता और पुत्र सृष्टि के कार्य में दो भूमिकाओं को पूरा करते हैं, तौभी वे ब्रह्माण्ड को अस्तित्व में लाने के लिए एक साथ काम करते हैं। यूहन्ना कहता है, "सब कुछ उसी [यीशु] के द्वारा उत्पन्न हुआ, और जो कुछ उत्पन्न हुआ है उसमें से कोई भी वस्तु उसके [यीशु] बिना उत्पन्न नहीं हुई" (यूहन्ना 1:3)। प्रेरित पौलुस दोहराता है: "एक ही परमेश्‍वर है : अर्थात् पिता जिसकी ओर से सब वस्तुएँ हैं, और हम उसी के लिये हैं। और एक ही प्रभु है, अर्थात् यीशु मसीह जिसके द्वारा सब वस्तुएँ हुईं, और हम भी उसी के द्वारा हैं" (1 कुरिन्थियों 8:6)।

पवित्र आत्मा, त्रिएक्तव का तीसरा व्यक्ति भी सृष्टि में एक मध्यस्थ था (उत्पत्ति 1:2)। क्योंकि "आत्मा" के लिए इब्रानी शब्द का अनुवाद अक्सर "हवा" या "श्‍वास" के रूप में किया जाता है, इसलिए हम एक सन्दर्भ में त्रिएक्तव के सभी तीनों व्यक्तियों की गतिविधि को देख सकते हैं: "आकाशमण्डल यहोवा के वचन से, और उसके सारे गण उसके मुँह की श्‍वास से बने हैं" (भजन संहिता 33:6)। पवित्रशास्त्र के पूर्ण अध्ययन के बाद, हम निष्कर्ष निकाल सकते हैं कि परमेश्‍वर पिता ही सृष्टिकर्ता है (भजन संहिता 102:25), और उसने यीशु, परमेश्‍वर पुत्र के द्वारा सृष्टि की रचना की है (इब्रानियों 1:2)।

English
हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए
क्या यीशु सृष्टिकर्ता है?