क्या यीशु के भाई बहिन (रिश्तेदार) थे?



प्रश्न: क्या यीशु के भाई बहिन (रिश्तेदार) थे?

उत्तर:
यीशु के भाइयों के बारे में बाइबल के कई वचनों में उल्लेख मिलता है। मत्ती 12:46, लूका 8:19, और मरकुस 3:31 कहते हैं कि यीशु के भाई और उसकी माता उससे मिलने के लिए आए थे। बाइबल बताती है कि यीशु के चार भाई थे: याकूब, यूसुफ, शिमौन और यहूदा (मत्ती 13:55) । बाइबल यह भी बताती है कि यीशु की बहिनें भी थीं, परन्तु न तो उनके नाम बताए गए हैं न ही उनकी गिनती दी गई है (मत्ती 13:56)। यूहन्ना 7:1-10, में उसके भाई पर्व मनाने के लिए आगे चले जाते हैं और वह पीछे ठहर जाता है। प्रेरितों के काम 1:14, में उसके भाइयों का विवरण शिष्यों के साथ प्रार्थना करते हुए दिया गया है। गलातियों 1:19 उल्लेख करता है कि याकूब यीशु का भाई था। इन संदर्भों को सबसे स्वाभाविक निष्कर्ष यह व्याख्या करना है कि यीशु के सगे रिश्तेदार वास्तव में सौतेले रिश्तेदार थे।

कुछ रोमन कैथोलिक कलीसियाएँ दावा करती हैं कि ये "भाई" वास्तव में यीशु के चचेरे भाई थे। तथापि, प्रत्येक उदाहरण में, "भाई" के लिए विशेष यूनानी का उपयोग किया गया है। जबकि यह शब्द अन्य रिश्तेदारों के लिए भी उद्धृत किया जा सकता है, इसका शाब्दिक और सामान्य अर्थ एक ही माता से उत्पन्न हुए भाई का है। "चचेरे भाई" के लिए अलग से यूनानी शब्द मिलता है, और इसका उपयोग नहीं किया गया है। इसके अतिरिक्त, यदि वे यीशु के चचेरे भाई होते, तो उनका वर्णन यीशु की माता मरियम के साथ होने के लिए क्यों किया गया है? इस संदर्भ में कुछ भी ऐसा नहीं मिलता की उसके भाई और माता का उससे मिलने आना ऐसा संकेत भी देता हो कि वे उसके शाब्दिक, सगे-सम्बन्धी, सौतेले भाई छोड़कर कुछ और थे।

रोमन कैथोलिक कलीसिया का दूसरा तर्क यह है कि यीशु के भाई और बहिन यूसुफ के पहले विवाह से हुई सन्तान थे। इस पूरी कहानी, यूसुफ मरियम से उम्र में विशेष रूप से ज्यादा बड़ा था, पहले कभी विवाहित रहा था, उसके कई बच्चे थे, मरियम को विवाह करने से पहले ही विधुर हो चुका था, को बाइबल के आधार के बिना अविष्कृत किया गया है। इस कहानी के साथ समस्या यह है कि बाइबल इसका थोड़ा सा भी संकेत नहीं देती की यूसुफ ने पहले कभी विवाह किया था और उसके मरियम को विवाह करने से पहले बच्चे हुए थे। यदि यूसुफ के पास मरियम से विवाह करने से पूर्व छ: बच्चे थे, तब उनका विवरण बैतलहम (लूका 2:4-7) या मिस्र (मत्ती 2:13-15) या वहाँ से वापस नासरत (मत्ती 2:20-23) की ओर की गई यूसुफ और मरियम की यात्रा के वृतान्त में क्यों नहीं मिलता?

ऐसा कोई भी बाइबल आधारित कारण विश्‍वास करने के लिए नहीं मिलता है कि ये बच्चे यूसुफ और मरियम की वास्तविक सन्तान को छोड़ और कुछ थे। वे लोग यीशु के सौतेले भाई और सौतेली बहिनें होने के इस विचार का विरोध करते हैं, वे ऐसा इसलिए करते हैं क्योंकि वे इसे पवित्रशास्त्र से नहीं, अपितु मरियम के स्थाई रूप से कुँवारी रहने की अपनी पूर्वधारण विचारधारा को पढ़ रहे हैं, जो स्वयं अपने आप में स्पष्ट रूप से बाइबल आधारित नहीं है: "और जब तक वह (मरियम) पुत्र न जनी तब तक वह (यूसुफ) उसके पास न गया : और उसने उसका नाम यीशु रखा" (मत्ती1:25)। यीशु के सौतेले रिश्तेदार, सौतेले भाई और सौतेली बहिनें थीं जो यूसुफ और मरियम की सन्ताने थीं। यही परमेश्‍वर के वचन की स्पष्ट और बिनी किसी अस्पष्टता के साथ दी हुई शिक्षा है।



हिन्दी के मुख्य पृष्ठ पर वापस जाइए



क्या यीशु के भाई बहिन (रिश्तेदार) थे?